Home / News / bihar /

2014 के Exit Polls में बिहार के वोटरों को पहचानने में 'गच्चा' खा गई थीं सर्वे एजेंसियां

2014 के Exit Polls में बिहार के वोटरों को पहचानने में 'गच्चा' खा गई थीं सर्वे एजेंसियां

नरेन्द्र मोदी (फाइल फोटो)

नरेन्द्र मोदी (फाइल फोटो)

2014 में किस राजनीतिक दल को बिहार में कितनी सीटें मिलेंगी इसको लेकर कई तरह के एग्जिट पोल सामने आए थे. सभी एग्जिट पोल ने अपने सर्वे को सही बताया था.

कहते हैं उत्तर प्रदेश के बाद अगर किसी राज्य की सबसे अधिक केंद्र में दखल होती है तो वह बिहार है. यहां से 40 सांसद चुनकर आते हैं. प्रदेश में इस बार की सियासी फिजा पहले से बदली हुई है क्योंकि गठबंधन दलों में अदला बदली सी स्थिति हो गई है. वर्ष 2014 के चुनाव में जहां बीजेपी, एलजेपी और आरएलएसपी (एनडीए) साथ थी वहीं आरजेडी-कांग्रेस का गठबंधन था. जबकि नीतीश कुमार ने अलग चुनावी लड़ाई लड़ी थी. लेकिन इस बार नीतीश कुमार एनडीए के साथ हैं वहीं आरएलएसपी महागठबंधन ज्वाइन कर चुकी है. इसमें आरजेडी-कांग्रेस-हम-आरएलएसपी और वीआईपी एक साथ है.

माना जाता है कि जिसने राजनीतिक दल ने उत्तर प्रदेश और बिहार में जीत हासिल कर ली केंद्र की सत्ता उसी के हाथ में होती है.  2014 में किस राजनीतिक दल को बिहार में कितनी सीटें मिलेंगी इसको लेकर कई तरह के एग्जिट पोल सामने आए थे. सभी एग्जिट पोल ने अपने सर्वे को सही बताया था.

आपके शहर से (पटना)

पटना के मोस्ट वॉन्टेड क्रिमिनल को बिहार STF ने नागपुर से दबोचा, 14 साल से था फ़रार

बिहार विधानसभा अध्यक्ष के इस्तीफे को लेकर संशय बरकरार, JDU ने विजय सिन्हा को दी नसीहत

पटना से दिल्ली गए तेजस्वी यादव, कहा- मंत्रिमंडल गठन को लेकर लालू यादव से करेंगे बात

सोनिया गांधी ने नीतीश कुमार के नेतृत्व में बनवाई महागठबंधन सरकार, कांग्रेस विधायक का खुलासा

बहन से छेड़खानी का विरोध करना भाई को भारी पड़ा, दबंगों ने खंभे से बांध कर की पिटाई

10 लाख नौकरियां देने पर डिप्टी CM तेजस्वी यादव बोले- बहुमत साबित करने के बाद करेंगे वादा पूरा

CM नीतीश पर बरसे नित्यानंद राय, कहा- महागठबंधन सरकार बनते ही बिहार में 'गुंडाराज का आगाज़'

मुजफ्फरपुर में तेज रफ्तार मोटरसाइकिल बिजली के पोल से टकराई, हादसे में 2 युवकों की मौत

सुशील मोदी के 'दावा' को CM नीतीश ने बताया 'बकवास', कहा- उपराष्ट्रपति बनने की इच्छा नहीं

बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को झारखंड बीजेपी का अनोखा गिफ्ट, जानकर खुश हो जाएंगे बेरोजगार!

CM नीतीश जल्द निकलेंगे देश भर के दौरे पर, 2024 के लिए BJP विरोधियों को करेंगे एकजुट

गौरतलब है कि टाइम्स नाउ- ओआरजी के सर्वे ने दावा किया था कि एनडीए को 28 सीट पर जीत मिलेगी तो वहीं यूपीए को 2 सीटों पर जीतने की बात कही गई थी। वहीं, सर्वे ने जनता दल (यूनाइटेड) को 10 सीट जीतने का दावा किया था.

सीएनएन-आईबीएन-सीएसडीएस के सर्वे में एनडीए को 24 और यूपीए 13 सीटें जीतता दिख रहा था. जबकि सर्वे ने जेडीयू को 3 सीटों पर जीत हासिल करने की बात की थी.

एबीपी न्यूज नीलसन के दावे को मुताबिक एनडीए बिहार में 20 जबकि यूपीए 15 सीटें हासिल करते दिख रहा था. सर्वे ने जेडीयू को 4 तो अन्य के 1 सीट जीतने पर मुहर लगाई थी.

सी-वोटर्स इंडिया टीवी के अनुसार बिहार में एनडीए 28 तो यूपीए 10 सीट जीत रहा था. जबकि सर्वे ने जेडीयू को 2 सीट जीतने का दावा किया था.

न्यूज 24 टुडे चाणक्य की मानें तो उसके सर्वे ने एनडीए को 29 जबकि यूपीए को 10 सीट पर जीत हासिल करने की बात कही थी. इस सर्वे ने जेडीयू को 1 सीट पर जीत का दावा किया था.

हालांकि जब परिणाम सामने आए तो सब चौंक गए. करीब-करीब सारें एग्जिट पोल फेल साबित हुए थे.  सिर्फ न्यूज 24 टुडे चाणक्य का सर्वे ही यहां भी तकरीबन सही साबित हुआ था.

न्यूज 24 टुडे चाणक्य के एग्जिट पोल में एनडीए को 29 और यूपीए को 10 सीटों पर जीत दर्ज करने का अनुमान जताया गया था.  वहीं जब नतीजे सामने आए तो एनडीए 31 और यूपीए ने 7 सीट पर जीत हासिल की.

ये भी पढ़ें-