राज्य

राजस्थान विधानसभा में मंत्री ने की 4900 सरकारी नौकरियों की घोषणा


Updated: March 21, 2017, 7:31 AM IST
राजस्थान विधानसभा में मंत्री ने की 4900 सरकारी नौकरियों की घोषणा
सरकारी नौकरियों पर लगे ग्रहण से हताश बेरोजगारों के लिए सोमवार को विधानसभा से नई नौकरियों की घोषणाएं राहत देने वाली साबित हो सकती

Updated: March 21, 2017, 7:31 AM IST
राजस्थान में सरकारी नौकरियों पर लगे ग्रहण से हताश बेरोजगारों के लिए सोमवार को विधानसभा से नई नौकरियों की घोषणाएं राहत देने वाली साबित हो सकती हैं.
कृषि एवं पशुपालन मंत्री डॉ. प्रभुलाल सैनी ने सोमवार को विधानसभा में कहा 900 पशु चिकित्सक एवं 4 हजार पशुधन सहायकों की भर्ती की जाएगी. इसके साथ ही उन्होंने कई अन्य घोषणाएं की गईं. कृषकों को फसलोत्तर प्रबन्धन एवं प्रसंस्करण तकनीकी के माध्यम से मूल्य संवर्धन की ओर अग्रसर करने के लिए उनके स्वयं की कृषि भूमि पर कृषि उत्पाद प्रसंस्करण एवं मूल्य संवर्धन इकाई स्थापित किए जाने पर अनुदान योजना लागू की जाएगी. इस योजना में बैंक के माध्यम से स्वीकृत परियोजना की राशि का 50 प्रतिशत अधिकतम 20 लाख रुपए प्रति इकाई अनुदान उपलब्ध कराया जाएगा. इस योजना के क्रियान्वयन हेतु राजस्थान राज्य कृषि विपणन बोर्ड के माध्यम से 10 करोड़ रुपए का बजट प्रावधान किया जाएगा.
किसानों की आमदनी दोगुना करने की कवायद
डॉ. सैनी ने विधानसभा में कहा कि किसानों की आमदनी को दोगुना करने के पूरे प्रयास किए जाएंगे. उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुना करने के लिए उत्पादकता और उत्पादन में वृद्धि करनी होगी. डॉ. सैनी सदन में मांग संख्या-37 कृषि एवं मांग संख्या-39 पशुपालन एवं चिकित्सा पर हुई बहस का जवाब दे रहे थे. बहस के बाद सदन ने कृषि की 27 अरब 48 करोड़, 13 लाख 83 हजार तथा पशुपालन एवं चिकित्सा की 8 अरब 66 करोड़ 32 लाख 50 हजार रुपए की अनुदान मांगें ध्वनिमत से पारित कर दीं.

ये भी पढ़ें- सरकारी नौकरी: आरक्षण की भेंट चढ़ीं 40 हजार भर्तियां, अधर में 30 लाख बेरोजगारों का भविष्य
ड्रमस्टिक खेती को दिया जाएगा बढ़ावा
उन्होंने कहा कि सरसों को नकारात्मक सूची से बाहर किया गया है, ताकि इस क्षेत्र में प्रसंस्करण उद्योगों को बढ़ावा मिल सके. उन्होंने बताया कि सरसों में एरयूक एसिड को कम करने के लिए सरसों अनुसंधान संस्थान और कृषि विश्वविद्यालयों के साथ मिलकर प्रयास किया जाएगा. कृषि मंत्री ने कहा कि राज्य में सहजने (ड्रमस्टिक) की खेती को बढ़ावा दिया जाएगा. उन्होंने सहजने की औषधीय गुणों का उल्लेख करते हुए इसे मानव स्वास्थ्य के लिए बेहद उपयोगी बताया. उन्होंने कहा कि सहजने का नियमित सेवन कई बीमारियों के लिए रामबाण दवा का काम कर सकता है.

ये भी पढ़ें- सरकारी नौकरी पार्ट 2: राजस्थान में डेढ़ लाख नौकरियों की बाढ़, फिर भी युवा बेरोजगार
प्रदेश के 35.52 लाख किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड जारी
डॉ. सैनी ने बताया कि मौजूदा सरकार ने फसल बीमा योजनाओं के तहत कंपनियों को दिए गए प्रीमियम की तुलना में अधिक बीमा क्लेम देने का काम किया है. उन्होंने बताया कि प्रदेश को गेहूं के उल्लेखनीय उत्पादन और उत्पादकता के लिए भारत सरकार द्वारा कृषि कर्मण अवार्ड प्रदान किया गया. उन्होंने उम्मीद व्यक्त की कि इस वर्ष राजस्थान को दलहन उत्पादन में भी कृषि कर्मण पुरस्कार मिलने की संभावना है. कृषि मंत्री श्री प्रभुलाल सैनी ने बताया कि प्रदेश के 35.52 लाख किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध करा दिए गए हैं, शेष किसानों को जल्द ही कार्ड उपलब्ध करा दिए जाएंगे. उन्होंने बताया कि परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत प्रदेश में जैविक खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है. अभी राज्य में 65 हजार हैक्टेयर में जैविक खेती की जा रही है, जिसे लगातार बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं.
First published: March 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर