राज्य

अदालत तक के आदेशों को नहीं मानते अफसर, सैकड़ों मामले चल रहे लंबित

ETV Rajasthan
Updated: May 20, 2017, 11:02 AM IST
अदालत तक के आदेशों को नहीं मानते अफसर, सैकड़ों मामले चल रहे लंबित
फाइल फोटो.
ETV Rajasthan
Updated: May 20, 2017, 11:02 AM IST
सरकारी विभाग कोर्ट के आदेशों को मानने में जरा भी विश्वास नहीं करते, यही वजह कि प्रदेश के 49 सरकारी विभागों और सरकारी एजेंसियों के खिलाफ अदालत की अवमानना के 3951 मामले चल रहे हैं.

अदालती आदेशों को नहीं मानने के ये मामले सुप्रीम कोर्ट से लेकर हाईकोर्ट और लोअर कोर्ट तक के हैं. अदालत की अवमानना में शिक्षा विभाग सबसे अव्वल है, जिसके खिलाफ 777 मामले चल रहे हैं.

हाईकोर्ट और लोअर कोर्ट अनेक मामलों में सरकारी विभागों और अफसरों को आदेश देते हैं, लेकिन लगता है अफसरशाही को इन आदेशों की जरा भी परवाह नहीं. यही वजह है कि विभागों के खिलाफ अदालती अवमानना के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं.

शिक्षा विभाग तो अदालती अवमानना सबसे अव्वल है ही, बाकी विभाग भी पीछे नहीं है. शिक्षा विभाग के बाद स्वायत्त शासन विभाग के खिलाफ सबसे ज्यादा 440 आदलती अवमानना के मामले चल रहे हैं.

जेडीए के खिलाफ 420, उच्च शिक्षा के खिलाफ 342 और राजस्व विभाग के खिलाफ 324 मामले चल रहे हैं. अदालत की अवमानना के मामले बढ़ते देख विधि विभाग ने सभी विभागों से विस्तार से रिपोर्ट मांगी है.

विधि विभाग ने रिपोर्ट में सभी विभागों से अदालत के आदेश की पालना नहीं करने के कारणों, कोर्ट में जवाब पेश नहीं करने वाले मामलों की संख्या और कारण बताने को कहा है.

अदालत की अवमानना के मामले बढ़ने से अफसरों की भूमिका पर गंभीर सवाल खड़े हो रहे है. सवाल यह उठता है कि जब अफसर अदालतों तक के आदेश नहीं मानते तो आम जनता की तो बिसात ही क्या है.
First published: May 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर