भाषा चुनें :

हिंदी

COVID 19: स्वास्‍थ्यकर्मियों ने खड़े किए हाथ, मास्क और सैनेटाइजर नहीं मिले तो सड़कों पर उतर किया प्रदर्शन
Patna News in Hindi

पटना स्थित इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (IGIMS) की संविदा नर्सें और वार्ड ब्वाय ने मास्क और सैनिटाइजर नहीं मिलने के विरोध में कार्य बहिष्कार कर दिया है.

पटना में स्वास्‍थ्यकर्मियों ने प्रदर्शन कर मास्क और सैनेटाइजर की मांग की.

पटना. कोरोना जैसी महामारी से निपटने में भले ही सरकारी महकमा जी जान से जुटा है लेकिन अस्पतालों में अब भी सुविधाओं की कमी है. ऐसे में अस्पताल कर्मियों को भी जान का डर सताने लगा है और मामला कार्य बहिष्कार तक पहुंच गया है. बिहार की राजधानी पटना स्थित इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (IGIMS) की संविदा नर्सें और वार्ड ब्वाय ने मास्क और सैनिटाइजर नहीं मिलने के विरोध में कार्य बहिष्कार कर दिया है और सभी मेनगेट पर आकर प्रदर्शन कर रहे हैं.


संविदा नर्स श्वेता का आरोप है कि कई दिनों से आइसोलेशन वार्ड में संविदा कर्मी बिना किसी सुरक्षा के कोरोना संदिग्ध मरीजों का इलाज कर रहे हैं लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है. वहीं, नर्सों ने यह भी आरोप लगाया कि स्थायी कर्मियों से ड्यूटी नहीं करवाकर संविदा कर्मियों की जान के साथ खिलवाड़ है.


बतौर नर्सों ने अस्पताल के अधीक्षक और निदेशक को पत्र भी लिखा है कि सभी सुविधा प्रदान किया जाए. साथ ही 50 लाख का जीवन बीमा संविदा कर्मियों का भी करवाया जाए, तभी संविदा कर्मी आइसोलेशन में ड्यूटी करेंगे. हालाकि इस बाबत अधीक्षक डॉ मनीष मंडल ने भरोसा दिया है कि शनिवार शाम से मास्क और सैनिटाइजर की कमी नहीं होने देंगे.


बिहार में 1760 हुई कोरोना संदिग्धों की संख्या, 9 मरीज मिले पॉजिटिव

उल्लेखनीय है कि बिहार में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 9 हो गई है. संदिग्धों की सूची में शुक्रवार को 304 नए लोग शामिल किए गए हैं. इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना संदिग्धों की संख्या 1760 हो गई. बता दें कि गुरुवार तक 1456 लोग सर्विलांस में लिए गए थे.


ये भी पढ़ें- Coronavirus का कहर थमा नहीं, चमकी बुखार ने दी दस्तक, 2019 में मरे थे 111 बच्चे


COVID-19: बिहार के 300 से ज्यादा MLA-MLC कोरोना फंड में देंगे 50-50 लाख रुपए