लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबक्रिकेटगणतंत्र दिवसफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency#News18Showreel
होम / न्यूज / दिल्ली-एनसीआर /

अब सस्‍ती कीमतों पर मिल सकेंगी आयुर्वेद-होम्‍योपैथी दवाएं, आयुष ने की ये तैयारी

अब सस्‍ती कीमतों पर मिल सकेंगी आयुर्वेद-होम्‍योपैथी दवाएं, आयुष ने की ये तैयारी

डीएसटी के सचिव डॉ. श्रीवारी चंद्रशेखर ने कहा, 'पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक विज्ञान विशेष रूप से स्वास्थ्य विज्ञान में हाथ मिला रहे हैं. जब हम आयुष के वैज्ञानिक और चिकित्सकों को एक साथ ला रहे हैं तो हमें यकीन है कि हम समाधान लेकर आएंगे जो कि सस्ती कीमतों पर उपलब्ध होगा. मुझे उम्मीद है कि यह देश के बेहतरीन कार्यक्रमों में से एक बनेगा.

आयुष मंत्रालय सस्‍ती दवाएं और सस्‍ती आयुष सेवाएं उपलब्‍ध कराने की तैयारी कर रहा है.

आयुष मंत्रालय सस्‍ती दवाएं और सस्‍ती आयुष सेवाएं उपलब्‍ध कराने की तैयारी कर रहा है.

नई दिल्‍ली. आयुष चिकित्‍सा पद्धतियों को हर व्‍यक्ति तक पहुंचाने की कवायद में जुटा आयुष मंत्रालय अब लोगों को विभिन्‍न आयुष पद्धतियों में सस्‍ती दवाएं उपलब्‍ध कराने की तैयारी कर रहा है. इसके लिए आयुष मंत्रालय और विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए हैं. यह समझौता आयुष क्षेत्र में साक्ष्य-आधारित वैज्ञानिक हस्तक्षेप के लिए सहयोग, कन्‍वर्जन और तालमेल करके सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में इनका आगे उपयोग करने के लिए रिसर्च के संभावित क्षेत्रों की पहचान करेगा.

समझौते पर आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा और डीएसटी के सचिव डॉ. श्रीवारी चंद्रशेखर ने आयुष मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों और डीएसटी के वैज्ञानिकों की मौजूदगी में हस्ताक्षर किए. इस दौरान डीएसटी के सचिव डॉ. श्रीवारी चंद्रशेखर ने कहा, ‘पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक विज्ञान विशेष रूप से स्वास्थ्य विज्ञान में हाथ मिला रहे हैं. जब हम आयुष के वैज्ञानिक और चिकित्सकों को एक साथ ला रहे हैं तो हमें यकीन है कि हम समाधान लेकर आएंगे जो कि सस्ती कीमतों पर उपलब्ध होगा. मुझे उम्मीद है कि यह देश के बेहतरीन कार्यक्रमों में से एक बनेगा.

समझौते के माध्यम से आयुष मंत्रालय और डीएसटी ने संयुक्त रूप से आयुष अवधारणाओं, प्रक्रियाओं और उत्पादों के वैज्ञानिक सत्यापन पर रिसर्च और विकास गतिविधियों को शुरू करने, सूचना के आदान-प्रदान के लिए एक मंच बनाने और आयुष से संबंधित बुनियादी अवधारणाओं को समझने की दिशा में आधुनिक विज्ञान को शामिल करने पर सहमति व्यक्त की है.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

डायबिटीज़ कंट्रोल करना है तो खाएं ब्राउन राइस, वजन घटाने में भी करता है मदद, मिलेंगे कमाल के 4 फायदे

राष्‍ट्रपति भवन का मुगल गार्डन अब कहलाएगा अमृत उद्यान, 31 जनवरी से खुलेगा

दिल्ली के केशवपुरम में कंझावला जैसा हादसा, स्कूटी सवारों को 350 मीटर तक घसीटा, 1 की दर्दनाक मौत, सभी 5 आरोपी गिरफ्तार

कट गया हाथ का अंगूठा तो पैर की उंगली से बनाया, करने लगा पहले की तरह काम

BBC डॉक्यूमेंट्री पर हंगामा, हिरासत से छोड़े गए दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र, Arts Faculty के बाहर धारा 144

200 करोड़ का ट्रांजेक्शन, 300 पीड़ित... चीन से बड़ी साजिश का पर्दाफाश, नौकरी तलाश रहे लोगों को बनाया शिकार

AAP सांसद राघव चड्ढा को मिला 'इंडिया यूके आउटस्टैंडिंग अचीवर्स अवॉर्ड', लंदन में हुए सम्मानित

स्वाद का सफ़रनामा: पहाड़ी फलों का राजा माना जाता है माल्टा, बेहद गुणकारी है यह फ्रूट, इतिहास भी है रोचक

रविवार को सीपी जा रहे हैं तो ध्‍यान दें, राजीव चौक मेट्रो स्‍टेशन का ये गेट रहेगा बंद

दिल्ली में एक और कंझावला कांड! कार ने स्कूटी सवार को घसीटा, 2 लोगों की दर्दनाक मौत

ग्रेटर नोएडा में नाबालिग भाई-बहन के साथ डिजिटल रेप, आरोपी अरेस्ट, क्या होता है Digital Rape?


आयुष मंत्रालय उन महत्वपूर्ण क्षेत्रों की पहचान करेगा जिनमें आयुष से संबंधित प्रणालियां शामिल हैं जिन्हें आधुनिक विज्ञान में बुनियादी अवधारणाओं, प्रक्रियाओं, नए उपकरणों के विकास आदि को समझने की आवश्यकता है. इस बीच, डीएसटी, विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड (एसईआरबी) के माध्यम से अच्छी तरह से चार्टर्ड योजनाओं और पारस्परिक कार्यों के माध्यम से महत्वपूर्ण क्षेत्रों के कार्यान्वयन का समन्वय करेगा.

उद्योग, अनुसंधान एवं विकास संगठनों (सार्वजनिक/निजी), और सरकारी एजेंसियों/विभागों के साथ साझेदारी को दृढ़ता से प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके अलावा, एमओयू आयुष से संबंधित अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों के तहत प्रस्तावों के लिए विशेष कॉल पर भी ध्यान केंद्रित करेगा, जो राष्ट्रीय वैज्ञानिकों के व्यक्ति या समूह से मांगे गए हैं जो शैक्षणिक संस्थानों, अनुसंधान संगठनों, सरकारी एजेंसियों और उद्योगों में सक्रिय रूप से अनुसंधान और प्रौद्योगिकी विकास में लगे हुए हैं।

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Ayushman Bharat, Ayushman Bharat scheme

FIRST PUBLISHED : November 26, 2022, 20:36 IST
अधिक पढ़ें