Home / News / dharm /

Masik Shivratri 2022 Katha: मासिक शिवरात्रि पर पढ़ें यह व्रत कथा, होगी आप पर शिव कृपा

Masik Shivratri 2022 Katha: मासिक शिवरात्रि पर पढ़ें यह व्रत कथा, होगी आप पर शिव कृपा

मासिक शिवरात्रि व्रत कथा

मासिक शिवरात्रि व्रत कथा

Masik Shivratri 2022 Katha: मासिक शिवरात्रि व्रत 30 जनवरी दिन रविवार को है. यह माघ माह (Magh Month) की मासिक शिवरात्रि है. आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि व्रत कथा के बारे में.

Masik Shivratri 2022 Katha: मासिक शिवरात्रि व्रत 30 जनवरी दिन रविवार को है. यह माघ माह (Magh Month) की मासिक शिवरात्रि है. पंचांग के अनुसार, हर माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है. इस दिन व्रत रखते हैं और भगवान शिव (Lord Shiva) की विधि विधान से पूजा करते हैं. शिव जी के आशीर्वाद से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं, कष्ट, पाप, भय से मुक्ति मिलती है. भगवान शिव अपने भक्तों की रक्षा करते हैं. मासिक शिवरात्रि के दिन जो भी व्रत रखते हैं, उनको पूजा (Puja) के समय मासिक शिवरात्रि व्रत की कथा का श्रवण करना चाहिए. इससे भगवान शिव की महिमा पता चलता है और उनकी कृपा प्राप्त होती है. आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि व्रत कथा के बारे में.

मासिक शिवरात्रि व्रत कथा

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान सदाशिव अपने परमब्रह्म स्वरूप में थे. महाशिवरात्रि के दिन ही वे लिंग स्वरुप में प्रकट हुए थे. एक प्रकार से भगवान सदाशिव परमब्रह्म स्वरूप से साकार हुए थे. तब भगवान​ विष्णु और ब्रह्मा जी ने शिवलिंग की प्रथम पूजा की थी. इस वजह से हर शिवरात्रि पर शिवलिंग की पूजा करते हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, माता लक्ष्मी, सरस्वती, गायत्री, सीता, पार्वती तथा रति जैसी देवियों ने शिवरात्रि का व्रत शिव कृपा एवं अपने उद्धार के लिए किया था.


यह भी पढ़ें: मासिक शिवरात्रि पर भोलेनाथ को करें प्रसन्न, जानें पूजा विधि एवं महत्व

फाल्गुन माह की शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहते हैं. महाशिवरात्रि को ही भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था. सती के आत्मदाह के बाद काफी समय बीतने के पश्चात भगवान शिव और माता पार्वती का ​महाशिवरात्रि को महा​मिलन हुआ था. इस वजह से भी शिवरात्रि के दिन शिव पूजा का विधान है.

शिवरात्रि से जुड़ी ये दोनों ही कथाएं यहां पर आपको संक्षिप्त में बताया गया है. आप चाहें तो व्रत वाले दिन इनमें से कोई एक कथा पूजा के समय पढ़ सकते हैं. व्रत कथा के श्रवण से व्रत का पूर्ण लाभ प्राप्त होता है.

यह भी पढ़ें: प्रदोष व्रत पर ऐसे करें शिव पूजा, मिलेगा धन, आरोग्य एवं संतान सुख

मासिक शिवरात्रि 2022 पूजा मुहूर्त
माघ कृष्ण चतुर्दशी तिथि 30 जनवरी को शाम 05:28 बजे शुरु हो रही है, जो अगले दिन दोपहर में 02:18 बजे तक मान्य है. मासिक शिवरात्रि का पूजा मुहूर्त 30 जनवरी को रात 11:38 बजे से देर रात 12:52 बजे तक है.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags:Dharma Aastha, Lord Shiva