कलेक्टर का तबादला रुकवाने के लिए बुधवार को बंद रहा बागेश्वर शहर

Himanshu sagta | ETV UP/Uttarakhand
Updated: May 18, 2017, 12:49 PM IST
कलेक्टर का तबादला रुकवाने के लिए बुधवार को बंद रहा बागेश्वर शहर
कलेक्‍टर मंंगेश घिल्डियाल के तबादले के विरोध में बागेश्‍वर बंद का एक दृश्‍य. फोटो : न्‍यूज18/ईटीवी
Himanshu sagta | ETV UP/Uttarakhand
Updated: May 18, 2017, 12:49 PM IST
बागेश्वर में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल का तबादला होने के बाद क्षेत्र की जनता का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस तबादले के विरोध में बुधवार को शहर के सभी बाजार पूरी तरह बंद रहे. इसके साथ ही जिले के सभी सरकारी व निजी स्कूल भी बंद रहे.

बंद का व्यापार संघ के साथ-साथ पब्लिक स्कूल एसोसिएशन ने भी समर्थन किया. शहर में न कोई दुकान खुली और न ही कोई निजी स्‍कूल. इतना ही नहीं, क्षेत्र की जनता ने बागेश्‍वर विधायक चंदन राम दास के आवास का घेराव भी किया और जमकर नारेबाजी की. इसके बाद लोग वहीं धरने पर बैठ गए.

लोगों का कहना था कि मंगेश घिल्डियाल जैसे योग्‍य अधिकारी का मात्र सात माह में ही बागेश्‍वर से तबादला कर दिया गया. उन्‍होंने विधायक से मांग की कि वे अपने प्रभाव का इस्‍तेमाल कर शासन से इस तबादला आदेश को तत्‍काल निरस्‍त करवाएं.

विधायक चंदन राम दास ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि वे भी चाहते हैं कि उनके क्षेत्र में मंगेश घिल्डियाल जैसा योग्‍य और लोकप्रिय डीएम रहे, लेकिन यह शासन का आदेश है. शासन घिल्डियाल जैसे योग्‍य अधिकारी का उपयोग चारधाम यात्रा जैसे महत्‍वपूर्ण काम के लिए कहीं और करना चाहता है.

उन्‍होंने कहा कि उन्‍होंने भी घिल्डियाल का तबादला रुकवाने की कोशिश की थी, लेकिन उनके तबादले को लेकर जो राजनीति की जा रही है, वह ठीक नहीं है. लोगों का यह काम खुद घिल्डियाल के पक्ष में नहीं रहेगा.
First published: May 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर