राज्य

प्यार में प्रेमी ने प्रेमिका की जान ले ली...

Mukesh Kumar | ETV UP/Uttarakhand
Updated: June 20, 2017, 8:52 PM IST
प्यार में प्रेमी ने प्रेमिका की जान ले ली...
शिल्पी नाबालिग थी और उसे पूरा भरोसा था कि उसका प्रेमी उसे इन दुश्वारियों से दूर ले जाएगा और शादी के बाद उसके लिए प्यार का आशियां बनाएगा...
Mukesh Kumar | ETV UP/Uttarakhand
Updated: June 20, 2017, 8:52 PM IST
क्या कोई किसी को इतना प्यार कर सकता है कि उसकी जान ले? क्योंकि प्यार में जान देने की कहानी तो हमने-आपने खूब सुनी हैं, लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है जब प्यार में प्रेमी अपनी प्रेमिका की कुल्हाड़ी से काटकर उसकी जान ले लेता है. यह फिक्शन नहीं, बल्कि रियल लाइफ स्टोरी है. रुकिए, यह कोई हेट स्टोरी भी नहीं है और न ही एकतरफा प्यार का मामला है. यह प्रेमियों के इतिहास की शायद पहली घटना होगी जहां प्रेमी प्यार के लिए प्रेमिका का मर्डर तक कर देता है.

रोंगटे खड़े कर देगी यह लव स्टोरी
उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले के एक प्रेमी जोड़े ने प्यार की एक ऐसी वीभत्स कहानी बयां करने की कोशिश की है, जिसे सुनकर रोंगटे खड़े हो जाते हैं. दो साल के लव अफेयर के बाद जब घर वाले शादी को राजी नहीं हुए तो शिल्पी घरवालों से इस कदर नाराज हुई कि प्यार के नाम को शर्मसार कर गई. उसने तय कर लिया था कि वह किसी और से शादी नहीं करेगी.

शिल्पी नाबालिग थी और उसे पूरा भरोसा था कि उसका प्रेमी उसे इन दुश्वारियों से दूर ले जाएगा और शादी के बाद उसके लिए प्यार का आशियां बनाएगा. शायद इसीलिए वह एक बार नहीं, कई बार प्रेमी से कह चुकी थी कि उसे किसी और से शादी नहीं करना है. भले ही वह उस उसके घर से भगा ले चले और अगर नहीं ले जा सकते तो उसे मार दे.

इसके बाद जो हुआ उसकी कल्पना हम और आप नहीं कर सकते? दिल दहला देने वाले इस किस्से में न इमोशन है, न ड्रामा है और न ही सस्पेंस. हमीरपुर में घटित हुआ यह वाक्या संभवतः प्यार के नाम कुर्बान टाइप प्रेमी-प्रेमिकाओं के लिए एक बड़ा झटका कहा जाएगा. वो प्यार में जिसमें खुशी-खुशी जान देने की रवायत मशहूर है, लेकिन इस किस्से में प्रेमिका की खुशी के लिए प्रेमी उसकी जान ले लेता है.



प्यार पर भारी रोटी,कपड़ा और मकान
प्रेमिका की बेदर्दी से हत्या करने से पहले प्रेमी अन्य लव बर्ड्स की तरह प्रेमिका को बेरोजगारी का हवाला देकर समझाता है और शादी के बाद की जिम्मेदारी को निभाने की असमर्थता को भी बतलाता है, लेकिन प्रेमिका को किसी दूसरे के साथ शादी कर दिए जाने की निराशा में वह अंधा हो गया था.

जिंदगी की दुश्वारियों से बेखबर शिल्पी बस किसी भी सूरत में प्रेमी पवन केवट के अलावा किसी और से शादी नहीं करना चाहती थी. जिंदगी कैसे चलती है, कैसे नहीं चलती है, इसके लिए रोटी, कपड़ा और मकान जरूरी है या नहीं है में पड़े बिना वह बस पवन की हो जाना चाहती था. घर से कफन बांध कर निकली थी कि बस आज फैसला होगा और फैसला हो गया.

प्रेमिका की गुजारिश पर की हत्या 
प्रेमी पवन से एक बार ठगा सा जबाव सुनकर शिल्पी बेचैन नहीं होती. बाली सी उम्र में भी शिल्पी के चेहरे पर मासूमियत नहीं थी. बगावती तेवर से प्रेमी की ओर देखती है और घर से साथ लाई कुल्हाड़ी प्रेमी के हाथो में थमाकर आंखें बंद कर जमीन पर लेट जाती है और मुश्किल से भरोसा करेगा कि जमीन पर लेटी शिल्पी पर कुल्हाड़ी पर लगातार तीन वार करके प्रेमी पवन केवट उसकी जान ले लेता है. कुल्हाड़ी के तीन वार से शिल्पी के शरीर के दो टुकड़े हो गए.

तब सनसनी फैल गई हमीरपुर जिले से महज 70 किमी दूर जरिया थाना क्षेत्र में एक नाबालिग लड़की का शव बरामद हुआ. बरामद की गई लाश दो टुकड़ों में थी. यह लाश शिल्पी की थी, जो प्यार में प्रेमी के हाथों अपनी जान गंवा चुकी थी. कुल्हाड़ी से दो हिस्सों में काटकर हत्या करने वाला प्रेमी पवन केवट ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि उसने शिल्पी को इसलिए कुल्हाड़ी से काट दिया, क्योंकि उसकी प्रेमिका ने उससे ऐसा करने को कहा!

साथ जीने-मरने की खाई थी कसम
पूछताछ में प्रेमी पवन ने बताया कि दोनों ने क्लास 9 तक साथ-साथ पढ़ाई की और इसी दौरान दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया. लेकिन उनके अफेयर के बारे में जब शिल्पी के घरवालों को पता चला तो उन्होंने शिल्पी की पढ़ाई बंद करवा दी थी और उन्होंने उसकी शादी भी जबरन किसी दूसरे लड़की से तय कर दी थी.

आरोपी पवन के मुताबिक घरवालों द्वारा जबर्दस्ती उसकी शादी तय करने की बात शिल्पी को पसंद नहीं आई. दोनों ने साथ- साथ जीने मरने की कसम खाई थी और शादी तय होने के बाद शिल्पी परेशान थी, क्योंकि वह किसी दूसरे से शादी करने को तैयार नहीं थी. शिल्पी बार-बार जिद करती थी कि शादी करके उसे अपने साथ गांव से कहीं दूर ले जाए, लेकिन बेरोजगारी के कारण वह ऐसा करने में असमर्थ था.

घरवालों ने जबरन तय कर दी थी शादी
पवन के मुताबिक घटना वाले दिन शनिवार को शौच के बहाने शिल्पी घर से निकली और मिलने के लिए उसे भी जंगल में बुला लिया और एक बार फिर साथ घर से भागने की बात कहने लगी. उसके काफी समझाने के बाद भी शिल्पी समझने को तैयार नहीं थी और घर छोड़ने और शादी करने की बात दोहराने लगी. वो समझा कर थक चुका था कि बेराजगारी में वह शादी का बोझ नहीं उठा सकेगा और अगर भागकर कहीं गए तो उसे रखेगा कहां?

प्रेमी पवन द्वारा पुलिस को दिए बयान के मुताबिक शिल्पी उसके जबाव से संतुष्ट नहीं थी. मौत से पहले शिल्पी साथ लेकर आई बोतल से पानी पीकर कहती है, अगर अपने साथ नहीं ले जा सकते तो उसे मार दे और घर से साथ लेकर आई कुल्हाड़ी पवन के हाथ में थमाकर आंख बंदकर जमीन पर लेट जाती है.

हत्यारे प्रेमी का कबूलनामा
बकौल पवन, शायद शिल्पी किसी और की होने के बजाय मेरे ही हाथों मौत को गले लगाना चाहती थी. कुल्हाड़ी से शिल्पी पर वार करने से पहले मैं कुछ देर तक जमीन पर आंख मूंदकर लेटी शिल्पी को देखता रहा और अगले ही पल पहला वार मैंने उसकी गर्दन पर वार किया. मैंने शिल्पी की गर्दन पर कुल तीन बार वार किया और उसका सिर धड़ से अलग हो गया था!

मर्डर केस का खुलासा करते हुए एसपी दिनेश कुमार ने बताया कि उन्हें मृतका के मोबाइल से आरोपी पवन केवट का फोन नंबर मिला था. मृतका के फोन पर लास्ट कॉल उसी के नंबर से आई थी. इसी के आधार पर हमने केवट को पूछताछ के लिए थाने बुलाया और वहां उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया. पुलिस के मुताबिक शिल्पी की मौत के बाद आरोपी पवन केवट कुल्हाड़ी वहीं छोड़कर घर चला आया.

मोबाइल सर्विलांस से पकड़ा गया प्रेमी
मामले की तफ्तीश कर रहे इंस्पेक्टर घनश्याम पांडे ने बताया कि आरोपी को दबोचने के लिए आरोपी पवन का मोबाइल सर्विलांस पर डाला गया था. जिसके बाद वह गिरफ्त में आया. हालांकि मर्डर करने के बाद पवन ने भागने की कोशिश नहीं की. चुपचाप अपने घर चला गया था और गिरफ्तारी के बाद उसने अपना गुनाह कबूलते हुए कहा कि वह अब पछता रहा है, लेकिन उसने शिल्पी की हत्या के उसके कहने पर ही किया था.
First published: June 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर