किसानों को बीमा रकम के भुगतान को लेकर ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष आमरण अनशन पर

दो हफ्ते पहले अल्टीमेटम देकर एक तरफ बागबाहरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष आमरण अनशन पर बैठ गए हैं तो वहीं 200 किसान अपने हक के लिए रोजाना क्रमिक भूख हड़ताल कर रहे हैं.बागबाहरा ब्लॉक के चार गांवों के 700 किसानों के अब तक 2 करोड़ 25 लाख की फसल बीमा राशि नहीं मिलने के कारण पिछले कई माह से किसान जनदर्शन से लेकर ज्ञापन और हड़ताल कर थक गए तो यह कदम उठाया.

news18 hindi , News18 Chhattisgarh
दो हफ्ते पहले अल्टीमेटम देकर एक तरफ बागबाहरा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष आमरण अनशन पर बैठ गए हैं तो वहीं 200 किसान अपने हक के लिए रोजाना क्रमिक भूख हड़ताल कर रहे हैं.महासमुंद के बागबाहरा ब्लॉक के चार गांवों के 700 किसानों के अब तक 2 करोड़ 25 लाख की फसल बीमा राशि नहीं मिलने के कारण पिछले कई माह से किसान जनदर्शन से लेकर ज्ञापन और हड़ताल कर थक गए तो यह कदम उठाया.पूरा मामला महासमुंद जिले के ब्लॉक बागबाहरा के ग्राम पतेरापाली व बोईरगांव की है.यह गांव खल्लारी आरआई सर्किल में आता हैं और कोमाखान आर आईसर्किल में पतेरापाली (स) और बोईरगांव (ब) आता हैं पर प्रशासनिक त्रुटि के कारण आरआई सर्किल बदल गया है.इस कारण 4 गांवों के 700 किसानों को 2 करोड़ 25 लाख रूपये की बीमा राशि अब तक नहीं मिल पा रही है.किसान पिछले कई माह से शासकीय कार्यालय का चक्कर काट रहे हैं.जनदर्शन में भी आवेदन दिए पर बात नहीं बनी.सुनवाई न होने पर 28 अगस्त को कांग्रेस ने समर्थन देते हुए एक दिवसीय क्रमिक भूख हड़ताल कर अल्टीमेटम देते हुए 10 दिवस के भीतर बीमा राशि का भुगतान करने की बात कही गई थी.भुगतान नहीं होने पर 10 सितंबर से कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष अंकित बागबाहरा ने आमरण अनशन पर बैठने की चेतावनी दी थी लेकिन प्रशासन के द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई.लिहाजा अध्यक्ष अंकित बागबाहरा 10 सितम्बर से आमरण अनशन पर बैठे हैं.उनके साथ रोजाना सैकड़ों किसान भूख हड़ताल पर बैठ रहे हैं.आमरण अनशन का आज तीसरा दिन है लेकिन प्रशासन के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही.

Trending Now