Home / News / chhattisgarh /

bilaspur power plant burns 12 tonnes of weed weed to generate electricity see this unique process nodps

गांजे से बना डाली बिजली, छत्तीसगढ़ में पहली बार हुआ यह कारनामा, जानें यह अनोखी प्रक्रिया

पुलिस हेडक्वार्टर से मिले निर्देश के तहत बिलासपुर रेंज के 6 जिलों में दर्ज़ 553 प्रकरणों में करीब 12 टन गांजा जब्त किया गया था.

पुलिस हेडक्वार्टर से मिले निर्देश के तहत बिलासपुर रेंज के 6 जिलों में दर्ज़ 553 प्रकरणों में करीब 12 टन गांजा जब्त किया गया था.

छत्तीसगढ़ में गांजे को पावर प्लांट में जलाकर बिजली बनाई गई. दरअसल पुलिस की कार्रवाई के दौरान जब्त हुए गांजे को नष्ट करना था. इसके नष्टीकरण के साथ ही इसका प्रयोग किया गया. गांजे को पावर प्लांट में डालकर जलाया गया और करीब 5 मेगावाट बिजली पैदा की गई. छत्तीसगढ़ में गांजे को जलाकर बिजली बनाने का यह तरीका पहली बार प्रयोग किया गया है. इसके साथ ही जब्त अन्य नशीले पदार्थों को भी नष्ट किया गया.

बिलासपुर. छत्तीसगढ़ के बिलासपुर पावर प्लांट में गांजे को जलाकर बिजली बनाई गई है. इस पावर प्लांट में करीब 12 टन गांजा डाला गया. जब यह गांजा जलाया तो करीब 5 मेगावॉट बिजली का उत्पादन हुआ. खास बात यह है कि इस गांजे को बिलासपुर रेंज से जब्त किया गया था. छत्तीसगढ़ में पहली बार इस विधि ने बिजली का उत्पादन किया गया है. अब इस तरीके की चारों तरफ चर्चा की जा रही है. मौके पर मौजूद प्लांट के कर्मचारियों ने बताया कि करीब 1 घंटे तक 12 टन गांजा जलता रहा.

साथ ही जब्त किया गया गांजा भी नष्ट हो गया. दरअसल, पूरे देश में 12 से 26 जून तक नशे से आजादी का पखवाड़ा मनाया जा रहा है. जिसमें मादक पदार्थों के दुष्प्रभाव, जागरुकता के साथ इसके धरपकड़ और जब्त नशीले पदार्थों के नष्टीकरण का काम किया जा रहा है. इसी कड़ी में पुलिस हेडक्वार्टर से मिले निर्देश के तहत बिलासपुर रेंज के 6 जिलों में दर्ज़ 553 प्रकरणों में करीब 12 टन गांजा जब्त किया गया था. इस गांजे को पॉवर जनरेट करने में उपयोग कर नष्ट किया गया. जब्त गांजे को रतनपुर क्षेत्र के बायो पावर प्लांट में जलाया गया. जिससे करीब 5 मेगावाट बिजली जनरेट हुई.


पहली बार किया गया प्रयोग
पहली बार नया प्रयोग करते हुए हाई पावर ड्रग डिस्पोज़ल कमेटी ने गांजा नष्ट करने के साथ इसका उपयोग बिजली उत्पादन में किया है. इसके साथ ही संभाग के सभी जिलों में की गई नशे के खिलाफ कार्यवाई में जप्त मादक पदार्थो का किया गया. यह प्रयोग सुधा बायो पॉवर प्राइवेट लिमिटेड मोहतराई के बॉयलर में किया गया.

आपके शहर से (बिलासपुर)

छत्तीसगढ़ के इस जिले में मूसलाधार बारिश ने मचाई तबाही, कॉलोनी में कमर तक भरा पानी, घरों में कैद हुए लोग

Chhattisgarh Weather: बिलासपुर, मुंगेली, धमतरी समेत 11 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, बाढ़ के हालात

छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने शुरू की गौरव पदयात्रा, 14 अगस्त तक जारी रहेगी, ग्रामीणों तक पहुंचने का लक्ष्य

छत्तीसगढ़ी म पढ़व- पिंजरा के सुगना बोले- सगा आ हे पानी दे दे ओ दीदी

छत्तीसगढ़ के नवनियुक्त बीजेपी अध्यक्ष अरुण साव बोले- 2023 में बनाएंगे सरकार, बताई आगे की रणनीति

छत्तीसगढ़ी म पढ़व- राखी बांधे बर बहिनी मइके आही, रक्षाबंधन के धरम ल भइया निभाही

छत्तीसगढ़ में नामकरण को लेकर सियासत तेज, जीएस मिश्रा बोले- बीजेपी की सरकार आई तो सभी आदेश होंगे UNDO

AIIMS BECIL Sarkari Naukri 2022: 10वीं पास AIIMS में बिना परीक्षा पा सकते हैं नौकरी, जल्द करें आवेदन, मिलेगी अच्छी सैलरी 

छत्तीसगढ़ बीजेपी में बड़ा बदलाव, सांसद अरुण साव बनाए गए नए प्रदेश अध्यक्ष, विष्णुदेव साय की छुट्टी

ED का बड़ा खुलासा: बांग्लादेश से रायपुर लाया गया था सोना, मिले 13 करोड़ के जेवरात, नगद भी जब्त

Chhattisgarh: पूर्व मेयर प्रमोद दुबे पर तिरंगे के अपमान का आरोप, BJP ने दी कानूनी कार्रवाई की चेतावनी


यह पकड़ाई नशे की सामग्री
नशे से आजादी का पखवाड़े में कार्रवाई के दौरान 553 प्रकरणों में 12.767 टन गांजा, 13 नग पौधा, 8380 नग टेबलेट, 11220 नग कफ सिरप, 879 नग कैप्सूल और 222 नग इंजेक्शन पकड़े गए थे. जिन्हें नष्ट किया गया है. नशे की इस सामग्री के नष्टीकरण के दौरान रेंज आई जी रतनलाल डांगी, एसएसपी पारुल माथुर, एएसपी उमेश कश्यप, एएसपी दीप माला कश्यप सहित संभाग के सभी थानों के अधिकारी कर्मचारी रहे मौजूद. नशीला पदार्थ सिरप, टेबलेट और इंजेक्शन पर भी रोलर चला उसे नष्ट किया गया. आईजी रतनलाल डांगी ने बताया कि, पहली बार जब्त गांजा का उपयोग बायोमास प्लांट में किया गया. जिसमें गांजा नष्ट करने के साथ इसका यूज पॉवर जनरेट करने में किया गया.

Tags:Bilaspur news, Chhattisgarh news