Home / News / bihar /

a wishing ship was installed in bihar museum for cleanliness of ganges a girl wrote wanted brother nodaa

गंगा की स्वच्छता के लिए बिहार म्यूजियम में लगी विशिंग शिप, बच्ची ने लिखी मनोकामना - भाई चाहिए

इसी भीड़ में बच्ची ने भी अपनी मनोकामना लिखकर टांगी कि उसे एक भाई चाहिए.

इसी भीड़ में बच्ची ने भी अपनी मनोकामना लिखकर टांगी कि उसे एक भाई चाहिए.

Wishing Ship: बिहार म्यूजियम की आर्ट गैलरी में बनाई गई विशिंग शिप लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बनी हुई है. बिहार म्यूजियम इस अनोखी शुरुआत को विजिटर्स खूब पसंद कर रहे हैं. इस विशिंग शिप पर म्यूजियम आने वाले लोग अपनी विश लिखकर टांग रहे हैं. एक छोटी बच्ची ने इस विशिंग शिप में अपनी मनोकामना लिख टांगी है - मुझे एक भाई दे दो.

पटना. बिहार में गंगा की स्वच्छता के लिए हर छोटे-बड़े कदम उठाए जा रहे हैं. इसी क्रम में बिहार म्यूजियम में विशिंग शिप लगाई गई है. गंगा नदी को स्वच्छ बनाने के लिए लोगों को इस शिप के माध्यम से प्रेरित किया जा रहा है. बिहार म्यूजियम की आर्ट गैलरी में बनाई गई विशिंग शिप लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बनी हुई है. बिहार म्यूजियम इस अनोखी शुरुआत को विजिटर्स खूब पसंद कर रहे हैं. इस विशिंग शिप पर म्यूजियम आने वाले लोग अपनी विश लिखकर टांग रहे हैं.

दरअसल, गंगा नदी के प्रदूषण की एक वजह वह आस्था भी है, जिसके तहत लोग गंगा नदी में पूजन सामग्री, हवन सामग्री प्रवाहित कर देते हैं. कई बार तो लोग घर का कूड़ा-कचरा भी यहीं फेंक देते हैं. गली-मुहल्ले का गंदा पानी भी गंगा में मिल रहा है. इन सारी गतिविधियों से गंगा नदी में कचरे का अंबार लगता जा रहा है. इस विशिंग शिप में बताया गया है कि गंगा नदी हमारे लिए कितनी महत्त्वपूर्ण है. उसको स्वच्छ रखना हमारे लिए कितना जरूरी है. यहां गंगा की विशाल कलाकृति लगाई गई है. इस कलाकृति के जरिए लोगों को बताया गया है कि बिना नदी हमारी जिंदगी कैसे वीरान हो सकती है.


इस जागरूकता अभियान से अधिक संख्या में लोगों को जोड़ने के उद्देश्य से बिहार म्यूजियम में विशिंग शिप लगाई गई है. म्यूजियम आनेवाले लोग अपनी मनोकामनाएं लिखकर यहां टांग रहे हैं. इस विशिंग शिप पर रोजाना हजारों लोग अपनी मनोकामना लिखकर टांगते हैं और मां गंगा से प्रार्थना करते हैं कि उनकी मनोकामना पूर्ण कर दें. म्यूजियम आने वाले छोटे बच्चे से लेकर उनके अभिभावक भी कागज का शिप बनाकर अपनी मनोकामनाएं लिख रहे हैं. म्यूजियम आने वाले कई परीक्षार्थी परीक्षा में सफल होने की मन्नत भी मांग रहे हैं. यही नहीं कई परीक्षार्थी अपनी हर परीक्षा में पास होने की विश भी कर रहे हैं. कुछ लोग आईएएस ऑफिसर बनना चाहते हैं, वे भी मां गंगा से इस विशिंग शिप के माध्यम से प्रार्थना कर रहे हैं. एक छोटी बच्ची ने इस विशिंग शिप में अपनी मनोकामना लिख टांगी है – मुझे एक भाई दे दो.

आपके शहर से (पटना)

विधायकों के प्रश्नों के उत्तर नहीं मिलने से बिहार विधानसभा अध्यक्ष नाराज़, अधिकारियों को लगाई फ़टकार

'जीवन की सांझ' की दर्दनाक कहानी, बेटे-बहू ने मां-बांप को घर से निकाला, वीडियो वायरल

पटना-गया-डोभी फोरलेन से जोड़े जा रहे 9 बाइपास, पटना हाईकोर्ट की मॉनिटरिंग में हो रहा काम

OMG! 12 घंटे तक नदी की तेज धार में बहता रहा किसान, 23 किलोमीटर दूर जाकर बची जान

गया में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, एके-56, AK-47 जैसे हथियार के साथ नक्सली गिरफ्तार

नौकरी लगते ही प्रेमिका से शादी करने से मुकरा कांस्टेबल, SP ने हड़काया तो लिये सात फेरे

काली कमाई का 'कुबेर' निकला ड्रग इंस्पेक्टर, घर से 4 करोड़ कैश, 38 लाख के गहने बरामद

क्या महज 5 लाख दहेज के लिए मार दी गई काजल? बेगूसराय में पंखे से लटका मिला शव

सीवान में ठेकेदार की गोली मारकर हत्या, हाल में ही लड़ा था मुखिया का चुनाव

32 की उम्र में 12 शादियां, हर बीवी से खुद को बताता था कुंवारा फिर करवाता था धंधा

बचपन का प्यार के लिए इंजीनियर शौहर का कत्ल, बीवी ने आशिक को घर बुलाकर करवाया खून


Tags:Bihar News, Cleanliness campaign, Ganga river