Home / News / chhattisgarh /

bjp strugling hard to execute action plan for 2023 assembly polls in chhattisgarh see the detailed report nodps

Chhattisgarh भाजपा में बदलाव की बयार, अब 2023 विधानसभा चुनाव पर पार्टी की नजरें, जानें प्लानिंग

अपने पहले ही दौरे में जामवाल ने आधा दर्जन प्रवक्ताओं की नियुक्ति कर संगठन में फेरबदल का इशारा कर दिया.

अपने पहले ही दौरे में जामवाल ने आधा दर्जन प्रवक्ताओं की नियुक्ति कर संगठन में फेरबदल का इशारा कर दिया.

छत्तीसगढ़ में सत्ता से बदखल होने के बाद भाजपा को लगातार कई चुनावों में हार का मुंह देखना पड़ा है. ऐसे में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा में बदलाव की बयार देखने को मिल रही है. बीजेपी केंद्रीय संगठन ने क्षेत्रीय संगठन महामंत्री के रूप में अजय जामवाल को छत्तीसगढ़ की जिम्मेदारी दी है. अपने पहले ही दौरे में जामवाल ने आधा दर्जन प्रवक्ताओं की नियुक्ति कर संगठन में फेरबदल का इशारा कर दिया. जिसके बाद बदलाव की चर्चा का बाजार बेहद ही गर्म है.

रायपुर. साल 2018 में अदद एक चुनावी हार से हताश छत्तीसगढ़ बीजेपी अब तक हताशा से बाहर नहीं आ पाई है. विधानसभा चुनाव हारने के साथ ही चुनाव-दर-चुनाव में मिली हार ने बीजेपी की पोल खोल कर रख दी. आपसी गुटबाजी और एक दूसरे को कमतर दिखाने की होड़ ने सार्वजनिक मंचों तक को नहीं छोड़ा. विधानसभा के भीतर की तस्वीर हो या फिर बारह की कई मौकों पर नेताओं के बीच की सीधी गुटबाजी आसानी से देखने को मिली है. प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी ने शुरुआती दौर में हंटर चलाने की कोशिश तो की मगर वह भी उस स्तर कामयाब नहीं हो पाईं. जिसके बाद बीजेपी केंद्रीय संगठन ने क्षेत्रीय संगठन महामंत्री के रूप में अजय जामवाल को छत्तीसगढ़ की जिम्मेदारी दी है.

पहले ही दौरे पर जामवाल ने दिए बदलाव के संकेत

अपने पहले ही दौरे में जामवाल ने आधा दर्जन प्रवक्ताओं की नियुक्ति कर संगठन में फेरबदल का इशारा कर दिया. जिसके बाद बदलाव की चर्चा का बाजार बेहद ही गर्म है. आलम यह है कि ना केवल प्रदेशाध्यक्ष बल्कि नेता प्रतिपक्ष, युवामोर्चा अध्यक्ष को भी बदलने की चर्चा तेज हो गई है. और ना केवल बदलाव की बयार तेज बह रही है बल्कि बीजेपी प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव कहते हैं कि बदलाव प्रकृतिक का नियम है. जो जरूरत के अनुसार हो रहा है. बीजेपी के भीतर बदलाव के बीच अध्यक्ष विष्णुदेव के स्थान पर नया चेहरा कौन होगा इस पर सियासी गुणागणित तेज है.


आपके शहर से (रायपुर)

एक ऐसा थाना जहां FIR ल‍िखवाने नहीं बल्‍क‍ि दूर-दूर से घूमने आते हैं लोग, जानें क्‍यों?

नवरात्रि विशेष: अनूठी आस्था! यहां 'डायन माता' की पूजा करते हैं श्रद्धालु, जानें क्या है मान्यता

CG TET Answer Key 2022: सीजी टीईटी आंसर की होने वाली है जारी, यहां चेक करें अपडेट

छत्तीसगढ़: खुले में यह काम होता देख विचलित हो जाएंगे आप! सूरजपुर की यह हकीकत चौंकाती है...

छत्तीसगढ़ी म पढ़व- पेटेचुआ के कंकालीन मंदिर

कैंडिडेट से पैसे लेकर ही दी 10 दिन की सैलरी, 300 बेरोजगारों से ठग लिए 40 लाख, जानें मामला

बेटे ने बीमार मां को दी खौफनाक मौत, देखभाल से था परेशान, पढ़ें कैसे हुआ पूरे मामले का खुलासा

Success Story: जिद हो तो ऐसी! PCS परीक्षा में हुए 10 बार फेल, बिना हार माने बन गए IAS ऑफिसर

10 रुपये ने बदली किसान की किस्मत, 15 साल पहले खरीदे दो केंचुए, अब हो रही लाखों में कमाई

CGBSE Exam 2022 dates: छत्तीसगढ़ बोर्ड ने जारी की तिमाही परीक्षा की डेटशीट, 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं के स्टूडेंट यहां चेक करें डिटेल

छत्तीसगढ़ी म पढ़व- पितर पाख मं कउंवा मन के कांव... कांव...


जो संकेत मिल रहे हैं उसके हिसाब से भाजपा का एक गुट बिलासपुर संभाग के एक ओबीसी नेता को प्रदेशाध्यक्ष बनाने में जुटा हुआ है. उसके लिए रायपुर से लेकर दिल्ली तक गणित बैठाया जा रहा है. वहीं OBC वर्ग से अध्यक्ष बनने के बाद OBC वर्ग से ही नेताप्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के स्थान पर किसी सामान्य या आदिवासी वर्ग से नेताप्रतिपक्ष बनाने की चर्चा तेज है. तो वहीं युवामोर्चा की सुस्त गति से नाराज संगठन नया अध्यक्ष बनाने की तैयारी कर रहा है.

कांग्रेस ने कसा तंज

बीजेपी के भीतर बदलाव की बयार के सावल पर कांग्रेस की ओर से वरिष्ठ मंत्री रविंद्र चौबे कहते हैं कि बीजेपी इतने गुटों और टुकड़ों में बंट गई हैं कि चुनाव तक उबरना संभव नहीं है. बीजेपी के नेता कार्यकर्ता हताश हो चुके हैं और बदलाव से कुछ नहीं होने वाला है. कांग्रेस के तंज पर बीजेपी पलटवार करते हुए कहती है कि सही बात है कि अब सीधे सरकार बदलेगी.

बीजेपी के भीतर बदलाव की बयार कोई पहली बार नहीं बह रही है. इससे पहले भी यह बयार तेजी से बह चुकी है. मगर केंद्रीय संगठन ने हर बार रमन-धरम और साय की जोड़ी पर ही भरोसा जताया है. मगर इस बार जानकार मानते हैं कि अगर समय रहते बदलाव नहीं हुआ तो 2023 में बीजेपी को वह चुनावी परिणाम नहीं मिल पाएगा जिसकी उम्मीद वह कर रही है.

Tags:Chhattisgarh news, Raipur news

अधिक पढ़ें