बरेली में अल्पसंख्यकों के घर पर चिपकाए पोस्टर, तनाव

ETV UP/Uttarakhand

Updated: March 16, 2017, 11:30 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

उत्तर प्रदेश चुनाव में बीजेपी को मिली बंपर जीत के बाद अब कुछ शरारती तत्वों ने प्रदेश के सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने की नाकाम कोशिश की है. दरअसल बरेली में कुछ शरारती तत्वों ने समुदाय विशेष के घरों पर पर्चे चस्पाकर गांव छोड़कर जाने की धमकी दे डाली.

फिलहाल पुलिस ने मामले में अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

पर्चे पर लिखा है कि यूपी में बीजेपी की सरकार आ चुकी है. इसके बाद एक समुदाय विशेष के लोगों को 31 दिसम्बर 2017 तक गांव छोड़कर चले जाने की धमकी दी गई है.

क्या है पूरा मामला?

दरअसल बरेली जिले के शीशगढ़ थानाक्षेत्र के जिया नगला गांव में ग्रामीणों की समझदारी के चलते एक बड़ा सांप्रदायिक बवाल होने से बच गया. तीन हजार की आबादी वाले इस गांव में 28 परिवार अल्पसंख्यक समुदाय के हैं. यहां ठीक होली  से पहले वाली रात यानि 12 मार्च को कुछ शरारती तत्वों ने अल्पसंख्यकों के घरों पर माहौल बिगाड़ने की नीयत से धमकी भरे पर्चे चस्पा कर दिए.

13 मार्च की सुबह जब लोगों ने इन पर्चों को अपने घरों की दीवारों पर लगा देखा तो लोग भड़क उठे. पर्चे में समुदाय विशेष के लोगों को 31 दिसंबर से पहले गांव छोड़कर जाने की धमकी दी गई है और संरक्षक में पूर्वांचल के एक सांसद का नाम लिखा गया है.

जानकारी मिलने पर पुलिस ने गांव पहुंचकर बुद्धिजीवियों की मदद से बातचीत कर पूरे मामले को शांत कर दिया और दीवारों से पोस्टर हटवा दिए गए.

हालांकि गांव के पीड़ित परिवारों ने इस पूरे मामले पर चुप्पी जरूर साध रखी है. वहीं पुलिस ने मामले में पोस्टर लगाने के आरोप में अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है.

First published: March 16, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp