राज्य

यूपी विधानसभा में गूंजा आईएएस की मौत का मामला, कर्नाटक की कांग्रेस सरकार को घेरा

News18Hindi
Updated: May 18, 2017, 1:48 PM IST
यूपी विधानसभा में गूंजा आईएएस की मौत का मामला, कर्नाटक की कांग्रेस सरकार को घेरा
Image: News 18 Hindi
News18Hindi
Updated: May 18, 2017, 1:48 PM IST
यूपी विधानसभा के दोनों सदनों में चौथे दिन की कार्यवाही शुरू होने के साथ ही आईएएस अनुराग तिवारी की संदिग्ध मौत को लेकर हंगामा शुरू हो गया.

विधानसभा सत्र की कार्यवाही शुरू होते ही लखनऊ में कर्नाटक कैडर के आईएएस की संदिग्ध मौत का मुद्दा विपक्ष ने उठाया. इसके जवाब में योगी सरकार ने मामले में कर्नाटक की कांग्रेस सरकार के घेरने की कोशिश की. साथ ही कहा कि मामले की निष्पक्ष जांच की जा रही है.

दूसरी तरफ राजधानी लखनऊ से परिजन अनुराग तिवारी के शव को लेकर बहराइच रवाना हो गए हैं. मामले में अभी तक किसी प्रकार की जांच के लिए परिजनों ने कोई तहरीर नहीं दी है.

सदन में नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी ने आईएएस अनुराग तिवारी की मौत को हत्या बताते हुए सदन से वॉक आउट की धमकी दी.

इसके जवाब में संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने कर्नाटक की कांग्रेस सरकार को घेरते हुए कहा कि आईएएस अनुराग के परिजनों के मुताबिक वह कर्नाटक सरकार में हजारों करोड़ के घोटाले में खुलासा करने वाले थे. उन्होंने कहा कि 4 डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराकर विसरा सुरक्षित कराया गया है. आईएएस की मौत के मामले में निष्पक्ष कार्रवाई हो रही है.

विधानसभा में दिव्यांगों पर सीएम आदित्यनाथ ने कहा कि दिव्यांगजनों की पेंशन 300 से 500 कर दी गई है. तहसील स्तर पर पेंशन योजना का समाधान किया जाएगा. समाधान दिवस में तहसील स्तर पर दिव्यांगों की समस्याएं दूर होंगी.

बसपा विधायक विनय शंकर ने लगाए पुलिस पर प्रताड़ित करने के आरोप

विधानसभा में गोरखपुर के चिल्लूपार से विधायक और बाहुबली नेता हरिशंकर तिवारी के बेटे विनय शंकर तिवारी ने पुलिस पर जानबूझकर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि पुलिस ने विधान सभा सदस्य की गरिमा का ख्याल भी नहीं रखा. दरअसल कुछ दिन पहले एक लूट के मामले को लेकर पुलिस ने हरिशंकर तिवारी के गोरखपुर आवास पर छापा मारा था.

इसके बाद खुद हरिशंकर तिवारी ने धरना भी दिया था. विनय शंकर तिवारी ने सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा​ कि राजनीतिक द्वेष की वजह से हो सकता है मेरे ऊपर फर्जी एफआईआर दर्ज हो और ये भी हो सकता है कि मेरी हत्या भी करवा दी जाए लेकिन मैं किसी से नहीं डरता.

सदन में राज्य सरकार की तरफ से सुरेश खन्ना ने जवाब दिया कि लूट के 66 लाख रुपए बरामद करने के लिए पुलिस ने ये कार्रवाई की थी. सोनू नाम के व्यक्ति को लेकर ये जानकारी थी कि वह हरिशंकर तिवारी के हाते में छिपा हुआ है. इसलिए पुलिस ने ये कार्यवाई की.

उधर विधान परिषद में भी कार्यवाही शुरू होते ही सपा सदस्यों ने आईएएस अनुराग तिवारी की मौत पर हंगामा करना शुरू कर दिया. शून्य काल में विधान परिषद में आईएएस की मौत पर चर्चा होगी. सपा सदस्यों ने आरोप लगाया है कि राजधानी के आईएएस की हत्या हुई है, इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए.

सदन मे सपा एमएलसी बुक्कल नवाब जज्बाती हो गए. उन्होंने कहा कि मुझे फंसाया जा रहा है. सब झूट है, मक्कारी है. जिस जमीन को लेकर मेरे पर आरोप लग रहे हैं, वह मेरी मां की जमीन है. बुक्कल का साथ देते हुए नेता विरोधी दल अहमद हसन ने कहा की जांच उच्च एजेंसी से की जाए.

इनको इंसाफ दिया जाए. निष्पक्ष जांच की जाए. हसन ने कहा कि मैंने किसी का गलत बात में साथ नहीं दिया है. इस पर नेता सदन दिनेश शर्मा ने कहा इसकी कोई लिखित सूचना नहीं है. यह नियम विरुद्ध है. जो भी होगा उसकी निष्पक्ष जांच होगी.

दूसरी तरफ राजधानी लखनऊ में परिजन अनुराग तिवारी के शव को लेकर बहराइच रवाना हो गए हैं. हालात पर नजर रखने के लिए कर्नाटक कैडर के दो अफसर लखनऊ में हैं. मामले में अनुराग के पिता ने दोबारा पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया है. अभी तक परिजनों की तरफ से कोई तहरीर पुलिस को नहीं दी गई है.
First published: May 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर