होम / न्यूज / झारखंड /

महीनों से खुले पड़े हैं खदान! नहाने गए नाबालिग की डूबने से मौत, स्थानीय गोताखोरों ने निकाला शव

महीनों से खुले पड़े हैं खदान! नहाने गए नाबालिग की डूबने से मौत, स्थानीय गोताखोरों ने निकाला शव

घटना की जानकारी हिरणपुर थाने की पुलिस को सूचना दी गई. जिसके बाद पुलिस ने बच्चे के शवों को गोताखोरों के द्वारा निकालने के लिए रेस्क्यू शुरू किया.

घटना की जानकारी हिरणपुर थाने की पुलिस को सूचना दी गई. जिसके बाद पुलिस ने बच्चे के शवों को गोताखोरों के द्वारा निकालने के लिए रेस्क्यू शुरू किया.

Jharkhand News: पाकुड़ जिले मैं खनिज विभाग द्वारा स्वीकृति दी गई अधिकांश खदाने खुली पड़ी हुई है जो रोज मौत को न्योता दे रही है. इन खदानों में अनेको बार घटनाएं भी घटित हो चुकी है उसके बावजूद भी खनिज विभाग द्वारा खदान मालिकों से चारदीवारी निर्माण नहीं करवा पा रही है. अधिकांश खदाने इतनी गहरी हो चुकी है की उन खदानों में से पानी भी निकलना शुरू हो गया है

रिपोर्ट- नंद किशोर मंडल

पाकुड़. झारखंड के पाकुड़ जिले के हिरणपुर क्षेत्र में मोहम्मद अहमद नाम का एक बच्चा अपने दोस्तों के साथ हिरणपुर थाना क्षेत्र के गोविंदपुर के बंद पड़े खदान में नहाने गए थे उसी दौरान ज्यादा खाई होने के कारण बच्चे की डूबने से मौत हो गई. गांव के ही कुछ व्यक्ति ने देखा की खदान में कोई डूबा हुआ है. यह सूचना गांव में आग के तरह फैल गई जिसके बाद गांव वाले भी काफी मात्रा में जमा हो गए.

इस घटना की जानकारी हिरणपुर थाने की पुलिस को सूचना दी गई. जिसके बाद पुलिस ने बच्चे के शवों को गोताखोरों के द्वारा निकालने के लिए रेस्क्यू शुरू किया. वहीं मौके पर पहुंचे अमर कुमार मिंज थाना प्रभारी के अनुसार मृतक बालक का नाम मोहम्मद अहमद  निवासी सुंदरपुर मोहल्ला  है. बताया जा रहा है की बच्चे की मौत जायदा गहराई में छलांग लगा देने से हुई है. शव को बाहर निकालने पर जिसे ही देख परिजन बदहवास हो गए.


आपके शहर से (पाकुड़)

इंतजार पे इंतजार! हेमंत सरकार ने इस त्योहार भी नहीं बांटी बोर्ड- निगम पदों की सौगात

झारखंड राज्य खनिज विकास निगम को 3 साल के लिए फिर मिला बालू घाटों का जिम्मा, जानें कैबिनेट के बड़े फैसले

Sarkari Naukri 2022: गृह विभाग में इन पदों पर आवेदन करने की कल है आखिरी डेट, 10वीं पास जल्द करें अप्लाई, 56000 है सैलरी

झारखंड पुलिस के जवान की गोली लगने से मौत, परिजनों को हत्या की आशंका, शव लेने से इंकार

क्या दिग्विजय सिंह होंगे कांग्रेस के नये अध्यक्ष, पढ़िए दिलचस्प इनसाइड स्टोरी

रांची में 9 अक्टूबर को भारत-दक्षिण अफ्रीका के बीच वनडे मैच, रेडिशन ब्लू होटल में ATS का मॉक ड्रिल

रिश्वत लेकर वोट मामले में सांसदों, विधायकों को मुकदमे से छूट के फैसले पर पुनर्विचार करेगा सुप्रीम कोर्ट, जानें मामला

पेट्रोल पंप पर हुआ प्यार थाने तक पहुंचा, युवक की गिरफ्तारी से प्रेम कहानी का अंत, जानें पूरा मामला

डांस करने से मना किया तो शिक्षक ने 13 बच्चों की पीठ पर तोड़ दी 4 लाठियां...

दुर्गा पूजा में महिलाओं की सुरक्षा के लिए शक्ति कमांडो तैयार, रांची पुलिस ने बनाया मास्टरप्लान

दुमका में भतीजी से गैंगरेप के दोषी चाचा सहित 3 को आजीवन कारावास, ताउम्र जेल में रहेंगे


खुली पड़ी हैं अधिकांश खदानें 

बताया जा रहा है कि बच्चे बिना बताए घर से नहाने के लिए गए थे. सम्भवतः पानी की गहराई का अंदाजा ना होने के कारण दोनों बच्चे की डूबने से मौत हुई है. फ़िलहाल शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल सोनाजोड़ी भेज दिया गया है. बता दें, पाकुड़ जिले मैं खनिज विभाग द्वारा स्वीकृति दी गई  अधिकांश खदाने खुली पड़ी हुई है जो रोज मौत को न्योता दे रही है.

खदान मालिक नहीं कर रहे चारदीवारी का निर्माण 

इन खदानों में अनेको बार घटनाएं भी घटित हो चुकी है उसके बावजूद भी खनिज विभाग द्वारा खदान मालिकों से चारदीवारी निर्माण नहीं करवा पा रही है. अधिकांश खदाने इतनी गहरी हो चुकी है की उन खदानों में से पानी भी निकलना शुरू हो गया है जिस कारण क्षेत्र का जलस्तर भी दिन-प्रतिदिन गहरा होता जा रहा है. खदाने खुली होने के कारण इन खदानों में पशु पक्षी गिर जाते हैं जिनकी मौत हो जाती है

Tags:Coal mines, Jharkhand news, Pakur news

अधिक पढ़ें