गोरखपुर में योगी के मिनी सीएमओ को संभालते हैं ये दो शख्स

NAVEEN LAL SURI | News18Hindi

Updated: March 19, 2017, 6:05 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

गोरखपुर के बीजेपी सासंद योगी आदित्यनाथ ने रविवार को यूपी के 21वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली . वहीं योगी के लिए रात दिन खड़े रहने वाले ये दो शख्स गोरखनाथ मंदिर में संभालते है पूरा कामकाज. वो भी जजबा किसी आईएएस से कम नहीं.

आम जानमानस की समस्या हो या किसी सरकारी पत्र का जवाब तो ये लोग योगी के एक इशारे पर हर छोटे बड़े कामों में अहम भूमिका निभाते है.

गोरखपुर में योगी के मिनी सीएमओ को संभालते हैं ये दो शख्स
गोरखपुर के बीजेपी सासंद योगी आदित्यनाथ ने रविवार को यूपी के 21वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लिया . वहीं योगी के लिए रात दिन खड़े रहने वाले ये दो शख्स गोरखनाथ मंदिर में संभालते है पूरा कामकाज.

बता दें, कि योगी आदित्यनाथ के राजनीति गुरु महंत अवैद्यनाथ के साथ काम करने वाले 65 साल द्वारिका प्रसाद तिवारी और विरेंद्र सिंह ये दो नाम गोरखनाथ मंदिर में ऐसे है जिनकी पहचान योगी के नाम से जुड़ा हुआ है.

द्वारका प्रसाद तिवारी ने न्यूज18 हिंदी से खास बातचीत में बताया कि उन्होंने अपनी सारी जिंदगी मंदिर में ब्रह्मलीन महंत अवैद्यनाथ और योगी आदित्यनाथ की सेवा करने में लगा दिया. वो दावे के साथ कहते है कि योगी जी के साथ काम करते हुए बहुत कुछ सीखा है. लखनऊ में योगी जी के लिए काम करने के सवाल पर द्वारिका कहते है कि यहां मंदिर में बहुत सारा काम पूरा करना है, ऐसे में हम हम मंदिर की ही सेवा करेंगे.

विरेंद्र तिवारी तो युवा है लेकिन किसी भी पत्र का जवाब वो बड़े ही सादगी के साथ देते है, योगी के काफी करीबी माने जाने वाले विरेंद्र सिंह हमेशा योगी के एक फरमान पर खड़े नजर आते है.विरेंद्र ने बताया कि उनकी प्राथमिकता होती है कि वो योगी जी के बताये गए कामों को पूरी तत्परता से निभाएं.

वहीं गोरखपुर जिले से लेकर प्रदेश और देश के हर वीवीआईपी लोगों के मोबाइल नंबर उनके जुबान पर रठा रहता है, यहि वजह है कि योगी के एक इशारे पर ये लोग देश से लेकर विदेश तक में मौजूद योगी समर्थकों से बात करा देते. गोरखपुर मंडल और सीमावार्ती पड़ोसी देश नेपाल के लोग गोरखनाथ मंदिर में योगी के पास अपनी समस्या की फरियाद लेकर आते है. जिसको ये लोग बड़ी ही गम्भीरता से लेते हुए उसका निर्वाण करते है.

सोच और नजरियां एक है उनका साफतौर पर मानना है कि जो भी कोई फरियादी मंदिर में कोई भी उम्मीद से आए, बाबा गोरखनाथ कभी उसे खाली हाथ नहीं लौटाते. यही वजह है कि रोजाना सौंकड़ों की संख्या में योगी जी से मिलने वालों का मंदिर में तांता लगा रहता है.

First published: March 19, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp