लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबफूडविधानसभा चुनावमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सक्रिकेटलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नरMission Swachhta Aur Paani#RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency#News18Showreel
होम / न्यूज / जीवन शैली /

सॉइल पॉल्यूशन से बढ़ रहा हार्ट डिजीज का खतरा ! प्लास्टिक और पेस्टिसाइड बन रहे जान के 'दुश्मन'

सॉइल पॉल्यूशन से बढ़ रहा हार्ट डिजीज का खतरा ! प्लास्टिक और पेस्टिसाइड बन रहे जान के 'दुश्मन'

पॉल्यूशन की वजह से लोग कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं. प्लास्टिक का ज्यादा इस्तेमाल वातावरण से लेकर हमारी हेल्थ को बुरी तरह प्रभावित कर रहा है. इससे होने वाले नुकसानों के बारे में जान लेते हैं.

हार्ट डिजीज के अलावा भी पॉल्यूशन से कई बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है.

हार्ट डिजीज के अलावा भी पॉल्यूशन से कई बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है.

हाइलाइट्स

एक हालिया स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है.
प्लास्टिक और पेस्टिसाइड सॉइल को प्रदूषित कर रहे हैं.

Soil Pollution and Health: वर्तमान समय में बढ़ता प्रदूषण लोगों की हेल्थ के लिए खतरनाक साबित हो रहा है. बड़ी संख्या में लोग इसकी वजह से हार्ट, किडनी और लंग्स की गंभीर बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं. आमतौर पर लोग एयर और वॉटर पॉल्यूशन की चर्चा करते हैं, लेकिन सॉइल पॉल्यूशन पर ज्यादा फोकस नहीं किया जाता. क्या आप जानते हैं कि बढ़ता सॉइल पॉल्यूशन कई हार्ट डिजीज का खतरा बन सकता है. प्लास्टिक और पेस्टिसाइड का बेहताशा यूज होने से जमीन से उगने वाले खाद्य पदार्थ स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक साबित हो रहे हैं और परेशानियों की वजह बन रहे हैं. सॉइल पॉल्यूशन और हेल्थ का सीधा कनेक्शन होता है, जिसके बारे में कम लोग ही जानते हैं.

यह भी पढ़ेंः नॉन-वेज अवॉइड करने से कम हो सकता है कैंसर का खतरा? जानें जरूरी बातें

जानें क्या कहती है स्टडी?

मेडिकल न्यूज़ टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक एक हालिया स्टडी में खुलासा हुआ है कि सॉइल पॉल्यूशन की वजह से कार्डियोवैस्कुलर डिजीज का खतरा तेजी से बढ़ रहा है. इस स्टडी में कहा गया है कि खाद्य पदार्थों को उगाने के लिए स्वस्थ मिट्टी, साफ हवा, जैव विविधता और स्वच्छ पानी की जरूरत होती है. जमीन को जब यह सभी चीजें प्रदूषित मिलती हैं, तो इसका असर फसल पर पड़ता है. इससे बनने वाले खाद्य पदार्थ स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाते हैं. सॉइल पॉल्यूशन की सबसे बड़ी वजह मैक्रो और माइक्रो प्लास्टिक, डिफॉरेस्टेशन, पेस्टिसाइड्स, ओवर फर्टिलाइजेशन और हेवी मेटल्स हैं. इसके अलावा प्रदूषित पानी और हवा भी मिट्टी के लिए खतरनाक होती है.

यह भी पढ़ेंः क्या बारिश के मौसम में ज्यादा खतरनाक हो जाता है Covid-19 संक्रमण?

इन बीमारियों का भी बढ़ता है खतरा

स्टडी में कहा गया है कि हर साल करीब 2.50 करोड़ एग्रीकल्चर वर्कर पेस्टिसाइड पॉइजनिंग से बुरी तरह प्रभावित होते हैं. पेस्टिसाइड का अत्यधिक यूज ना सिर्फ हार्ट के लिए खतरनाक होता है, बल्कि यह डायबिटीज, कैंसर, अस्थमा जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा पैदा कर देता है. इसके अलावा कई बार चक्कर आना, जी मिचलाना, स्किन और आई इरिटेशन, सिरदर्द जैसी परेशानियां भी हो जाती हैं. सभी तरह का प्रदूषण एक वैश्विक समस्या है और इससे प्रभाव से बचना काफी मुश्किल हो गया है. इस तरह की समस्याओं से बचने के लिए लोगों को फलों और सब्जियों को अच्छी तरह साफ करने के बाद ही खाना चाहिए. पोषक तत्वों से भरपूर चीजों को डाइट में शामिल करना चाहिए. किसी भी तरह की समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. फिट और हेल्दी रहने के लिए पूरे प्रयास करने चाहिए.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Health, Heart Disease, Lifestyle, Pollution

FIRST PUBLISHED : July 14, 2022, 16:35 IST
अधिक पढ़ें