राज्य

यूपी आवास विकास में चहेतों को टेंडर देने का चल रहा था खेल, योगी के मंत्री ने पकड़ा

Amit Tiwari | News18Hindi
Updated: April 21, 2017, 5:04 PM IST
यूपी आवास विकास में चहेतों को टेंडर देने का चल रहा था खेल, योगी के मंत्री ने पकड़ा
मंत्री सुरेश पासी
Amit Tiwari | News18Hindi
Updated: April 21, 2017, 5:04 PM IST
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में एक के बाद एक कई विभागों के घोटाले सामने आने लगे हैं. एलडीए में सैकड़ों करोड़ों की हेराफेरी का मामला सामने आने के बाद आवास विकास में भी टेंडर का खेल सामने आया है.

योगी सरकार में राज्य मंत्री शहरी आवास, सुरेश पासी ने शुक्रवार को इंदिरानगर के नीलगिरी काम्प्लेक्स स्थित आवास विकास के दफ्तर पर औचक निरीक्षण करने पहुंचे. जांच के दौरान मंत्री ने आवास विकास में चल रहे टेंडर बांटने के खेल को पकड़ा.

जिसके बाद गुस्साए मंत्री ने प्रोजेक्ट मैनेजर पीके वर्मा को सस्पेंड करने की संस्तुति की है. आरोप है कि वर्मा ने चहेतों को फायदा पहुंचाने के लिए बिना ई-टेंडरिंग के करोड़ों का टेंडर अख़बारों के माध्यम से निकाल दिया.

ऐसे चल रहा था चहेतों को टेंडर दिलाने का खेल

दरअसल आवास विभाग में अपने चहेतों और करीबियों को टेंडर देने का खेल बड़े ही चालाकी से खेला जा रहा था. किसी भी टेंडर का विज्ञापन छोटे अख़बारों में छपता था. जिस पर लिखा होता था कि टेंडर की विस्तृत जानकारी आवास विकास परिषद की आधिकारिक वेबसाइट www.upavp.com पर उपलब्ध है. लेकिन टेंडर की जानकारी या तो वेबसाइट पर अपलोड की ही नहीं जाती थी या फिर टेंडर जमा करने के आखिरी दिन से एक दिन पहले अपलोड की जाती थी. इस बीच करीबियों को गुपचुप तरीके से टेंडर की जानकारी दे दी जाती थी.

शुक्रवार को जब मंत्री निरीक्षण के लिए नीलगिरी काम्प्लेक्स स्थित आवास विकास के ऑफिस पहुंचे तो उन्होंने पाया की एक टेंडर राजधानी लखनऊ के दो छोटे अख़बार में छपा है, लेकिन उसकी जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है.

मंत्री सुरेश पासी ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त निर्देश दिए हैं कि प्रदेश में अब ई-टेंडर की व्यवस्था लागू की जाए. कैबिनेट में भी प्रस्ताव पास किया है इसके बावजूद अख़बारों में विज्ञापन देना और वो भी सिर्फ छोटे अख़बारों को, इससे संदेह उत्पन्न हो रहा है. सरकार इसकी जांच करवाकर सख्त कार्रवाई करेगी.
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर