राज्य

रस्किन बॉण्‍ड ने मसूरी में सादगी से मनाया अपना 83वां जन्‍मदिन

Sunil Silwal | ETV UP/Uttarakhand
Updated: May 19, 2017, 3:24 PM IST
रस्किन बॉण्‍ड ने मसूरी में सादगी से मनाया अपना 83वां जन्‍मदिन
अपने मित्रों की उपस्थिति में केक काटते हुए रस्किन बॉण्‍ड. फोटो : न्‍यूज18/ईटीवी
Sunil Silwal | ETV UP/Uttarakhand
Updated: May 19, 2017, 3:24 PM IST
अंग्रेजी के प्रसिद्ध लेखक पद्मश्री रस्किन बॉण्‍ड ने अपना 83वां जन्मदिन बड़ी ही सादगी के साथ मनाया. उन्‍होंने अपने पारिवारिक मित्रों के साथ केक काटा. उन्होंने कहा कि जब तक शरीर में ताकत होगी, तब तक लिखने का काम जारी रखेंगे.

बॉण्‍ड ने शुक्रवार को अपने जीवन के 82 साल पूरे कर लिए. उनके प्रशंसक भी उनके घर पर जन्मदिन की बधाई देने आए तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा. इस अवसर पर रस्किन ने अपने दोस्तों, पाठकों और प्रशंसकों को सपोर्ट के लिए धन्यवाद करते हुए कहा कि उनकी नई किताब लुकिंग फॉर द रेनबो आज रिलीज हो गई है.

रस्किन का जन्म 19 मई 1934 को हिमाचल के कसौली में हुआ था. उनका बचपन जामनगर, शिमला और देहरादून में बीता. रस्किन बॉण्‍ड ने अपनी पढ़ाई शिमला के बिशप काॅटन स्कूल में की थी.

चार साल लंदन रहकर लौट आए

बॉण्‍ड को बचपन से ही लिखने-पढ़ने का शौक रहा है. पढ़ाई के बाद वे लंदन चले गए. वहां उन्होंने ट्रेवल एजेंसी व फोटो शॉप में काम किया. चार साल वहां रहने के बाद रस्किन भारत लौट आए. वे 1964 से मसूरी में ही रहते हैं.

अपने जन्‍मदिन पर मीडिया से चर्चा करते हुए रस्किन बॉण्‍ड. फोटो : न्‍यूज18/ईटीवी


17 साल की उम्र में लिखी थी पहली कहानी
बॉण्‍ड ने अपनी पहली कहानी 'रूम ऑन दि रूफ' मात्र 17 साल की उम्र में लिखी थी. रस्किन बॉण्‍ड इस उम्र में भी लिखने का काम करते हैं.

प्रमुख कहानियां और चर्चित उपन्‍यास
रस्किन बॉण्‍ड की प्रमुख कहानियों में द आई हैव इट, द विस एंग्री रिवर, मिस्टर ओलिवर्स डायरी, डेल्ही इज नो फॉर और द काइट मेकर हैं. उनके चर्चित उपन्यास हैं- रूम ऑन द रूफ, सीन्स फ्रॉम ए राइटर्स लाइफ, ससनाज सेवन हसबैंड, ए फाइट ऑफ पिजन्स और लंढौर डेज. रस्किन को कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार भी मिले हैं.

फिल्‍में अाैर टीवी सी‍रियल
रस्किन बॉण्‍ड के कई उपन्यासों और कहानियों पर बॉलीबुड की फिल्में और टीवी सीरियल भी बने हैं. इनमें हिन्दी फिल्म जुनून, सात खून माफ, ब्लू अंब्रेला शामिल हैं.
First published: May 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर