Home / News / chhattisgarh /

हाथी की फैमिली में आई Good News, 6 गांव के लोगों ने मिलकर मनाया जश्न, निभाई 1000 साल पुरानी परंपरा

हाथी की फैमिली में आई Good News, 6 गांव के लोगों ने मिलकर मनाया जश्न, निभाई 1000 साल पुरानी परंपरा

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में हाथी के बच्चे का छठी कार्यक्रम धूमधाम से मनाया गया.

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में हाथी के बच्चे का छठी कार्यक्रम धूमधाम से मनाया गया.

Unique Tradition in Chhattisgarh: छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में आयोजित एक छठी कार्यक्रम इन दिनों चर्चा में है. लैलूंगा विधानसभा क्षेत्र के 6 गांवों के लोगों ने मिलकर छठी कार्यक्रम का आयोजन किया. इसमें 300 से ज्यादा ग्रामीण शामिल हुए. छठी हाथी के बच्ची की मनाई गई. विधि विधान से पूजा-पाठ कर ग्रामीणों ने छठी कार्यक्रम का आयोजन किया. बताया जा रहा है कि ग्रामीणों ने करीब 1 हजार साल पुरानी परंपरा निभाई.

रायपुर/रायगढ़. छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले के लैलूंगा विधानसभा क्षेत्र में हाथी के एक परिवार में खुशखबरी का जश्न मनाने की चर्चा पूरे क्षेत्र में है. इस क्षेत्र 6 गांवों के लोगों ने मिलकर हाथी के बच्चे के जन्म का जश्न मनाया है. हाथी के बच्चे का छठी कार्यक्रम भी किया गया है. छठी की रश्मों और पूजा की पूरी विधि का पालन किया गया. गांव के लोगों को भोजन भी कराया गया. बताया जा रहा है कि करीब 1000 साल पुरानी परंपरा का निर्वहन गांव वालों ने किया है. इस इलाके में हाथी के बच्चे का छठी मनाने की परंपरा वर्षों पुरानी है.

दरअसल लैलूंगा विधानसभा क्षेत्र के ग्राम करवारजोर, चिरईखार, ढोर्रोबीजा, टांगरजोर, बेस्कीमुड़ा, मुकडेगा क्षेत्र में लगभग 1 महीने से जंगली हाथियों के आतंक से ग्रामवासी काफी दहशत है और वे परेशान हैं. इन ग्रामीण इलाकों में बीते कई दिनों से 30-40 की संख्या में जंगली हाथियों द्वारा लगातार किसानों की फसल एवं मकान को क्षतिग्रस्त कर नुकसान पहुंचा रहे हैं. इसके कारण क्षेत्र के किसान एवं ग्रामीणों में काफी दहशत का माहौल व्याप्त है. क्षेत्र के ग्रामीणों में इतनी दहशत है कि कड़कड़ाती ठंड के बावजूद भी हाथियों के बचाव के लिए रतजगा करने पर मजबूर हैं. जब वन विभाग और ग्रामीणों की सभी कोशिशें विफल हो गई तो वे बैगाओं के कहने पर अब इस क्षेत्र के 6 गांव के ग्रामीणों ने हाथी भगाने के लिए एक अनूठी परंपरा का पालन करते हुए हाथी के छठी कार्यक्रम का आयोजन किया. इसमें आधे दर्जन गांव के सैकड़ों ग्रामीण शामिल हुए.


हाथी नहीं मचाते हैं उत्पात
लैलूंगा विधानसभा क्षेत्र में हुए इस अनोखे कार्यक्रम में 4-5 गांव के लगभग 300 ग्रामीण उपस्थित होकर पूरी विधान से पूजा अर्चना किए. इसके साथ ही जंगली हाथियों के आतंक से निजात दिलाने की प्रार्थना भगवान से की. मुकडेगा के सरपंच प्रतिनिधि हृदयराम दाऊ ने बताया कि हाथी के बच्चे के जन्म की सूचना के बाद घने जंगल में छठी कार्यक्रम आयोजित किया गया. इस दौरान उपस्थित ग्राम बैगा तथा रावत समाज के हाथी गोत्र एवं नाई धोबी के साथ रीति रिवाज के अनुरूप पूजा पाठ कर छठी कार्यक्रम संपन्न कराया गया. ग्रामीणों के अनुसार मान्यता है कि हाथी का छठी कार्यक्रम आयोजन करने के बाद संतुष्ट होकर हाथी एक क्षेत्र को छोड़कर दूसरे क्षेत्र चले जाते हैं. हाथी भगाने की दिलचस्प एवं अनूठी परंपरा कहें या रूढ़िवादी परंपरा, लेकिन ग्रामीण इस परंपरा को वर्षों से निभा रहे हैं.

आपके शहर से (रायगढ़)

छत्तीसगढ़ी म पढ़व- कोरा मं लइका गांव भर गोहार

गोबर बेच 15 दिन में कमाए 2 करोड़ रुपये, एमपी के बाद अब यूपी सरकार भी अपनाएगी फायदे वाला 'बिजनेस मॉडल'

रविशंकर यूनिवर्सिटी में हड़ताल का असर; न फॉर्म भरे जा रहे, न मिल रही डिग्री, रजिस्ट्रार भी हटाए गए

अनोखा चोरः मेडिकल स्टोर में चुन-चुनकर चुराए विटामिन बढ़ाने वाली टैबलेट और सीरप

सरकारी अस्पताल के प्रसूति वार्ड में नहीं मिला बिस्तर, महिला ने बाथरूम में दिया बच्चे को जन्म

CGPSC Recruitment 2022: सीजीपीएससी ने इन पदों पर भर्ती के लिए जारी किया नोटिफिकेशन, जान लें सभी डिटेल

गलतफहमीः महुए की बोरी को घूर रहा था मजदूर, घरवालों ने चोर समझ पीट-पीटकर मार डाला

क्लब जाने के लिए घर से निकली लड़की से दोस्तों ने किया गैंग रेप, वारदात के बाद बीच सड़क पर छोड़ा

हाट पर गए सीएम भूपेश तो बसंत ने लगाई आवाज, कका... काकी के लिए बिंदी लेते जाइए!

छत्तीसगढ़ में भी सुलगी OBC आरक्षण की 'आग', बीजेपी-कांग्रेस ने एक-दूसरे पर साधा निशाना, जानें डिटेल

इस गांव का नाम सुनते ही छूट जाते हैं लोगों के पसीने, यहां आने से कतराते हैं ग्रामीण


Tags:Baby Elephant, Raigarh news