Home / News / chhattisgarh /

boda most expensive vegetable bastaria food demand in 5 star hotel know price and benefit cgnt

ये है सबसे महंगी बस्तरिया सब्जी, 5-स्टार होटलों में भी डिमांड, इन रोगों में है फायदेमंद, जानें कीमत

बस्तर के बोड़ा सब्जी की डिमांड काफी ज्यादा है.

बस्तर के बोड़ा सब्जी की डिमांड काफी ज्यादा है.

प्रकृति की पूजा करने वाले छत्तीसगढ़ के बस्तर के लोगों को प्रक्रति भी खास समय पर खास उपहार देती है . इनमें से एक है बोड़ा. जो खास समय पर ही धरती की कोख से बाहर आता है. वह भी सीमित दिनों के लिए. ये देश की सबसे महंगी बस्तरिया सब्जी है. इस सब्जी की डिमांड फाइव स्टार होटलों में भी की जाती है. इसकी कीमत हैरान करने वाली है.

कोंडागांव. छत्तीसगढ़ के आदिवासी बाहुल्य बस्तर संभाग के बाजारों में प्रसिद्ध सब्जी बोड़ा उपलब्ध है. साल पेड़ के जंगल से निकले बोड़ा स्वादिष्ट के साथ ही फायदेमंद भी है. कई रोगों के इलाज के लिए भी ये सब्जी फायदेमंद बताई जाती है. इस सब्जी सीमित समय के लिए उपलब्ध रहती है. सबसे महंगी बस्तरिया सब्जी होने के बाद भी इसकी डिमांग काफी रहती है. देश-विदेश से भी इसकी मांग की जाती है. कई फाइव स्टार होटल संचालक इसकी बुकिंग पहले से कर लेते हैं.

बस्तर के बाजार में उच्च स्तर के बोड़ा सब्जी की कीमत 2 हजार रुपये प्रति किलोग्राम तक होती है. वर्तमान में बस्तर में ये सब्जी 1500 से 2000 रुपये प्रति किलोग्राम की दर पर उपलब्ध है. साल पेड़ के नीचे ही होने वाला बोड़ा एक तरह से ये मशरूम प्रजाति का है, लेकिन जमीन से निकले बोड़ा काफी स्वास्थ्य वर्धक होता है. कोंडगांव के बीएमओ डॉक्टर सूरज राठौर बताते हैं कि बोड़ा प्रोटिन, मल्टीविटमिन और आयरन से भरपूर होती है. इसकी लिट्रेटीविली बहुत अच्छी होती है और लीवर के लिए काफी फायदेमंद है.


इस तरह उगता है बोड़ा
स्थानीय जानकार खेम वैष्णव ने बताया कि बारिश की पहली फुहार पड़ने के बाद तेज धूप निकलने के बाद खास साल पेड़ के नीचे ही बोड़ा होता है. दिनभर जंगल में एक पेड़ से दूसरे पेड़ के नीचे खुदाई के बाद बोड़ा निकलता है. साल के पत्ते पेड़ के जड़ के पास गिरते हैं, जिससे बोड़ा बनता है. बोड़ा का कोई विकल्प नहीं निकल पाया है. ये सब्जी साल में सिर्फ बारिश के दिनों में ही मिलती है. बस्तर के लोगों के लिए शाकाहारी सब्जी का बोड़ा खास व्यंजन है. बोड़ा को लेकर लोग कहते है बस्तर आये और बोड़ा नहीं खाए तो क्या खाए.

आपके शहर से (कोंडागांव)

छत्तीसगढ़ी म पढ़व- अंधियारी रात के अतियाचार

छत्तीसगढ़ में ट्रेनें रद्द होने पर कंगाली झेल रहे कुली और ऑटो चालक, स्टेशनों पर घटी यात्रियों की संख्या

शख्स ने अपने ही बेटे और बेटी की बेरहमी से की हत्या, फिर खुद के लिए भी चुनी खौफनाक मौत

बस्तर की आदिवासी कला को बचाने युवाओं ने की पहल, घूम-घूम बता रहे ‘गोदना’ का महत्व

अजब-गजब: ऐसी जमीन जहां सावन में खुदाई पर निकलता है शिवलिंग, पूरी होती हैं भक्तों की मुरादें; Photos

छत्तीसगढ़ में स्वच्छता के लिये नई पहल: राजनांदगांव में अब निगम कर्मचारी रात को भी उठायेंगे कचरा

स्कूल में छात्राओं से छेड़छाड़ के आरोप में प्रधानाचार्य गिरफ्तार, स्कूल प्रबंधन ने की परिजनों की शिकायत

Chhattisgarh भाजपा में बदलाव की बयार, अब 2023 विधानसभा चुनाव पर पार्टी की नजरें, जानें प्लानिंग

शादीशुदा शख्स नाबालिग को बहलाकर ले गया उत्तर प्रदेश और किया रेप, फिर भाई के पास छोड़ भाग गया

भिलाई स्टील प्लांट में बड़ा हादसा, एसएमएस-3 का लैडल फटा, बह गया 20 टन हॉट मैटल, लगी भीषण आग

छत्तीसगढ़ में स्वाइन फ्लू से पहली मौत, एक महीने में 28 नए मरीज, कोराेना के भी बढ़े केस


होटल संचालक तरुण गोलछा कहते हैं- बस्तर के अलावा इसके स्वाद के दीवाने बाहर के लोग भी हैं. बाहर से आने वाले टूरिस्ट होटलों मे बोड़ा की मांग करते हैं. बस्तरिया शाकाहारी व्यंजन आज भी बेजोड़ है. इसका कोई विकल्प नहीं है.

Tags:Bastar news, Chhattisgarh news