होम » वीडियो

इस आदमखोर बाघ का शिकार बने दो मजदूर, पकड़ने में छूटे वन विभाग के पसीने

उत्तराखंड11:31 PM IST Mar 16, 2017

उत्तराखंड के रामनगर के छोई गांव के पास गुरुवार सुबह से आतंक का पर्याय बना बाघ आखिरकार पकड़ में आ ही गया. यह बाघ सुबह जंगल में लकड़ी बीनने गए दो खनन मजदूरों को उठाकर ले गया था, जिसमें एक महिला भी शामिल थी. इसके बाद से ही दोनों शवों को बरामद करने का प्रयास किया जा रहा था. लेकिन घायल बाघ इतना आक्रोशित था कि वह किसी को शवों के पास तक आने ही नहीं दे रहा था. डीएफओ कहकशां नसीम ने बताया कि नैनीताल से आई ट्रैक्यूलाइजिंग टीम के साथ ही कार्बेट के ट्रैक्यूलाइज एक्सपर्ट ने बाघ को ट्रैक्यूलाइज कर बेहोश किया, जिसके बाद वहां से शवों को बरामद किया जा सका और उन्हें पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया, जबकि घायल बाघ को नैनीताल जू भेजा जा रहा है.

ETV UP/Uttarakhand

उत्तराखंड के रामनगर के छोई गांव के पास गुरुवार सुबह से आतंक का पर्याय बना बाघ आखिरकार पकड़ में आ ही गया. यह बाघ सुबह जंगल में लकड़ी बीनने गए दो खनन मजदूरों को उठाकर ले गया था, जिसमें एक महिला भी शामिल थी. इसके बाद से ही दोनों शवों को बरामद करने का प्रयास किया जा रहा था. लेकिन घायल बाघ इतना आक्रोशित था कि वह किसी को शवों के पास तक आने ही नहीं दे रहा था. डीएफओ कहकशां नसीम ने बताया कि नैनीताल से आई ट्रैक्यूलाइजिंग टीम के साथ ही कार्बेट के ट्रैक्यूलाइज एक्सपर्ट ने बाघ को ट्रैक्यूलाइज कर बेहोश किया, जिसके बाद वहां से शवों को बरामद किया जा सका और उन्हें पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया, जबकि घायल बाघ को नैनीताल जू भेजा जा रहा है.

Latest Live TV