Home / News / haryana /

दोस्त की मौत ने बदला जीवन का मकसद, बैंक की नौकरी छोड़ शुरू किया जैविक खेती को बढ़ावा देना

दोस्त की मौत ने बदला जीवन का मकसद, बैंक की नौकरी छोड़ शुरू किया जैविक खेती को बढ़ावा देना

किसान इस तरफ अग्रसर हो रहे हैं तथा काफी सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं.

किसान इस तरफ अग्रसर हो रहे हैं तथा काफी सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं.

Fatehabad News: जैविक खेती को लेकर किसानों ने उनके खेतों में जाकर बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि फसलों बागवानी के लिए जैविक खाद उनके लिए वरदान बन कर आई है. जबसे उन्होंने इस खाद का प्रयोग शुरू किया है उनकी खेती के उत्पादों की मांग काफी बढ़ गई है वह खुद भी बीमारियों से बच रहे हैं.

फतेहाबाद. रासायनिक उर्वरकों के इस्तेमाल के कारण हुई दोस्त की मौत (Death) ने इतना व्यथित किया की बैंक की सरकारी नौकरी (Bank Job) छोड़ वो जैविक उर्वरक बनाने में जुट गए. उद्देश्य एक ही था, बढ़ते रासायनिक खादों के प्रयोग से होने वाले दुष्प्रभाव के प्रति लोगों को जागरूक किया जा सके, ताकि उसके दोस्त की तरह किसी और को जान न गवानी पड़े. उनके इस प्रयास को अब पंख लगते नज़र आ रहे हैं. लोगों मे जैविक खाद और जैविक खेती के प्रति जागरूकता आने लगी है. मामला फतेहाबाद के टोहाना का है.

टोहाना के दीपक माड़िया जो कि बैंक की बढ़िया नौकरी में थे, उनके एक मित्र के साथ घटी घटना ने उनके जीवन का मकसद बदल दिया. दीपक कुमार ने बताया कि वह बैंक के अधिकारी थे, उनके किसी सहयोगी की तबीयत काफी बिगड़ गई तो उसका कारण रासायनिक खाद का प्रयोग फसलों में बताया गया. जिससे उनका इरादा बैंक की नौकरी छोड़कर जैविक खेती करने में बदल गया. जिसके फलस्वरूप उन्होंने कुछ वर्ष पहले सरकार के सहयोग से बायोगैस प्लांट लगाया.


इससे बनने वाले उत्पादों के बारे में जब अधिक जानकारी प्राप्त की गई तो पता चला कि जैविक खाद फसलों के लिए बिल्कुल हानिकारक नहीं है, जबकि रासायनिक खाद से की गई खेती मनुष्य के शरीर के अंगों पर बुरा असर डालती है. जैविक खाद फसलों और जमीन के लिए किसी वरदान से कम नहीं है. इसके अच्छे परिणाम सामने आने पर उन्होंने इस धंधे को काफी बढ़ाया और आज उनके द्वारा निर्मित जैविक खाद की मांग उत्तरी भारत के अनेक राज्यों में निरंतर बढ़ रही है.

आपके शहर से (फतेहाबाद)

करनाल के सुपर मॉल के स्पा सेंटर पर रेड, अंदर जो मिला उसे देख हैरत में पड़ गई पुलिस

हरियाणा में प्रतिबंधित चाइनीज मांझे की बिक्री जारी, हिसार में एक बच्चे की टांग कटी

Punjab Election 2022: अभय चौटाला का भगवंत मान पर कटाक्ष, बोले- जो संसद में शराब पीकर जाए वो CM पद के लायक नहीं

Accident in Haryana: पानीपत में रोडवेज बस और ट्रक की टक्कर, 1 की मौत, कई घायल

हरियाणा: घर में सो रहे एयरफोर्स के रिटायर्ड कर्मचारी की बेरहमी से हत्या, बेटे को सुबह चला पता

Accident in Haryana: नूंह में ट्रैक्टर और बाइक की भिड़ंत, 1 युवक की मौत, दो सगे भाई घायल

Corona Cases in Haryana: 26 जनवरी को 6351 नए केस मिले, 7 मरीजों ने तोड़ा दम

शादी बनी मिसाल: दूल्हे ने दहेज से किया इनकार, एक रुपया और नारियल लेकर लिए 7 फेरे

Lockdown in Haryana! 'महामारी अलर्ट-सुरक्षित हरियाणा' की अवधि 10 फरवरी तक बढ़ी, अब शाम 7 बजे तक खुले रहेंगे मॉल और दुकानें

ये हैं हरियाणा के 'बजरंगी भाईजान', अब तक 600 से ज्यादा बच्चों को पहुंचाया है घर

मिलिए आज के 'गांधीजी' से, कर दिया कुछ ऐसा कि अब मिला देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान


किसान इस तरफ अग्रसर हो रहे हैं तथा काफी सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं, अनेक लोग बीमारियों से भी छुटकारा पा चुके हैं. उन्होंने यह भी बताया कि जैविक खाद नाइट्रोजन भी हवा मिट्टी तथा वातावरण से प्राप्त कर लेती है, अगर सभी किसान ऐसा करने लगे तो विदेशों से आयात की जाने वाली रासायनिक खाद कि बिलकुल जरुरत नहीं पड़ेगी. क्योंकि यह जैविक खाद केवल वेस्ट मटेरियल पत्ते पौधों आदि से तैयार की जाती है जो की फसलों के लिए संजीवनी का काम करती है.

Tags:Fatehabad news, Haryana Farmers, Haryana news