Home / News / delhi-ncr /

rail engine trial on western freight corridor today in greater noida mumbai kolkata dlnh

ग्रेटर नोएडा की वजह से आज माल ढुलाई का बड़ा हब बन जाएगा Delhi-NCR

डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कारपोरेशन के वेस्टर्न कॉरिडोर में आज रेल इंजन दौड़ाकर ट्रॉयल किया जाएगा.

डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कारपोरेशन के वेस्टर्न कॉरिडोर में आज रेल इंजन दौड़ाकर ट्रॉयल किया जाएगा.

डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कारपोरेशन (DFCC) से जुड़े सूत्रों की मानें तो रोरो सर्विस की शुरुआत एक मालगाड़ी पर 45 ट्रक से की जाएगी. हालांकि डबल डेकर गाड़ी आने के बाद यह संख्या बढ़ भी सकती है. कोकंण रेलवे ने भी इस तरह का प्रयास शुरु कर दिया है. गौरतलब रहे इससे पहले दिल्ली (Delhi) के प्रदुषण को देखते हुए नॉर्थन रेलवे ने भी रोरो सर्विस का ट्रॉयल शुरु किया था. अब यह पहला मौका होगा जब ईस्टर्न और वेस्टर्न कॉरिडोर (Western Corridor) पर रोरो सर्विस शुरू करने का प्लान बन रहा है.

नोएडा. दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) के खाते में आज एक बड़ी कामयाबी जुड़ने जा रही है. आज से दिल्ली-एनसीआर माल ढुलाई (Freight) का एक बड़ा हब बना जाएगा. खास बात यह है कि इस बड़ी कामयाबी की वजह ग्रेटर नोएडा है. डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कारपोरेशन (DFCC) के वेस्टर्न कॉरिडोर में आज रेल इंजन दौड़ाकर ट्रॉयल किया जाएगा. ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) से गुजरने वाला 17 किमी का यह कॉरिडोर बनकर तैयार हो चुका है. ट्रॉयल और कुछ कागजी खानापूर्ति के बाद जून में यह कॉरिडोर शुरू हो जाएगा. खास बात यह है कि ग्रेटर नोएडा के हिस्से में ईस्टर्न और वेस्टर्न दो फ्रेट कॉरिडोर आए हैं. कोलकाता (Kolkata) और मुम्बई (Mumbai) तक जाने वाले कॉरिडोर के चलते दिल्ली-एनसीआर के कारोबार को एक तेज रफ्तार मिलेगी.

वेस्टर्न कॉरिडोर पर ट्रॉयल के लिए आज दौड़ेगा रेल इंजन

वेस्टर्न कॉरिडोर पर रेल लाइन पर ट्रैक बिछाने काम पूरा हो चुका है. दिल्ली-एनसीआर में ग्रेटर नोएडा की 17 किमी रेल लाइन का आज ट्रॉयल होगा. डीफसीसी के अधिकारियों की मौजूदगी में एक रेल इंजन दौड़ाकर ट्रॉयल किया जाएगा. यमुना से लेकर पाली गांव तक रेल इंजन दौड़ाया जाएगा. गौरतलब रहे वेस्टर्न कॉरिडोर मुंबई से दादरी तक बन रहा है.


ग्रेटर नोएडा में रेलवे लाइन बोड़ाकी गांव के पास है. यहां रेलवे स्टेशन भी है. हालांकि यह ट्रॉयल बीते साल दिसम्बर में हो जाना था. लेकिन कोराना के चलते काम बीच में रुक गया था. अब जून से इस कॉरिडोर में ट्रेन फर्राटा भरने लगेंगी.

जेवर एयरपोर्ट के चलते यमुना अथॉरिटी ने भी महंगी कर दी जमीन, जानें नए रेट

ग्रेटर नोएडा में जुड़ रहे हैं ईस्टर्न और वेस्टर्न फ्रेट कॉरिडोर

जेवर एयरपोर्ट से 15 किमी की दूरी पर दिल्ली-हावड़ा रेल मार्ग का चोला रेलवे स्टेशन है. चोला स्टेशन के पास ही ईस्टर्न और वेस्टर्न फ्रेट कॉरिडोर आपस में मिलते हैं. इसी को ध्यान में रखते हुए चोला स्टेशन से जेवर एयरपोर्ट तक 15 किमी की रेलवे लाइन बिछाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है. इस लाइन के शुरू होते ही जेवर एयरपोर्ट सीधे ईस्टर्न और वेस्टर्न फ्रेट कॉरिडोर से जुड़ जाएगा. लेकिन यह लाइन पूरी तरह से सिर्फ माल ढुलाई के लिए ही होगी. गौरतलब रहे इसके अलावा माल ढुलाई के लिए बोढ़ाकी में भी बहुत बड़ा लॉजिस्टिक्स और वेयर हाउस हब बन रहा है.

6 एक्सप्रेसवे का फायदा भी मिलेगा ग्रेटर नोएडा को

किसी भी शहर और दिशा से जेवर एयरपोर्ट तक पहुंचने में कोई परेशानी न हो, इसका खास ख्याल रखा गया है. यमुना एक्सप्रेसवे से एलिवेटेड सड़क सीधे एयरपोर्ट तक जाएगी. बल्लभगढ़ से बाईपास बनाकर दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेसवे को एयरपोर्ट से जोड़ा जाएगा. गंगा एक्सप्रेसवे को यमुना एक्सप्रेसवे से जोड़कर वाहनों को एयरपोर्ट तक के लिए रास्ता दिया जाएगा.

इसी तरह ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे को भी यमुना एक्सप्रेसवे से जोड़कर वाहनों को जेवर एयरपोर्ट तक का रास्ता दिया जा रहा है. वेस्ट यूपी के शहरों को सीधे एयरपोर्ट से जोड़ने के लिए दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे की मदद लेकर बुलंदशहर से एक नई सड़क तैयार की जाएगी. दिल्ली वालों की सहुलियत के लिए मयूर विहार से माहामाया फ्लाई ओवर तक एलिवेटेड रोड तैयार हो रहा है. जिसके चलते नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे से होते हुए वाहन जेवर एयरपोर्ट तक पहुंच जाएंगे.

Tags:Dedicated Freight Corridor, Delhi-NCR News, Greater Noida Authority

अधिक पढ़ें