फोरलेन के लेटलतीफी पर HC ने किया कंस्ट्रक्शन कंपनी के डायरेक्टर को तलब

बिलासपुर से रायपुर तक बनाए जा रहे फोरलेन के काम में लेटलतीफी पर दायर कि गई जनहित याचिका में सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट चीफ जस्टिस के डिवीजन बैंच ने एनएच के कांट्रेक्ट लेने वाली कंपनिय़ों के डायरेक्टरों को 18 सितंबर की अगली सुनवाई में उपस्थित होने का निर्देश दिया है.

Pankaj Gupte , News18 Chhattisgarh
बिलासपुर से रायपुर तक बनाए जा रहे फोरलेन के काम में लेटलतीफी पर दायर कि गई जनहित याचिका में सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट चीफ जस्टिस के डिवीजन बैंच ने एनएच के कांट्रेक्ट लेने वाली कंपनिय़ों के डायरेक्टरों को 18 सितंबर की अगली सुनवाई में उपस्थित होने का निर्देश दिया है.पिछले सुनवाई के दौरान सभी को शपथ-पत्र के साथ बताने के लिए कहा गया था कि काम में लेटलतीफी क्यों हो रही है.रायपुर-बिलासपुर नेशनल हाइवे में काम की धीमी गति को लेकर रायपुर में रहने वाले रजत तिवारी ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका लगाई है.इस पर पिछली कई सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने केंद्र व राज्य शासन, नेशनल हाईवे अथारिटी और ठेका कंपनियों से जवाब-तलब किया था. मामले कि सुनवाई के लिए हाईकोर्ट ने बुधवार की तारीख तय की थी.सुनवाई के दौरान एनएच के निर्माण में लेटलतीफी को लेकर हाईकोर्ट चीफ जस्टिस के डिवीजन बैंच ने अब कंपनी के डायरेक्टर को तलब किए हैं. मामले में अगली सुनवाई 18 सितंबर को होगी, कोर्ट ने जिस प्रकार से निर्माण कंपनी के डायरेक्टर तलब किए हैं,उससे लगता है कि कोर्ट पेश किए गए शपथ-पत्र में जो कारण गिनाए गए हैं, उनसे संतुष्ट नहीं है.वास्तविक्ता यह है कि एनएच के निर्माण ना होने तमाम मार्ग पर अव्यवस्था बनी हुई है. जगह -जगह सामान फैला है और इस नेशनल हाईवे से लगे गांवों के लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

Trending Now