होम / न्यूज / बिहार /

सोनिया गांधी ने नीतीश कुमार के नेतृत्व में बनवाई महागठबंधन सरकार, कांग्रेस विधायक का खुलासा

सोनिया गांधी ने नीतीश कुमार के नेतृत्व में बनवाई महागठबंधन सरकार, कांग्रेस विधायक का खुलासा

कांग्रेस की विधायक की मानें तो सोनिया गांधी ने बिहार में महागठबंधन सरकार बनवाने में मध्यस्थता की भूमिका निभाई है (फाइल फोटो)

कांग्रेस की विधायक की मानें तो सोनिया गांधी ने बिहार में महागठबंधन सरकार बनवाने में मध्यस्थता की भूमिका निभाई है (फाइल फोटो)

Bihar News: यह बात अब खुलकर सामने आ गई है कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में महागठबंधन की नई सरकार के गठन के पीछे सोनिया गांधी की अहम भूमिका है. कांग्रेस की विधायक प्रतिमा दास ने यह खुलासा किया है. उन्होंने कहा कि मैडम (सोनिया गांधी) ने महागठबंधन सरकार के गठन के लिए जिस तरीके से मध्यस्थ की भूमिका निभाई है उससे मैं खुद को गौरवान्वित महसूस कर रही हूं.

पटना. बिहार में महागठबंधन की नई सरकार के गठन के बाद से नित नए खुलासे हो रहे हैं. इस कड़ी में अब यह बड़ा खुलासा हुआ है कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने महागठबंधन की सरकार बनाने में मध्यस्थ की अहम भूमिका निभाई थी. अभी तक यह कयास लगाए जा रहे थे कि नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने सोनिया गांधी को फोन कर उनसे इस पूरे मामले में मध्यस्थता का अनुरोध किया था, लेकिन यह बात अब खुलकर सामने आ गई है कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में महागठबंधन की नई सरकार (Mahagathbandhan Government) के गठन के पीछे सोनिया गांधी की अहम भूमिका है. इसका खुलासा कांग्रेस की विधायक प्रतिमा दास ने किया है.

प्रतिमा दास ने कहा कि मैडम (सोनिया गांधी) ने महागठबंधन सरकार के गठन के लिए जिस तरीके से मध्यस्थता की भूमिका निभाई है उससे मैं खुद को गौरवान्वित महसूस कर रही हूं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायकों को मंत्री पद के लिए अंतिम फैसला लेने का अधिकार पार्टी हाईकमान पर छोड़ देना चाहिए. खगड़िया से विधायक छत्रपति यादव के द्वारा खुद को मंत्री बनाए जाने के लिए आलाकमान को पत्र लिखे जाने और कांग्रेस के कई विधायकों के दिल्ली में होने पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए प्रतिमा दास ने कहा कि लोकतंत्र में हर किसी को अपने तरीके से बात रखने का अधिकार है. खुद को मंत्री बनाने को लेकर प्रतिमा दास ने कहा कि वो अपनी तरफ से कोई दावेदारी नहीं जता रही हैं, लेकिन पार्टी आलाकमान की सब पर नज़र है और हाईकमान का फैसला ही सर्वोपरि है.


वहीं, कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजीत शर्मा ने कहा है कि कांग्रेस को कम से कम चार मंत्री पद मिलने चाहिए क्योंकि विधायकों की संख्या के आधार पर कांग्रेस का इतना हक बनता है. उन्होंने कहा कि गुरुवार को सभी विभागों के बारे में महागठबंधन के बीच अंतिम फैसला हो जाएगा जिसके बाद नामों पर अंतिम मुहर शुक्रवार को दिल्ली में हाईकमान की तरफ से लगना तय है.

आपके शहर से (पटना)

तेजस्वी यादव ने की नई शुरुआत, ट्विटर के जरिए युवक को पहुंचाई मदद; IGIMS में कराई बेड की व्यवस्था

कैमूर: रामगढ़ सरस्वती शिशु मंदिर से 3 साल की मासूम बच्ची का अपहरण

बिहार: सायबर अपराधियों के निशाने पर अफसर, छपरा डीएम के नाम पर मांगी जा रही रकम

Crime News: बिहार में सुबह-सुबह गोलियों की तड़तड़ाहट, आरा में भाजपा नेता को मारी गोली

PFI पर बैन क्या बिहार की सियासत पर ज्यादा असर डालेगा? भाजपा का बड़ा इशारा

बिहार में होने वाले नगर निकाय चुनाव पर क्या लगेगी रोक? पटना HC 4 अक्टूबर को सुनाएगा फैसला

बिहार इन्वेस्टर्स मीट: अडानी ग्रुप ने की बिहार सरकार की तारीफ, नीतीश-तेजस्वी ने कही यह बात

CSBC Bihar Police Admit Card 2022 Released: CSBC ने जारी किया प्रोहिबिशन कांस्टेबल का एडमिट कार्ड, ऐसे करें डाउनलोड 

Munger: मेगा क्रेडिट कैंप का आयोजन कर एक दिन में बांटे गये 136.70 करोड़ रुपये लोन

Navratri 2022: मंदिर के फर्श पर सीधा लेट गया ये भक्त, सीने पर स्थापित कर लिया कलश

Video: 'हाथ मत छोड़ना, मर जाऊंगा', स्पीड में थी ट्रेन और खिड़की पर लटका युवक लगाता रहा गुहार


उधर, बिहार कांग्रेस के प्रभारी भक्त चरण दास नामों की सूची लेकर दिल्ली रवाना हो गए हैं जहां पार्टी हाईकमान के साथ उनकी बैठक होगी और नामों पर अंतिम मुहर लगेगी. कांग्रेस के विधायक शकील अहमद खां, संतोष मिश्रा समेत कई विधायक फिलहाल दिल्ली में डेरा जमाए हुए हैं ताकि आलाकमान के सामने मंत्री पद को लेकर अपनी दावेदारी मजबूत कर सकें.

Tags:Bihar News in hindi, Bihar politics, CM Nitish Kumar, Nitish Government, Sonia Gandhi

अधिक पढ़ें