Home / News / bihar /

poisonous liquor case aurangabad 12 people died one by one health department engaged in survey for hooch tragedy brvj

औरंगाबाद जहरीली शराब कांड: एक-एक कर हो गई 12 लोगों की मौत, सर्वेक्षण में जुटा स्वास्थ्य विभाग

जहरीली शराबकांड में हुई मौत के बाद डीएम सौरभ जोरवाल व एसपी कांतेश कुमार मिश्र की देखरेख में सर्वेक्षण कार्य जारी.

जहरीली शराबकांड में हुई मौत के बाद डीएम सौरभ जोरवाल व एसपी कांतेश कुमार मिश्र की देखरेख में सर्वेक्षण कार्य जारी.

Aurangabad Hooch Tragedy: औरंगाबाद के मदनपुर प्रखंड में कई लोगों ने जहां अपनी जान गंवा दी वहीं, कई लोगों ने अपनी आंखों की रोशनी भी गंवा दी है. जिन गांवों में जहरीली शराब के संभावित सेवन के कारण लोगों की मृत्यु हुई है, उन सभी गांवों में स्वास्थ्य विभाग की ओर से चिकित्सकीय सर्वे कराया गया. नकली शराब की आशंका के तहत कराये जा रहे सर्वे के क्रम में शराब से होने वाले शारीरिक, मानसिक एवं मनोवैज्ञानिक नुकसान और मृत्यु की आशंका के बारे में लोगों को जागरूक किया गया.

रिपोर्ट-संजय सिन्हा
औरंगाबाद. जहरीली शराब से अब तक 12 लोगों मौत हो गई है. औरंगाबाद के मदनपुर प्रखंड में कई लोगों ने अपनी आंखों की रोशनी भी गंवा दी है. वहीं, स्थानीय ग्रामीणों और नेताओं का दावा है कि मौतों की संख्या 20 से अधिक है. जिलाधिकारी सौरभ जोरवाल के अनुसार, राहत कार्य किए जा रहे हैं और कुछ लोगों का इलाज अस्पताल में चल रहा है.  बता दें कि बीते 22 मई को पहली बार जहरीली शराब से मौत का यह मामला तब सामने आया था जब रानीगंज गांव में 3 लोगों की मौत हो गई थी. इसके बाद विभिन्न गांवों में एक के बाद एक मौत होते रहे और अब आधिकारिक रूप से यह आंकड़ा 12 तक पहुंच गया है. हालांकि, कई स्थानीय नेता व ग्रामीण दावा कर रहे हैं कि 20 अधिक लोगों ने इस त्रासदी में अपनी जान गंवाई है.

इसके साथ ही डीएम सौरभ जोरवाल तथा एसपी कांतेश कुमार मिश्र के द्वारा जगह-जगह पर जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है.इस बीच मदनपुर प्रखंड के जिन गांवों में जहरीली शराब के संभावित सेवन के कारण लोगों की मृत्यु हुई है, उन सभी गांवों में स्वास्थ्य विभाग की ओर से चिकित्सकीय सर्वे कराया गया. नकली शराब की आशंका के तहत कराये जा रहे सर्वे के क्रम में शराब से होने वाले शारीरिक, मानसिक एवं मनोवैज्ञानिक नुकसान और मृत्यु की आशंका के बारे में लोगों को जागरूक किया गया.

सर्वे के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बताया कि ग्राम बेरी के चार घरों में सर्वे के बाद किसी तरह की कोई परेशानी नहीं पाई गई. वहीं, खिरियावां में सोलह घरों का सर्वे किया गया तो पता चला कि तीन लोगों का इलाज चल रहा है. ग्राम बरडी के एक व्यक्ति रामाशीष यादव के संबंध में जानकारी मिली कि इलाज हेतु उन्हें प्राइवेट अस्पताल में गया में भर्ती कराया गया है.


आपके शहर से (औरंगाबाद)

बिहार के हर जिले में बनाए जाएंगे नीतीश नगर और मोदी नगर, राबड़ी देवी ने कसा तीखा तंज

 ओवैसी की AIMIM में टूट के बाद बिहार कांग्रेस में बढ़ा टूट का खतरा! बीजेपी के दावे पर पलटवार

बिहार विधानसभा में चलता रहा राष्ट्रगीत, पर बैठे रहे आरजेडी विधायक सऊद आलम

अग्निपथ पर चर्चा को लेकर बिहार में जब विपक्ष ने चलाया समानांतर सदन, जानें फिर क्या हुआ

बिहार में आज से सिंगल यूज प्लास्टिक की बिक्री और इस्तेमाल पर प्रतिबंध, पकड़े जाने पर भारी जुर्माना

Bihar Weather Update: बिहार में 2 जुलाई तक मूसलाधार बारिश के आसार, IMD ने जारी किया अलर्ट

बिहार के हर जिले में बनाए जाएंगे नीतीश नगर और मोदी नगर, सरकार ने की घोषणा

गाजियाबाद में शुरू हुई प्रेम कहानी बिहार पहुंचकर धोखे में बदल गई, प्रेमिका ने की थाने में शिकायत

12 जुलाई को पीएम मोदी आएंगे बिहार, विधान सभा अध्यक्ष से मिले नीतीश कुमार, जानिये क्या है कार्यक्रम

पूर्णिया की तीन नदियों में उफान आया, बायसी अनुमंडल के 25 गांवों में घुसा बाढ़ का पानी

गोपालगंज में निकली रक्तदान जागरूकता रैली बताती है खून की अहमियत, See Photos


दशवत खाप के रहने वाले पचास वर्षीय उमेश राम के संबंध में उनके परिजनों द्वारा बताया गया कि उनका इलाज चल रहा है, जबकि ग्राम परसा में तीस घरों का सर्वे किया गया; जहां कोई दिक्कत नहीं पाई गई. कटैया गांव में एक संभावित व्यक्ति के बारे में सूचना दी गई कि उनका इलाज चल रहा है. पड़रिया गांव में नौ लोग प्रभावित हुए हैं, जिनमें से दो लोगों का इलाज अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज, गया में चल रहा है. वहीं शेष स्थानीय चिकित्सक से इलाज करा रहे हैं.

नोनियाडिह एवं पनवारा गांव में तीन संभावित लोग पाए गए जिनमें से एक का अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज, गया में इलाज चल रहा है तथा दूसरे का इलाज स्थानीय क्लीनिक में चल रहा है. दोनों की स्थिति ठीक बताई गई।साथ ही जिला स्तर से अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. किशोर कुमार के नेतृत्व मे चिकित्सकों की एक टीम के साथ स्टाफ नर्स, एएनएम एवं आशा के द्वारा चिकित्सकीय कैंप के माध्यम से लगातार निगरानी की जा रही है.

Tags:Aurangabad, Bihar News, Liquor Ban