लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / दिल्ली-एनसीआर /

दिल्ली की सर्दी में नहीं सताएगा प्रदूषण, 15 सूत्रीय विंटर एक्शन प्लान बना रही है केजरीवाल सरकार

दिल्ली की सर्दी में नहीं सताएगा प्रदूषण, 15 सूत्रीय विंटर एक्शन प्लान बना रही है केजरीवाल सरकार

Delhi Pollution: दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बुधवार को मीडिया से कहा कि सर्दियों में होने वाली प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए सरकार 15 बिंदुओं पर आधारित विंटर एक्शन प्लान बना रही है. इसके लिए दिल्ली सचिवालय में संबंधित 30 विभागों के साथ 5 सितम्बर को संयुक्त बैठक की गई.

Delhi Air Pollution: मौसम बदलने के साथ बढ़ने लगा है वायु प्रदूषण.

Delhi Air Pollution: मौसम बदलने के साथ बढ़ने लगा है वायु प्रदूषण.

हाइलाइट्स

दिल्ली में अब 5 हजार वर्गमीटर की निर्माण साइट पर एंटी स्मोग गन लगाना अनिवार्य होगा.
सीएम अरविंद केजरीवाल 30 सितंबर को 15 सूत्रीय विंटर एक्शन प्लान की घोषणा करेंगे.

दिल्ली. दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि सीएम अरविंद केजरीवाल 30 सितंबर को 15 सूत्रीय विंटर एक्शन प्लान की घोषणा करेंगे. दिल्ली में अब 5 हजार वर्गमीटर की निर्माण साइट पर एंटी स्मोग गन लगाना अनिवार्य होगा. इसके अलावा वायु की स्थिति खराब होने से पहले पूर्वानुमानों के आधार पर 3 दिन पहले से ही Graded Response Action Plan के उपायों को लागू किया जाएगा. निर्माण कार्य से संबंधित एजेंसियों को धूल प्रदूषण से संबंधित नियमों का कड़ाई से पालन करने का निर्देश दिया गया है.

राय ने कहा कि सर्दियों में होने वाली प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए सरकार 15 बिंदुओं पर आधारित विंटर एक्शन प्लान बना रही है. इसके लिए दिल्ली सचिवालय में संबंधित 30 विभागों के साथ 5 सितम्बर को संयुक्त बैठक की गई. सभी विभागों को 15 सितंबर तक पर्यावरण विभाग को विंटर एक्शन प्लान के तहत विस्तृत कार्ययोजना सौंपने के निर्देश दिए गए थे. सभी विभागों ने विंटर एक्शन प्लान से संबंधित सुझाव/रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी है.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

NCR News : सिर्फ खाना ही नहीं, जेल की पूरी फीलिंग भी! पार्टी को देना है खास रंग तो इस Cafe में आइए

Republic Day Parade: गणतंत्र दिवस परेड में इस बार किस राज्य की रही सबसे अच्छी झांकी, जानें

Delhi Crime News- OLX पर ठगी करने वाला स्टूडेंट मथुरा से गिरफ्तार, बताया क्यों किया... जानें पूरा मामला

एक और मुगल गार्डन का नाम बदला, दिल्ली यूनिवर्सिटी ने बताई वजह

राजनीति के दिग्गज स्वामी हैं, तुलसीदास पर टिप्पणी करने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य

Greater Noida: घर से मेट्रो स्‍टेशन पहुंचना होगा आसान, शहर में चलेंगी 100 स‍िटी बसें, GNIDA का नोएडा मेट्रो के साथ होगा करार

Viral VIDEO: सुरक्षा गार्ड और ड्राइवर भी दिल्ली में प्रदूषण बढ़ाने के लिए जिम्मेदार... क्या बोल गए CM केजरीवाल

Delhi Bus Accident- दिल्ली के IGI स्टेडियम के पास सड़क हादसा, 4 स्कूल बसें आपस में टकराईं, कई बच्चे घायल

देश में एक हजार से अधिक स्‍थानों पर किया जाएगा बजट का प्रसारण

Noida Power Cut: बारिश के बाद नोएडा की कई सोसाइटी में बिजली गुल, आगे भी हो सकती है परेशानी

इस माह वंदेभारत ट्रेनों की संख्‍या हो जाएगी 10, जानें इस सभी ट्रेनों के रूट


राय ने बताया कि सुझावों एवं रिपोर्ट के आधार पर विंटर एक्शन प्लान तैयार हो गया है. इस 15 सूत्रीय विंटर एक्शन प्लान को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 30 सितंबर को लोगों के सामने रखेंगे. उसके आधार पर सभी विभागों के साथ सर्दियों में होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए काम करेंगे.

गोपाल राय ने कहा कि इस बार कमीशन फॉर एयर क्वालिटी मैनेजमेंट की तरफ से ग्रेप में कुछ परिवर्तन किए गए है. दिल्ली में पहले 2018 से इमरजेंसी रिस्पॉन्स सिस्टम लागू किया जा रहा था. उसका आधार वायु में पीएम 2.5 और पीएम 10 की मात्रा हुआ करती थी. उसी के आधार पर प्रदूषण के स्तर को 5 वर्गों, मॉडरेट, पूअर, वेरी पूअर, सीवियर और सीवियर प्लस में विभाजित किया गया था. इसमें संशोधन करके 2022 में AQI लेवल के आधार पर प्रदूषण के स्तर को 4 वर्गों -पूअर (एक्यूआई 201-300), वेरी पुअर (एक्यूआई 301-400), सीवियर (एक्यूआई 401-450) और सीवियर प्लस (एक्यूआई > 450) में बांटा गया है.

पर्यावरण मंत्री ने कहा कि अब वायु गुणवत्ता की स्थिति खराब होने से पहले पूर्वानुमानों के आधार पर 3 दिन पहले से ही GRAP के उपायों को लागू किया जाएगा. एक्यूआई की भविष्यवाणी आईआईटीएम और आईएमडी के डायन्मिक एयर क्वालिटी फॉरकास्ट सिस्टम डेटा के आधार पर की जाएगी. धूल प्रदूषण को लेकर पहले केवल 20 हजार वर्ग मीटर से ऊपर के निर्माण साईट पर ही एंटी स्मोग गन लगाने का नियम था. अब नए नियम के आधार पर 5 हजार वर्गमीटर से अधिक एरिया की निर्माण साइट पर एंटी स्मोग गन लगाना अनिवार्य कर दिया गया है. ऐसे में 5 हजार से 10 हजार वर्ग मीटर के निर्माण साइट पर एक एंटी स्मोग, 10 हजार से 15 हजार वर्ग मीटर की साइट पर 2 एंटी स्मोग गन, 15 हजार से 20 हजार वर्ग मीटर पर 3 एंटी स्मोग गन और 20 हजार वर्ग मीटर से ऊपर की साइ ट पर कम से कम 4 एंटी स्मोग गन होनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि पिछली बार निर्माण कार्यों से जुड़ी सभी एजेंसियों के साथ मिलकर धूल प्रदूषण को कम करने के लिए काम किया था. इस बार भी हम सभी एजेसियों से अपील करते हैं कि धूल प्रदूषण से संबंधित नियमों का कड़ाई से पालन करें. निर्माण कार्य में लगी एजेंसियां जो इन नियमों का पालन नहीं करेंगी, उनपर कार्रवाई की जाएगी.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Air pollution, CM Arvind Kejriwal, Delhi news live

FIRST PUBLISHED : September 28, 2022, 12:05 IST
अधिक पढ़ें