राज्य

'योग के साथ प्राकृतिक रसों का सेवन करने से मिलता है दोगुना फायदा'

News18Hindi
Updated: June 19, 2017, 10:44 AM IST
'योग के साथ प्राकृतिक रसों का सेवन करने से मिलता है दोगुना फायदा'
योगा करते हुए राजस्थान के मंत्री वासुदेव देवनानी.
News18Hindi
Updated: June 19, 2017, 10:44 AM IST
राजस्थान के शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि प्राकृति ने हमारी स्वास्थ्य रक्षा के लिए कई महत्वपूर्ण अवयवों से नवाजा है.

प्राकृतिक फलों, सब्जियों और पौधों से मिलने वाले रस हमारे शरीर को न सिर्फ पुष्ट करते हैं बल्कि यह नाड़ी व रक्त की शुद्धता के लिए भी रामबाण औषधि है. साथ ही यह रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी वृद्धि करते हैं. इन प्राकृतिक रसों का सेवन योग के साथ करने से हमें दोगुना फायदा मिलता है.

शिक्षा राज्यमंत्री ने रविवार को अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर आयोजित योग शिविरों में यह बात कही. शिविरों में योग साधकों को एलोवेरा, आंवला, त्रिफला आदि फलों और पौधों के रस का वितरण कर इनका महत्व समझाया गया.

मंत्री देवनानी ने कहा कि यह प्राकृतिक रस हमारे स्वास्थ्य रक्षक हैं. योग के साथ इनका नियमित सेवन करना चाहिए. इससे शरीर पुष्ट होने के साथ ही आंतरिक रूप से भी निरोग रहेगा.

उन्होंने बताया कि योग शिविरों पर प्रतिदिन क्षेत्रवासियों की बढ़ती संख्या से स्पष्ट है कि मानसिक व शारीरिक स्वस्थता के प्रति हमारी सोच स्मार्ट हो रही है जो कि अजमेर को स्मार्ट सिटी बनाने में निश्चित रूप से सहायक साबित होगी.

उन्होंने कहा कि योग से हमारा शरीर तो स्वस्थ रहता ही है, साथ ही योग से हमारी एकाग्रता, क्रियाशीलता, सजगता में भी बढ़ोतरी होती है और हम अपनी दिनचर्या को सुव्यवस्थित बना पाते है जिससे हम चाहे जिस भी क्षेत्र में काम करते है उसमें निश्चित ही सुधार होता है.

शिविर संयोजक धर्मेन्द्र गहलोत ने बताया कि वार्ड 51 के शिविर संयोजक व पार्षद अनीश मोयल के पुत्र का सड़क दुर्घटना में आकस्मिक निधन होने से यहां का शिविर रविवार और सोमवार को स्थगित रहा. शेष स्थानों पर सोमवार को छठें दिन योग शिविर निर्धारित समयानुसार आयोजित हुए. सोमवार को योग के पश्चात शिविरार्थियों को अंकुरित अनाज का वितरण किया गया.
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर