यूपी चुनाव: सहानुभूति वोट पाने के लिए रालोद प्रत्याशी ने करवाई भाई और दोस्त की हत्या

Amit Tiwari | News18Hindi

Updated: February 9, 2017, 8:56 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

बुलंदशहर के खुर्जा विधानसभा सीट से राष्ट्रिय लोक दल (रालोद) के प्रत्याशी मनोज कुमार गौतम को पुलिस ने अपने ही भाई विनोद और और फैमिली फ्रेंड सचिन की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है.

दरअसल चुनाव में जीत के लिए जनता की सहानुभूति पाने के चक्कर में मनोज गौतम ने ऐसी साजिश रची जिसमें उसका हाथ अपने ही सगे भाई के खून से रंग गया.

यूपी चुनाव: सहानुभूति वोट पाने के लिए रालोद प्रत्याशी ने करवाई भाई और दोस्त की हत्या
बुलंदशहर के खुर्जा विधानसभा सीट से राष्ट्रिय लोक दल (रालोद) के प्रत्याशी मनोज कुमार गौतम को पुलिस ने अपने ही भाई विनोद और और फैमिली फ्रेंड सचिन की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है.

मंगलवार को रालोद प्रत्याशी के भाई विनोद और उनके दोस्त सचिन का शव मिलने के बाद बुधवार को पुलिस ने मनोज गौतम और भाड़े के एक हत्यारे फिरोज शब्बीर को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस के मुताबिक पूछताछ में गौतम ने बताया कि उसने अपने भाई की हत्या चुनावों में जनता की हमदर्दी बटोरने के लिए करवाई है.

बताया जा रहा है कि गौतम ने पुलिस को बताया कि तमाम कोशिशों के बाद भी उसे बसपा से टिकट न मिलने के बाद जब अजित सिंह ने उन्हें मैदान में उतारा तो उसे लगा कि इस मौके को किसी भी कीमत पर गंवाना नहीं है.

इसके बाद गौतम ने सोचा कि चुनाव में जीत पक्की करने के लिए सबसे अच्छा रास्ता यह है कि जनता की सहानुभूति की लहर उसके पक्ष में हो. यह लहर उसके भाई की हत्या की खबर से बन सकती थी.

एसएसपी बुलंदशहर सोनिया सिंह ने बताया कि मनोज ने हत्या का प्लान बहुत ही परफेक्ट तरीके से तैयार किया. इसके लिए समय भी वही चुना जब चुनाव प्रचार अंतिम दौर में था. इतना ही नहीं रालोद के महासचिव जयंत चौधरी की सोमवार को हुई जनसभा के बाद गौतम ने दो हत्यारों को विनोद और सचिन की मर्डर की सुपारी दे दी. लेकिन पुलिस को शव मिलने के बाद जब जांच शुरू हुई और फोन कॉल से सब कुछ साफ हो गया कि इसके पीछे कौन है. फोन रिकॉर्डिंग से पता चला कि मनोज ने फिरोज शब्बीर और परविंदर जाटव को हत्या की सुपारी दी थी. इसके लिए दोनों को एक लाख रुपया दिया गया था.

फिलहाल फिरोज और गौतम को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि परविंदर अभी फरार है. सोनिया सिंह ने कहा कि गौतम ने पूछताछ में बताया कि वह हत्या की प्लानिंग एक सफ्ताह से कर रहा था. वह सोच रहा था कि अगर उसके परिवार में किसी की हत्या हो जाती है तो वह इसका आरोप विरोधियों पर लगाकर सहानुभूति अर्जित कर सकता है.

चुनाव में मनोज गौतम का मुकाबला बसपा के अर्जुन सिंह, भाजपा के विजेंदर सिंह और कांग्रेस के बंशी सिंह से था. लेकिन अब रालोद बिना किसी प्रत्याशी के चुनावी समर में है और डैमेज कण्ट्रोल में जुटी है.

First published: February 9, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp