राज्य

पीएम मोदी के बनारस में मिले 32 कुपोषित बच्चे, हाईकोर्ट सख्त

Sarvesh Kumar Dubey | ETV UP/Uttarakhand
Updated: June 20, 2017, 2:54 PM IST
पीएम मोदी के बनारस में मिले 32 कुपोषित बच्चे, हाईकोर्ट सख्त
वाराणसी के हरुआ ब्लाक के 3 गांवों में मिले 32 कुपोषण के शिकार बच्चों को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है.
Sarvesh Kumar Dubey | ETV UP/Uttarakhand
Updated: June 20, 2017, 2:54 PM IST
वाराणसी के हरुआ ब्लाक के 3 गांवों में मिले 32 कुपोषण के शिकार बच्चों को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है.

याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने डीएम वाराणसी से कुपोषण के शिकार गांवों में जाकर जांच करने और दो हफ्ते में रिपोर्ट अदालत में दाखिल करने का आदेश दिया है. मामले की अगली सुनवाई दो हफ्ते के बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट में होगी.

जनहित याचिका में आरोप लगाया गया है कि वाराणसी जिले के हरुआ ब्लाक के 3 गांवों भक्तोपुर, भटौली और दासेपुर में 32 कुपोषित बच्चे मिले हैं. इन बच्चों को राज्य सरकार के बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है.

इसकी शिकायत जिलाधिकारी, वाराणसी से भी सामाजिक संस्था जनअधिकार मंच ने की थी. लेकिन उसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई. इसके बाद जन अधिकार मंच ने प्रभावित गांवों का दौरा कर एक रिपोर्ट तैयार की और संस्था के अध्यक्ष अनिल कुमार मौर्या की ओर से इलाहाबाद हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई.

संस्था की जांच रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि तीनों गांवों में अलग-अलग आयु वर्ग के बच्चों का वजन भी विश्व स्वास्थ्य संगठन यानि डब्लूएचओ के मानक से काफी कम है. इसके साथ ही इन बच्चों को राज्य सरकार की ओर से कुपोषित बच्चों के लिए चलाई जा रही किसी भी सरकारी योजनाओं का भी लाभ नहीं मिल रहा है. मामले की सुनवाई जस्टिस अरुण टंडन और जस्टिस अशोक कुमार की डिवीजन बेंच में हुई.
First published: June 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर