लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबक्रिकेटआईपीएल 2023वेब स्टोरीजफूडमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#GiveWingsToYourSavings#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealthCryptocurrency

ट्रेंडिंग

और भी पढ़ें
होम / न्यूज / व्यवसाय /

नेपाल या सिक्किम से गुजरने की नहीं होगी जरूरत, डायरेक्ट मानसरोवर यात्रा वाया पिथौरागढ़, 93% काम पूरा

नेपाल या सिक्किम से गुजरने की नहीं होगी जरूरत, डायरेक्ट मानसरोवर यात्रा वाया पिथौरागढ़, 93% काम पूरा

Kailash Mansarovar Yatra: कैलाश मानसरोवर यात्रा श्रद्धालुओं के लिए पहले के मुकाबले काफी आसान हो जाएगी. हाल ही में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि कैलाश मानसरोवर रोड प्रोजेक्ट का 93 फीसदी काम पूरा हो चुका है.

कुछ दिनों की रह जाएगी हफ्तों की यात्रा (फोटो- न्यूज18)

कुछ दिनों की रह जाएगी हफ्तों की यात्रा (फोटो- न्यूज18)

हाइलाइट्स

कैलाश मानसरोवर रोड प्रोजेक्ट का 90 फीसदी से ज्यादा काम पूरा
वर्तमान में कैलाश मानसरोवर यात्रा में लगभग 2 से 3 सप्ताह लगते हैं
यात्रा समय में कई दिन की कमी आने की उम्मीद

देहरादून. आने वाले समय में कैलाश मानसरोवर यात्रा (Kailash Mansarovar Yatra) श्रद्धालुओं के लिए पहले के मुकाबले काफी सुगम होने जा रही है. कैलाश मानसरोवर यात्रा अब बिना चीन या नेपाल गए पूरी हो सकेगी. दरअसल, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने हाल ही में कहा कि कैलाश मानसरोवर रोड प्रोजेक्ट का 90 फीसदी से ज्यादा काम पूरा हो चुका है. यह मार्ग उत्तराखंड के पिथौरागढ़ से होकर जा रहा है.

न्यूज एजेंसी पीटीआई को दिए एक इंटरव्यू में गडकरी ने कहा, “कैलाश मानसरोवर रोड प्रोजेक्ट का 93 फीसदी काम पूरा हो चुका है.” नई सड़क से कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने वाले तीर्थयात्रियों के यात्रा समय में कई दिन की कमी आने की उम्मीद है. वर्तमान में सिक्किम या नेपाल रूट्स के माध्यम से कैलाश मानसरोवर की यात्रा में लगभग 2 से 3 सप्ताह लगते हैं.

ये भी पढ़ें- दिल्‍ली से 4 घंटे में अमृतसर तो 6 में वैष्‍णो देवी, श्रीनगर के लगेंगे 8 घंटे, एक्‍सप्रेसवे से होगा यह कमाल

धारचूला-लिपुलेख रोड कनेक्टिविटी के लिए BRO की सराहना
केंद्रीय मंत्री ने साल 2022 में, कैलाश मानसरोवर यात्रा रूट के रूप में लोकप्रिय धारचूला को लिपुलेख तक रोड कनेक्टिविटी के काम को पूरा करने के लिए बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन (BRO) की सराहना की थी. धारचूला-लिपुलेख रोड, पिथौरागढ़-तवाघाट-घाटियाबागढ़ रोड का विस्तार है. यह घाटियाबागढ़ से निकलती है और कैलाश मानसरोवर के प्रवेश द्वार लिपुलेख पास पर समाप्त होती है.

ये भी पढ़ें- दिल्‍ली-मुंबई एक्‍सप्रेसवे से जुड़ेगा DND फ्लाईवे, नोएडा से 3 घंटे में जयपुर तो दिल्‍ली से 2 घंटे में, इस राज्य के लोगों को भी फायदा

यात्रा की अवधि कई दिन हो जाएगी कम
बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन ने 80 किलोमीटर लंबे धारचूला को लिपुलेख से जोड़ा है. यह विस्तार 6000 से 17060 फीट की ऊंचाई पर है. इस प्रोजेक्ट के पूरा होने के साथ कैलाश मानसरोवर यात्रा के तीर्थयात्रियों द्वारा जोखिम भरे इलाके के माध्यम से कठिन यात्रा से बचा जा सकता है और यात्रा की अवधि कई दिनों तक कम हो जाएगी.

.

Tags: Mansarovar Yatra, National Highways Authority of India, Nitin gadkari, Union Minister Nitin Gadkari

FIRST PUBLISHED : March 26, 2023, 20:13 IST
अधिक पढ़ें