लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / education /

B.Ed स्पेशल एजुकेशन कोर्स से जुड़ी A टू Z इन्फॉर्मेशन, करियर के रूप में है बेहतर विकल्प

B.Ed स्पेशल एजुकेशन कोर्स से जुड़ी A टू Z इन्फॉर्मेशन, करियर के रूप में है बेहतर विकल्प

Education news: टीचिंग में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो बीएड (B.Ed) स्पेशल एजुकेशन कोर्स एक अच्छा करियर ऑप्शन है. इस कोर्स में दिव्यांग बच्चों को पढ़ने के बारे में बारीकी से बताया जाता है.

B.Ed स्पेशल एजुकेशन कोर्स करके बनाएं करियर.

B.Ed स्पेशल एजुकेशन कोर्स करके बनाएं करियर.

हाइलाइट्स

B.Ed स्पेशल एजुकेशन कोर्स है करियर बनाने के लिए अच्छा ऑप्शन
इस कोर्स के लिए ग्रेजुएट होना है जरुरी
अपंग बच्चों को पढ़ाने के लिए टीचरों को दी जाती है स्पेशल ट्रेनिंग

नई दिल्ली. Education news: आज के समय में हर कोई अपना सफल करियर बनाना चाहता है. जिसके लिए उन्हें काफी सारे करियर ऑप्शन में से एक ऑप्शन को चुनना होता है. इसमें टीचिंग को भी एक अच्छा करियर ऑप्शन माना जाता है. इसलिए अधिकतर युवा इस फिल्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं. इस फिल्ड में युवाओं को प्राइवेट और सरकारी स्कूल, संस्थानों के साथ-साथ कई कोचिंग सेंटर में नौकरी के बेहतरीन मौके मिलते हैं. वहीं टीचर बनने के लिए किसी विषय में सिर्फ कोर्स करना ही काफी नहीं होता है बल्कि आपको कुछ एग्जाम भी देने पड़ते हैं. जिसके आधार पर आप इस फिल्ड में आगे बढ़ते हैं.

टीचिंग के लिए ज्यादातर लोग बीएड करते हैं, लेकिन B.Ed स्पेशल एजुकेशन कोर्स भी टीचिंग में अपना करियर बनाने के लिए अच्छा ऑप्शन है. इस कोर्स के लिए आपका ग्रेजुएट होना जरुरी है. इस कोर्स में उम्मीदवार डिफरेंट टाइप से स्टडी करके बच्चों को पढ़ा सकते हैं. आई जानते हैं क्या है B.Ed स्पेशल एजुकेशन कोर्स.

  • बैचलर्स ऑफ एजुकेशन इन स्पेशल एजुकेशन 2 साल का कोर्स है, जिसमे 4 सेमेस्टर हैं.
  • इस कोर्स में कैंडिडेट्स को ट्रेनिंग दी जाती है, जिसकी मदद से वो विकलांग या अपंग स्टूडेंट्स को पढ़ा सकें.
  • जो स्टूडेंट्स B.Ed स्पेशल एजुकेशन का कोर्स करके अपना करियर बनाना चाहते हैं उन्हें डिफरेंट टाइप के साथ स्टडी करवाई जाती है जिससे वो अपंग बच्चों को आराम से पढ़ा सकें. जैसे कल्चर, ह्यूमन वैल्यूज, एजुकेशनल साइकोलॉजी एंड गाइडेंस और आदि.
  • वहीं ये सरकारी टीचर सिर्फ दिव्यांग बच्चों को पढ़ाने के लिए ही होते है. ऐसे बहुत से स्कूल हैं, जहां जो बच्चे बोल नहीं सकते या फिर सुन नहीं सकते उन बच्चों को इस स्कूलों में पढ़ाया जाता है. इसी के साथ इन स्कूलों में पढ़ाने वाले टीचरों को भी स्पेशल ट्रेनिंग दी जाती है. ताकि वो बच्चों को पढ़ा सकें और हर चीज़ अच्छे से समझा सकें.

ये भी पढ़ें: RPSC RAS Mains Result 2021: यहां देखें राजस्थान आरएएस के फाइनल मार्क्स, अब करना होगा ये कामadmission without CUET Score: जो स्टूडेंट्स नहीं दे पाए CUET वो कहां लें दाखिला, जानिए डिटेल

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Career, Education, Teacher

FIRST PUBLISHED : December 03, 2022, 17:36 IST
अधिक पढ़ें