भाषा चुनें :

हिंदी

बिहार: प्रसिद्ध साहित्यकार पंडित चंद्रनाथ मिश्र 'अमर' का निधन, मिथलांचल में शोक की लहर

चंद्रनाथ मिश्र के निधन की खबर मिलते ही मिथिलांचल में शोक की लहर दौड़ गई. मैथिली साहित्य के अनमोल सख्सियत रहे चंद्रनाथ मिश्र के नाम बहुत सारी उपलब्धियां जुड़ी हुई है. मैथिली भाषा के प्रख्यात साहित्यकार रहे मैथिली के प्रसिद्ध कवि और नाटककार थे.

चंद्रनाथ मिश्र 99 वर्ष के थे और कुछ दिन पहले घर में ही गिर गए थे जिसके बाद से अस्वस्थ चल रहे थे.

दरभंगा. मैथिली के प्रख्यात साहित्यकार पंडित चंद्रनाथ मिश्र 'अमर' का गुरुवार रात उनके दरभंगा के मिश्र टोला स्थित आवास पर निधन हो गया. चंद्रनाथ मिश्र 99 वर्ष के थे. कुछ दिन पहले घर में ही गिर गए थे जिसके बाद से अस्वस्थ चल रहे थे. उनका आज निधन हो गया. शुक्रवार को दिन में दो बजे अंतिम संस्कार दरभंगा मेें ही होगा. चंद्रनाथ मिश्र के निधन की खबर मिलते ही मिथिलांचल में शोक की लहर दौड़ गई. मैथिली साहित्य के अनमोल सख्सियत रहे चंद्रनाथ मिश्र के नाम बहुत सारी उपलब्धियां जुड़ी हुई है. चंद्रनाथ मिश्र मूल रूप से मधुबनी जिला के खोजपुर गांव के रहने वाले थे. उनका कर्म भूमि दरभंगा ही रहा. एमएल एकेडमी लहेरिरियासराय से शिक्षक के रूप में अवकाश प्राप्त किया था. उनके पिता भी विद्वान थे और शिक्षा के क्षेत्र में जाना पहचान नाम थे. चंद्रनाथ मिश्र के पिताजी स्व. मुक्ति नाथ मिश्र रामेश्वर लता संस्कृत महाविद्यालय में प्रिंसिपल रह चुके हैं और दरभंगा में ही अपना पूरा जीवन बिताया.


मिथिलांचल में शोक की लहर

चंद्रनाथ मिश्र के निधन की खबर मिलते ही मिथिलांचल में शोक की लहर दौड़ गई. मैथिली साहित्य के अनमोल सख्सियत रहे चंद्रनाथ मिश्र के नाम बहुत सारी उपलब्धियां जुड़ी हुई है. मैथिली भाषा के प्रख्यात साहित्यकार रहे मैथिली के प्रसिद्ध कवि और नाटककार थे. मैथिली पत्रकारिता के इतिहास पर उन्होंने शोध किया था. मैथिली पत्रकारिता को लेकर साहित्य अकादमी पुरस्कार भी 1982 में मिला था. मैथिली की पहली फिल्म कन्यादान में मुख्य भूमिका के किरदार भी निभाया था. लगभग 60 से ज्यादा साहित्य, कथा संग्रह के साथ आशा दिशा, गुदगुदी, युगचक्र, उनटा पाल आदि कविता संग्रह प्रकाशित हुआ था. 1988 में उन्हें साहित्य आकादेमी मैथिली अनुवाद पुरस्कार से भी नवाजा गया था. 2010 में मैथिली साहित्य पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था. इस उम्र में भी वो विद्यापति सेवा संस्थान दरभंगा के अध्यक्ष पद को संभाल रहे थे.


जैसे ही उनके निधन खबर फैली उनके घर लोगों का तांता लगा गया. विद्यापति सेवा संस्थान के महासचिव डॉ बैद्यनाथ चौधरी बैजू ने उनके आवास पर पहुंचकर संस्थान की ओर से श्रद्धा सुमन अर्पित किया. उन्होंने पं चंद्रनाथ मिश्र अमर के निधन को मैथिली साहित्य जगत के लिए अपूर्णीय क्षति बताते हुए कहा कि वे मैथिली के मूर्धन्य साहित्यकारों में से एक थे. दरभंगा के सांसद गोपाल जी ठाकुर ने भी निधन पर दुःख जाहिर करते हुए मैथिली साहित्य में अपूर्णनीय क्षति बताया.

Bihar NewsDarbhanga news