दिग्विजय ने लगाई समन्वय की पाठशाला, गुटबाजी दूर करने की कोशिश

दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को समन्वय की बैठक कर सभी नेताओं को चुनाव में एक रहने की सलाह दी. उन्‍होंने नेताओं को दो टूक कहा है कि आगामी चुनाव में टिकट किसी को भी मिले, सभी को एकजुट रहते हुए कांग्रेस के पक्ष में काम करना है.

Anurag Shrivastav , News18 Madhya Pradesh
मध्‍यप्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेसियों को एकजुट करने में लगे दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को राजधानी भोपाल में बैठक की. उन्‍होंने न सिर्फ पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से मिशन 2018 को फतह करने में मदद मांगी बल्कि कांग्रेस के पक्ष में वोट डालने का संकल्प भी दिलाया.कभी कांग्रेस के लिए बड़ी जीत का केंद्र रहने वाला भोपाल अब बीजेपी के गढ़ में तब्दील है और कांग्रेस की चिंता बीजेपी का गढ़ बन चुकी राजधानी की सात में से छह सीटों में सेंध लगाने की है. यहीं कारण है कि विधानसभा चुनाव में बीजेपी को पछाड़ने के लिए कांग्रेस ने दिग्विजय सिंह को जिम्मेदारी सौपी है.कांग्रेस में समन्वय समिति के अध्यक्ष दिग्विजय सिंह यहां दोबारा कांग्रेस राज स्थापित करने के लिए खासा पसीना बहा रहे हैं. दिग्विजय सिंह ने लगातार दो दिन भोपाल में डेरा डालकर पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से लंबी मुलाकात की.दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को समन्वय की बैठक कर सभी नेताओं को चुनाव में एक रहने की सलाह दी. उन्‍होंने नेताओं को दो टूक कहा है कि आगामी चुनाव में टिकट किसी को भी मिले, सभी को एकजुट रहते हुए कांग्रेस के पक्ष में काम करना है.दिग्विजय ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संकल्प दिलाया कि इस बार चुनाव में सभी कांग्रेस के पक्ष में मतदान करेंगे. दिग्विजय ने साफ कहा है कि टिकट के दावेंदारों पर अंतिम फैसला स्टेट और सेंट्रल इलेक्शन कमेटी करेगी और सभी को पार्टी का फैसला मानना होगा.हालांकि दिग्विजय की समन्वय समिति की बैठक में राजधानी की विधानसभा सीटों पर कांग्रेस के दावेदारों ने जमकर शक्ति प्रदर्शन किया, लेकिन खास बात ये रही है कि दिग्विजय के समन्वय में पार्टी के सभी छोटे और बड़े नेता एक मंच पर नजर आए.गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह अब तक प्रदेश के पैंतीस जिलों में समन्वय की बैठक कर सवा लाख लोगों को कांग्रेस के पक्ष में मतदान का संकल्‍प दिला चुके हैं और साथ ही पंगत में भोजन कर एकजुटता का पाठ पढ़ा चुके हैं, लेकिन टिकट वितरण के साथ खड़े होने वाले घमासान से निपट पाना कांग्रेस पार्टी के लिए कितना आसान होगा, ये टिकट वितरण के साथ ही पता चल जाएगा.

Trending Now