Home / News / business /

बड़े काम का है FD अकाउंट, अच्छे रिटर्न के साथ पैसा भी महफूज, और भी हैं खासियत

बड़े काम का है FD अकाउंट, अच्छे रिटर्न के साथ पैसा भी महफूज, और भी हैं खासियत

बैंकों में 7 दिन से 10 साल तक के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट किया जा सकता है.  (Image-Pixabay)

बैंकों में 7 दिन से 10 साल तक के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट किया जा सकता है. (Image-Pixabay)

आप जो एफडी कराते हैं, उस पर बैंक से आसानी से लोन भी मिल जाता है. कुछ बैंक उसके आधार पर ओवरड्राफ्ट की सुविधा भी देते हैं. फिक्स्ड डिपॉजिट में आपके पास यह मौका रहता है कि आप मैच्‍योरिटी से पहले भी पैसा निकला सकते हैं.

Fixed Deposit Benefits: आम आदमी के निवेश के लिए सावधि जमा या फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) अकाउंट एक लोकप्रिय स्कीम है. एफडी में एक निश्चित अवधि के लिए एकमुश्त पैसे जमा करने की जरूरत होती है. फिक्स्ड डिपॉजिट खाते में जमा रकम पर निश्चित ब्याज तो मिलता ही है साथ ही सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें पैसा महफूज रहता है. बाजार के तमाम उतार-चढ़ाव का एफडी पर कोई असर नहीं होता है.

फिक्स्ड डिपॉजिट पर पहले से तय दर पर ब्याज मिलता है. जब FD मैच्योर हो जाती है, तो मूलधन के साथ ब्याज का भुगतान किया जाता है. यहां निवेशकों को एक निश्चित ब्याज दर और पूंजी के सुरक्षा की गारंटी दी जाती है. इसलिए जब भी बात निवेश की आती है तो सबसे पहला विकल्प फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposit) यानी एफडी (FD) का ही दिखता है. एफडी पर अलग-अलग बैंक में अलग-अलग ब्याज (Interest Rate) मिलती है.


यह भी पढ़ें- कर्ज के जाल से मुक्ति दिलाएंगे ये Financial Tips, जानें बचत के आसान तरीके

एफडी के प्रकार
आप FD में अलग-अलग तरीकों से भी निवेश कर सकते हैं. आपके पास क्यूमलेटिव या नॉन क्यूमलेटिव FD में निवेश करने का विकल्प है. संचयी FD पर ब्याज जमा की अवधि के दौरान इकट्ठा किया जाता है और फिर मैच्योरिटी पर पूरी तरह से रिटर्न दिया जाता है. जबकि गैर-संचयी यानी नॉन क्यूमलेटिव FD पर आपको मासिक, छमाही या सालाना ब्याज मिलता है.

सरकारी बैंकों में 7 दिन से 10 साल तक के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट किया जा सकता है. आप बैंक में अपने पैसे की 7 दिन के लिए एफडी भी करवा सकते हैं और 10 साल के लिए भी पैसे निवेश कर सकते हैं. ऐसे में हर साल के हिसाब से अलग अलग ब्याज दर तय की गई है. आप जितने ज्यादा दिन तक पैसे निवेश करते हैं, आपको उतना ही ज्यादा ब्याज मिलता है.

यह भी पढ़ें- करोड़पति बनकर होंगे रिटायर, इस योजना में करे निवेश, जानें पूरा प्लान

FD के फायदे
फिक्स्ड डिपॉजिट में आपके पास यह मौका रहता है कि आप मैच्‍योरिटी से पहले भी पैसा निकला सकते हैं. हालांकि, मैच्योरिटी से पहले पैसा निकालने पर आपको कुछ चार्ज देना पड़ता है. एफडी की इसी खासियत के चलते इसे लिक्विड निवेश भी कहा जाता है. अगर अचानक कोई इमरजेंसी आ जाए तो आप तुरंत पैसा निकाल सकते हैं.

एफडी पर लोन
आप जो एफडी कराते हैं, उस पर बैंक से आसानी से लोन भी मिल जाता है. कुछ बैंक उसके आधार पर ओवरड्राफ्ट की सुविधा भी देते हैं. बैंकों के लिए आपकी एफडी एक तरह से गारंटी का काम करती है, अगर आप लोन नहीं चुका सके तो लोन के पैसे आपकी एफडी से कवर कर लिए जाएंगे.

टैक्स में छूट का फायदा
अगर आप 5 साल या उससे अधिक दिनों के लिए एफडी करते हैं तो उस पर इनकम टैक्स की धारा 80सी के तहत टैक्स छूट भी मिलती है. इसके तहत साल भर में आप 1.5 लाख रुपये तक पर टैक्स छूट पा सकते हैं. 5 साल से कम की एफडी कराते हैं तो टैक्स चुकाना होगा.

Tags:Bank FD, FD Rates, Fixed deposits