राज्य

राजस्थान पुलिस हर मोर्चे पर लोहा लेने के लिए तपते रेगिस्तान में खुद को कर रही तैयार

Asif | ETV Rajasthan
Updated: June 19, 2017, 4:11 PM IST
राजस्थान पुलिस हर मोर्चे पर लोहा लेने के लिए तपते रेगिस्तान में खुद को कर रही तैयार
फोटो-(ईटीवी)
Asif | ETV Rajasthan
Updated: June 19, 2017, 4:11 PM IST
राजस्थान पुलिस अब हर मोर्चे पर लोहा लेने के लिए खुद को तैयार कर रही है. जयपुर के पास चौमूं की मोरीजा फायरिंग रेंज में कड़ी धूप और तपते रेगिस्तान पर राजस्थान पुलिस की इंटेलीजेंस विंग ने बम विस्फोट और डिफ्यूज का कड़ा अभ्यास किया.

इसमें राजस्थान पुलिस के जवान और एनएसजी के कंमाडो शामिल हुए और हर आधुनिक बम की तकनीक को करीब से समझा. राजस्थान पुलिस के 40 जवान, दिल्ली से आए एनएसजी के कंमाडो और एक आईपीएस इस सबसे मुश्किल अभ्यास में शामिल हुए.

राजस्थान पुलिस में अब हर संभाग पर बम स्क्वॉयड की व्यवस्था की गई है जो कि किसी भी आपात स्थिती से निपटने में सक्षम हैं. इससे पहले यहां के जवानों को राज्य से बाहर जाकर ये ट्रैनिंग लेनी पड़ती थी, लेकिन अब ये व्यवस्था राजस्थान में है और यहीं के जवान बम मिलने की सूचना में बम को बतौर एक्सपर्ट आसानी से डिफ्यूज कर सकते हैं.

अब बम बनाने की तकनीक पुराने जमाने से बिल्कुल अलग है और छोटी सी बैटरी के सहारे दूर बैठे रिमोट से ब्लास्ट किया जा सकता है. ऐसे में अपराधियों की सोच से दो कदम आगे चलकर इस ट्रेनिंग में उन हथकंडों को समझाया जा रहा है जिसे आतंकवादी अंजाम दे सकते हैं.

राजधानी से दूर रेगिस्तान में अरावली की तलहटी बम ब्लास्ट से गूंज रही थी. हर बम में विस्फोटक सामग्री का कम से कम इस्तेमाल किया गया था, लेकिन फिर भी धमाके की गूंज इतनी तेज थी कि कई किलोमीटर दूर तक आवाज साफ सुनी जा सकती थी.

कहा जा सकता है कि ये अभ्यास पूरी सावधानी के साथ किया जा रहा था, लेकिन फिर भी जवानों का यूं बमों से खेलना वाकई भरोसा दे रहा था कि शहर महफूज हाथों में है.
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर