लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / छत्तीसगढ़ /

छत्तीसगढ़: SNCU में भर्ती थे बच्चे, 3 घंटे तक गुल रही बिजली, 4 बच्चों की मौत, मचा हड़कंप

छत्तीसगढ़: SNCU में भर्ती थे बच्चे, 3 घंटे तक गुल रही बिजली, 4 बच्चों की मौत, मचा हड़कंप

Chhattisgarh News: छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. यहां एक सरकारी अस्पताल में सोमवार को चार नवजात शिशुओं की मौत हो गई है. मृत बच्चों के माता-पिता ने दावा किया है कि रात में तीन घंटे से अधिक समय तक बिजली आपूर्ति बाधित रही, जिससे बच्चों की मौत हो गई. वहीं माता-पिता ने अस्पताल के कर्मचारियों पर लापरवाही बरतने का भी आरोप लगाया है.

छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में एक सरकारी अस्पताल में 4 नवजात शिशुओं की मौत. (सांकेतिक तस्वीर)

छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में एक सरकारी अस्पताल में 4 नवजात शिशुओं की मौत. (सांकेतिक तस्वीर)

हाइलाइट्स

छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में एक सरकारी अस्पताल में 4 नवजात शिशुओं की मौत
मृत बच्चों के माता-पिता का दावा 3 घंटे बिजली गुल रहने नवजातों ने दम तोड़ा
राज्य सरकार ने मामले के जांच के दिए आदेश, मुख्यमंत्री को भेजी गई रिपोर्ट

अंबिकापुर. छत्तीसगढ़ में सरगुजा जिले के एक सरकारी अस्पताल में सोमवार को चार नवजात शिशुओं की मौत हो गई, जिसके बाद राज्य सरकार ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं. मृत बच्चों के परिजनों ने कहा है कि अस्पताल में बिजली आपूर्ति बंद होने के कारण शिशुओं की मौत हुई है, लेकिन जिला प्रशासन के अधिकारियों का कहना है कि बच्चों की मौत का कारण बिजली आपूर्ति बंद होना नहीं है.

सरगुजा जिलाधिकारी कुंदन कुमार ने कहा कि अंबिकापुर के सरकारी मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में सुबह 5:30 से 8:30 बजे के बीच बच्चों की मौत हुई है. कुमार ने आगे कहा कि जिन चार बच्चों की मौत हुई है, उनकी हालत गंभीर थी और वे अस्पताल की विशेष नवजात शिशु देखभाल इकाई (एसएनसीयू) में भर्ती थे. उनमें से दो बच्चे वेंटिलेटर पर थे.

उन्होंने आगे कहा कि प्रारंभिक जानकारी के अनुसार, अस्पताल में रात एक बजे से 1:30 बजे के बीच बिजली की आपूर्ति संबंधी दिक्कत हुई थी, जिसे कुछ ही समय में दुरुस्त कर लिया गया था. इससे एसएनसीयू में बिजली आपूर्ति पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है क्योंकि वहां वैकल्पिक बिजली आपूर्ति की व्यवस्था है. उन्होंने बताया कि एसएनसीयू में अब भी 30-35 बच्चे हैं. अधिकारी ने आगे कहा कि मामले की विस्तृत जांच की जा रही है, जिसके बाद मौत के सही कारणों का पता चल पाएगा. उन्होंने कहा कि अस्पताल चारों बच्चों की मेडिकल रिपोर्ट जल्द ही जारी करेगा.

इस बीच, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव ने स्वास्थ्य सचिव को घटना की जांच के लिए एक टीम गठित करने का निर्देश दिया. सिंहदेव ने एक बयान में कहा कि ‘अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चार शिशुओं की मौत की जानकारी मिलने के बाद मैंने स्वास्थ्य सचिव से एक जांच दल गठित कर मौके पर भेजने के लिए कहा है. मैंने इस घटना के बारे में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भी जानकारी दी है. मंत्री ने आगे कहा कि उन्होंने अधिकारियों को इस मामले में आवश्यकतानुसार कड़ी कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया है.’

पढ़ें- Viral Video: एक चोर जो अपनी बातों से रातों रात बन गया हीरो, जानें क्‍या क‍िया उसने

इधर मृत बच्चों के माता-पिता ने अस्पताल के कर्मचारियों पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है और दावा किया है कि रात में तीन घंटे से अधिक समय तक बिजली आपूर्ति बाधित रही, जिससे बच्चों की मौत हो गई. वहीं छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके ने घटना पर दुख जताया है और सरकार को मौत के कारणों की जांच कर इस पर उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. अधिकारियों ने बताया कि राज्यपाल उइके ने शिशुओं की मृत्यु की उचित जांच करने और परिवारों को राहत दिलाने तथा भविष्य में इस तरह की घटनाओं को रोकने के संबंध में प्रशासन को निर्देश दिया है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Chhattisgarh news, Children death, Government Hospital

FIRST PUBLISHED : December 06, 2022, 08:12 IST
अधिक पढ़ें