Home / News / bihar /

10 year old mahadalit divyang wonder girl seema now go school on her own feet district administration provide artificial leg nodmk3

अब अपने दोनों पैरों से चलकर स्‍कूल जा सकेगी दिव्‍यांग सीमा, 2 दिन के अंदर लगा अर्टिफिशियल पैर

10 साल की महादलित दिव्‍यांग छात्रा सीमा को जिला प्रशासन ने आर्टिफिशियल पैर लगवाया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

10 साल की महादलित दिव्‍यांग छात्रा सीमा को जिला प्रशासन ने आर्टिफिशियल पैर लगवाया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Divyang Girl Seema Story: दस साल की महादलित छात्रा सीमा अब अपने दोनों पैरों से चलकर पढ़ने के लिए स्‍कूल जा सकेगी. जिला प्रशासन ने सीमा को आर्टिफिशियल पैर लगवा दिया है. न्‍यूज 18 हिन्‍दी पर सीमा की व्‍यथा से जुड़ी कहानी प्रकाशित होने के बाद चारों तरफ से मदद के लिए हाथ आगे बढ़े हैं.

जमुई. बिहार के जमुई जिले की 10 वर्षीय महादलित दिव्‍यांग छात्रा सीमा अब अपने दोनों पैरों से चलकर पढ़ने के लिए स्‍कूल जा सकेगी. जिला प्रशासन ने महज दो दिनों के अंदर सीमा के लिए आर्टिफिशियल पैर की व्‍यवस्‍था करा दी. अब सीमा एक नहीं बल्कि दोनों पैरों के सहारे चलकर स्‍कूल पढ़ने के लिए जा सकेगी. आर्टिफिशियल पैर के साथ जिला प्रशासन की टीम सीमा के घर पहुंची थी. न्‍यूज 18 हिन्‍दी पर सीमा की खबर आने के बाद से ही सरकारी, गैर सरकारी और व्‍यक्तिगत तौर पर मदद के हाथ बढ़ने लगे हैं. गैर सरकारी संगठनों के साथ ही बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने भी सीमा की मदद करने का वादा किया है.

दरअसल, न्यूज़18 की खबर का बड़ा असर हुआ है, जहां जिला प्रशासन ने एक पैर के सहारे स्कूल जाने वाली 10 साल की दिव्यांग सीमा को आर्टिफिशियल पैर लग गया है. सीमा की कहानी सामने आने के महज 2 दिनों के अंदर ही जिला प्रशासन ने सीमा को आर्टिफिशियल पैर लगा दिया है. शुक्रवार को जिला प्रशासन की टीम सीमा के घर पहुंच कर उसको आर्टिफिशियल पर लगाया. अब सीमा दो पैरों की मदद से चल सकेगी. आर्टिफिशियल पैर लगाने पहुंचे अधिकारी ने बताया कि सीमा और उसके परिवार वालों को बाकी और भी लाभ दिया जा रहा है. आर्टिफिशियल पैर लगने के बाद सीमा ने बताया कि अब उसे अच्छा लग रहा है.


अचानक से सीमा के गांव पहुंची जिला प्रशासन की टीम
शुक्रवार के दिन में जिला प्रशासन के अधिकारी स्वतंत्र कुमार सुमन के नेतृत्व में एक टीम अचानक सीमा के गांव फतेहपुर पहुंच गई, जहां डॉक्टर की देखरेख में सीमा को आर्टिफिशियल पर लगाया गया. मौके पर ही सीमा को चलवाकर भी देखा गया, ताकि यदि उसे कोई दिक्‍कत हो तो उसमें तत्‍काल सुधार किया जा सके. आर्टिफिशियल पैर पहनने के बाद सीमा ने वहां मौजूद अधिकारियों को चलकर दिखाया. बताते चलें कि एक पैर पर 1 किलोमीटर की दूरी तय कर स्कूल जाने की खबर न्यूज़ 18 ने दिखाई थी, जिसके बाद सीमा को मदद करने के लिए कई हाथ आगे बढ़े, जिसमें जिला प्रशासन ने भी बढ़-चढ़कर भागीदारी निभाई.

आपके शहर से (पटना)

'जीवन की सांझ' की दर्दनाक कहानी, बेटे-बहू ने मां-बांप को घर से निकाला, वीडियो वायरल

काली कमाई का 'कुबेर' निकला ड्रग इंस्पेक्टर, घर से 4 करोड़ कैश, 38 लाख के गहने बरामद

सीवान में ठेकेदार की गोली मारकर हत्या, हाल में ही लड़ा था मुखिया का चुनाव

7 जुलाई के बाद क्या RCP सिंह बचा सकेंगे कुर्सी या JDU कोटे से किसी और को मिलेगा मौका ?

अमीर बनने की ख्वाहिश में दिनदहाड़े लूटते थे बैंक, रिश्तेदारों के घर छिपाया जाता था कैश

गया में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, एके-56, AK-47 जैसे हथियार के साथ नक्सली गिरफ्तार

OMG! 12 घंटे तक नदी की तेज धार में बहता रहा किसान, 23 किलोमीटर दूर जाकर बची जान

नौकरी लगते ही प्रेमिका से शादी करने से मुकरा कांस्टेबल, SP ने हड़काया तो लिये सात फेरे

पटना-गया-डोभी फोरलेन से जोड़े जा रहे 9 बाइपास, पटना हाईकोर्ट की मॉनिटरिंग में हो रहा काम

क्या महज 5 लाख दहेज के लिए मार दी गई काजल? बेगूसराय में पंखे से लटका मिला शव

बचपन का प्यार के लिए इंजीनियर शौहर का कत्ल, बीवी ने आशिक को घर बुलाकर करवाया खून


आर्टिफिशियल पैर लगने के बाद बोली सीमा- अच्‍छा लगा रहा है
आर्टिफिशियल पैर का मेजरमेंट करने के दो दिन के अंदर ही सीमा को दूसरे पांव पर भी खड़ा कर दिया गया. आर्टिफिशियल पैर लगने के बाद सीमा से जब न्यूज़ 18 ने पूछा तो उसने बताया कि अब अच्छा लग रहा है. उसे अब चलने में परेशानी नहीं होगी. बताते चले कि दो साल पहले ट्रैक्टर की चपेट में आने के बाद उसका पैर बुरी तरह से जख्‍मी हो गया था. उसकी जान बचाने के लिए उसका एक पैर काटना पड़ा था. सीमा अपने गांव के सरकारी स्कूल में चौथी क्‍लास की छात्रा है.

क्‍या बोले DM?
जमुई के जिलाधिकारी अवनीश कुमार सिंह ने बताया कि सीमा का मामला संज्ञान में आने के बाद जिला प्रशासन ने उसे मदद पहुंचाने की कोशिशें शुरू कर दी थीं. जल्द से जल्द सीमा को आर्टिफिशियल पैर देने का प्रयास था जो पूरा हो गया. बुधवार को शिक्षा विभाग की टीम ने सीमा के पैर का मेज़रमेंट किया था और फिर शुक्रवार को आर्टिफिशियल पैर दे दिया गया. इसके अलावा सीमा को पढ़ने लिखने में परेशानी न हो इसलिए तमाम सुविधाएं उसे दी ही जा रही हैं. कलेक्‍टर ने बताया कि सीमा के परिवार को जो भी सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सकेगा वह दिया जा रहा है.

Tags:Bihar News, Jamui news