अखिलेश के सामने पहाड़ जैसा सवाल, किसे बनाएं विपक्ष का नेता

News18Hindi

Updated: March 13, 2017, 9:56 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी को मिली करारी हार के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 16 मार्च को अपने नव-निर्वाचित विधायकों की बैठक लखनऊ में बुलाई है. सपा दफ्तर में होने वाली इस बैठक में अखिलेश यादव विधायकों को पार्टी की आगे की रणनीति के बारे में बताएंगे.

इसी बैठक में विधानसभा में विधायक दल के नेता का नाम भी तय हो सकता है. सूत्रों की माने तो पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव और वरिष्ठ नेता आजम खां में किसी एक के नाम पर मुहर लग सकती है.

अखिलेश के सामने पहाड़ जैसा सवाल, किसे बनाएं विपक्ष का नेता
File Photo: Akhilesh Yadav (PTI)

दरअसल, अखिलेश यादव खुद विधान परिषद के सदस्य हैं. ऐसे में कोई विधानसभा का सदस्य ही इसे ओहदे को संभाल सकता है.  अब सवाल यह उठता है कि अखिलेश अपने किस भरोसेमंद को यह जिम्मेदारी सौंपेगे.

अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों के जनादेश के बाद हम सबको अनुशासित और शांतिपूर्ण तरीके से होली मनानी चाहिए. समाजवादी साथियों को अब नई ऊर्जा के साथ संगठन के काम में जुटना होगा.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को प्रचंड बहुमत मिला. पार्टी ने 403 सीटों में से 312 सीटों पर जीत हासिल की.

सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ बहुजन समाज पार्टी (बसपा) भी हाशिये पर आ गई. राज्य निर्वाचन आयोग के अंतिम आंकड़ों के मुताबिक, भाजपा 312 सीटों पर जीती. बसपा को 19, सपा को 47 सीटें और कांग्रेस को महज 7 सीटों पर जीत मिली.

भाजपा के सहयोगी दल भारतीय समाज पार्टी (भासपा) 4 सीटों पर और अपना दल (सोनेलाल) को 9 सीटों पर जीत मिली है. अजित सिंह के राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) को मात्र एक सीट मिली. तीन निर्दलीय उम्मीदवार जीते, जबकि निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल के खाते में भी एक सीट गई.

First published: March 13, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp