राजस्थान के इस एक घर में समाए हैं अमेरिका, जापान और इटली जैसे 6 देश!

ETV Rajasthan
Updated: February 7, 2017, 8:39 PM IST
राजस्थान के इस एक घर में समाए हैं अमेरिका, जापान और इटली जैसे 6 देश!
फोटो- अजब-गजब नाम वाली बहनें.
ETV Rajasthan
Updated: February 7, 2017, 8:39 PM IST
किसी शख्स को अमेरिकन, जापानी या इंडियन नाम से पुकारते हुए तो जरूर सुना होगा लेकिन क्या कभी किसी का नाम ही अमेरिका, जापान या इंडिया सुना है. नहीं, तो ये अजब-गजब नामकरण वाली खबर आपको चौंकाने वाली है. जी हां, राजस्थान के उदयपुर के आदिवासी इलाके के एक ग्रामीण रामलाल ने अपनी 6 बेटियों के नाम इसी तरह 6 देशों के नाम पर रखे हैं.

उल्लेखनीय है रामलाल मेवाड़ के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र कोटड़ा इलाके के मेढ़ी में रहते हैं. रामलाल ने अपनी 6 बेटियों के नाम अमेरिका, जापान, मलेशिया, जर्मनी, इटली और इंडिया रखे हैं. इनमें से 3 बेटियों (अमेरिका, जापान और मलेशिया) की शादी हो चुकी है. रामलाल के इन छह लड़कियों के बाद एक लड़का पैदा हुआ जिसका नाम अमन रखा है.

चर्चा का विषय बने हैं लड़कियों के नाम
रामलाल की इन बेटियों के इन अजब-गजब नामों की चर्चा पूरे इलाके में है. मेढ़ी गांव में के बाद अब इनके नाम के चर्चे दूसरे गांवों तक भी पहुंच गए हैं. दरअसल, रामलाल की बड़ी बेटी अमेरिका कुमारी, दूसरे नंबर की जापान कुमारी और तीसरे नंबर की बेटी मलेशिया कुमारी की शादी हो चुकी है और उनके सुसराल में भी उन्हें इन्हीं नामों से पुकारा जा रहा है.

सबसे छोटी बेटी इंडिया
रामलाल की पत्नी और अमेरिका की मां फूला बाई बताती हैं कि उनहीं छह बेटियों में सबसे छोटी बेटी का नाम इंडिया है. चौथे नंबर की बेटी का नाम जर्मनी और पांचवें नंबर की बेटी को इटली नाम दिया गया है.

देशों के नाम पर नाम के पीछे की कहानी?
रामलाल ने अपनी बेटियों के इन अजीब नामों के पीछे भी कहानी भी रोचक बताई. उन्होंने बताया कि वे बर्षों से एक एनजीओ से जुड़े हैं और आदिवासी समाज-संस्कृति के अध्ययन के लिए आने वाले विदेशी पर्यटकों के सम्पर्क में हैं. उन्होंने बताया कि वे विदेशी मेहमानों को आदिवासी रिति-रिवाज और कला-संस्कृति से परिचय कराते हैं. ऐसे में उनका कई देशों के लोगों से परिचय हुआ और मित्रवत सम्पर्क आज भी बना हुआ है. इस परिचय और मित्रता को हमेशा के लिए याद करने लिए उस दौरान हुई संतानों के नाम देशों के नाम पर रख दिए.
First published: February 7, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर