राज्य

आखिर उत्तराखंड में क्यों नहीं रुक रहे सड़क हादसे?

ETV UP/Uttarakhand
Updated: April 21, 2017, 5:06 PM IST
आखिर उत्तराखंड में क्यों नहीं रुक रहे सड़क हादसे?
उत्तराखंड में आए दिन सड़क हादसे हो रहे हैं. दो दिन पहले ही उत्तराखंड-हिमाचल बार्डर पर एक बस के गहरी खाई में गिरने से 44 लोगों की मौत हो गई थी. फिर ये हादसे क्यों नहीं रुकते? उत्तराखंड सरकार पहाड़ में आए दिन होने वाले सड़क हादसों से सबक क्यों नहीं लेती? सबक लेती है तो फिर जांच आयोग से आगे बढ़कर कार्रवाई क्यों नहीं करती? ये कुछ बड़े सवाल हर किसे के जहन में हैं.
ETV UP/Uttarakhand
Updated: April 21, 2017, 5:06 PM IST
उत्तराखंड में आए दिन सड़क हादसे हो रहे हैं. दो दिन पहले ही उत्तराखंड-हिमाचल बार्डर पर एक बस के गहरी खाई में गिरने से 44 लोगों की मौत हो गई थी. फिर ये हादसे क्यों नहीं रुकते? उत्तराखंड सरकार पहाड़ में आए दिन होने वाले सड़क हादसों से सबक क्यों नहीं लेती? सबक लेती है तो फिर जांच आयोग से आगे बढ़कर कार्रवाई क्यों नहीं करती? ये कुछ बड़े सवाल हर किसे के जहन में हैं.

विकास नगर से त्यूणी जा रही बस हादसे मे 44 लोगों की मौत के बाद सभी की जुबान पर यही सवाल है कि आखिर उत्तराखंड में सडक हादसों पर लगाम क्यों नहीं लगाई जा सकती है. जिस विभाग के पास सडक हादसों को राकने की जिम्मेदारी है, वह खुद ही चैन की नींद सोया हुआ है.

उत्तराखंड में सडक हादसो की प्रमुख वजह ओवर लोडिंग, अनफिट वाहनों पर परिवहन विभाग की कार्रवाई न होने के साथ की बिना हैवी ड्राविंग लाइसेंस के हजारों चालकों के द्धारा वाहन चलाना बताया जाता है.

अगर परिवहन विभाग अपनी जिम्मेदारी को बखूबी समझे और ओवर लोडिंग, अनफिट वाहनों के चलने पर रोक लगाने के साथ ही बिना हैवी ड्राइविंग लाइसेंस के चालकों को वाहन न चलाने दे तो निश्चित तैार से उत्तराखंड में सडक हादसों पर लगाम लगाई जा सकती है.

उत्तराखंड के स्थानीय निवासियों की माने तो जिस तरह से प्राइवेट अनफिट वाहन प्रदेश की सडकों पर दौड रहे हैं, उसे प्रदेश में सड़क हादसों में इजाफा देखने को मिल रहा है.

अगर पिछले दो सालो के आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो सड़क हादसों के आंकडे चौकाने वाले हैं.

वर्ष---सड़क हादसे---मृतकों की संख्या---घायलों की संख्या
2015---1523---913---1657
2016---1591---962---1736

ये सड़क हादसों के वे आंकड़े हैं, जो आपके जहन को भी कंपा रहे होंगे की हर साल कितने लोग हादसों की वजह से अपनी जान गंवा रहे हैं. उत्तराखंड में लगातार बढ़ रहे सड़क हादसों के बाद जहां परिवहन विभाग हाथ पर हाथ धरे बैठा हुआ हैं, वहीं रोडवेज कर्मचारी यूनियन परिवह निगम के इस लापरवाही के खिलाफ कोर्ट जाने की तैयारी कर रही हैं.

(देहरादून से ईटीवी रिपोर्टर मनीष डंगवाल की रिपोर्ट)
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर