राज्य

सुपरटेक डेवलपर को हाईकोर्ट से झटका, 1060 अवैध फ्लैटों को सील करने का आदेश

Sarvesh Kumar Dubey | ETV UP/Uttarakhand
Updated: April 20, 2017, 6:38 PM IST
सुपरटेक डेवलपर को हाईकोर्ट से झटका, 1060 अवैध फ्लैटों को सील करने का आदेश
Image Source: File Photo
Sarvesh Kumar Dubey | ETV UP/Uttarakhand
Updated: April 20, 2017, 6:38 PM IST
इलाहाबाद हाईकोर्ट से ग्रेटर नोएडा के सुपरटेक डेवलपर को तगड़ा झटका लगा है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सुपरटेक जार सूट्स प्रोजेक्ट के 1060 अवैध फ्लैटों को सील करने का आदेश दिया है.

यह भी पढ़ें: सहारनपुर में शोभायात्रा के दौरान पथराव, भड़की हिंसा, कई घायल, भारी फोर्स तैनात

इसके साथ ही कोर्ट ने सुपरटेक डेवलपर के हलफनामे को संतोषजनक नहीं मानते हुए दो मई तक बेहतर हलफनामा दाखिल करने का आदेश दिया है.

हाईकोर्ट ने अदालत को अधूरी जानकारी देने पर नाराजगी भी जताई है. हाईकोर्ट ने सुपरटेक डेवलपर से पूछा है कि कितने फ्लैट आवंटित किए गए हैं और कितने फ्लैटों का आवंटियों को कब्जा दिया गया है.

यह भी पढ़ें: यूपी चुनाव में हार के बाद मायावती ने नसीमुद्दीन सिद्दीकी का कद घटाया

इसके साथ ही कोर्ट ने सुपरटेक डेवलपर से ये भी पूछा है कि कितने फ्लैट अब तक आवंटित नहीं किए गए हैं. ये आदेश हाईकोर्ट ने याचिकाकर्ता वीके शर्मा और आठ अन्य की ओर से दाखिल जनहित याचिका पर दिया है.

यह भी पढ़ें: सीएम योगी के मंत्री सुरेश राणा समेत नौ के खिलाफ चार्जशीट

दरअसल वर्ष 2007 में सुपरटेक डेवलपर ने ग्रेटर नोएडा में सुपरटेक जार सूट्स प्रोजेक्ट के लिए 844 फ्लैट का नक्शा पास कराया था. लेकिन बाद में सुपरटेक डेवलपर्स ने अवैध रूप से 1904 फ्लैट बना लिए. अवैध फ्लैटों के निर्माण कराए जाने को इलाहाबाद हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी.

मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने थर्ड पार्टी राइट्स देने एवं फ्लैट बेचने पर पहले ही रोक लगा दी थी और डेवलपर से जवाब भी मांगा था. मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस डीबी भोसले और जस्टिस यशवंत वर्मा की डिवीजन बेंच में हुई.
First published: April 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर