Home / News / madhya-pradesh /

shivraj singh chouhan to close cases of 2018 gwalior chambal violence bjp on mission 2023 big political move mpns

मिशन-2023 में जुटे सीएम शिवराज, खत्म कराएंगे ग्वालियर-चंबल में 4 साल पहले हुई हिंसा के केस

MP Big Story: एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वे 2018 में हुई ग्वालियर-चंबल हिंसा के केस खत्म कराएंगे.

MP Big Story: एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वे 2018 में हुई ग्वालियर-चंबल हिंसा के केस खत्म कराएंगे.

BJP Mission 2023: अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी सवर्ण और दलित के बीच की खाई पाटना चाहती है. इसी मुद्दे को लेकर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ग्वालियर पहुंचे और दोनों समाजों के प्रतिनिधियों से बैठक की. ये बैठकें ग्वालियर में 2 अप्रैल 2018 को हुई हिंसा को लेकर थीं. बैठक के बाद सीएम ने कहा कि "आज सामाजिक समरसता के नए युग का प्रारंभ हो रहा है." ग्वालियर-चंबल संभाग में दोनों समाजों ने इच्छा प्रकट की है कि उनके बीच खाई नहीं रहनी चाहिए. इसलिए जल्द ही हिंसा के दौरान बने प्रकरणों को खत्म करने के लिए सरकार ठोस कदम उठाएगी.

ग्वालियर. मप्र विधानसभा चुनाव से से पहले मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सवर्ण और दलित के बीच खाई को पाटने की कवायद की है . रविवार को उन्होंने ग्वालियर में 2 अप्रैल 2018 को हुई हिंसा के मामले में 2 बैठकें की. सीएम ने अलग-अलग बैठकों में अनुसूचित जाति और सवर्ण समाज के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा की. उसके बाद सीएम ने कहा कि “आज सामाजिक समरसता के नए युग का प्रारंभ हो रहा है.” ग्वालियर-चंबल संभाग में दोनों समाजों ने इच्छा प्रकट की है कि उनके बीच खाई नहीं रहनी चाहिए. इसलिए जल्द ही हिंसा के दौरान बने प्रकरणों को खत्म करने के लिए सरकार ठोस कदम उठाएगी.

मुख्यमंत्री शिवराज ने केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की मौजूदगी में ये बैठकें की. इनमें 2018 में ग्वालियर-चंबल में हुई हिंसा के बाद दोनों वर्गों में समरसता बढ़ाने पर चर्चा की गई. दोनों समाजों के प्रतिनिधियों से सीएम ने सामंजस्य के साथ आगे बढ़ने की अपील की. दोनों ही पक्षों ने उनकी पहल पर अपनी सहमति जताई और हिंसा के दौरान बने प्रकरणों को वापस लेने की गुजारिश की. बैठक के बाद सीएम ने कहा कि 2 अप्रैल 2018 की घटना से जो वैमनस्यता पैदा हुई थी, समरसता टूटी थी, उस खाई को समाप्त किया जाए.


मां के दूध में दरार नहीं डालनी चाहिए- सीएम

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि उस समय दोनों तरफ से कई प्रकरण बने थे. दोनों पक्षों ने प्रकरणों को वापस लेने की मांग की है. सीएम ने कहा – मां के दूध में दरार नहीं डालनी चाहिए, दिलों को एक होना चाहिए. आज मेरे मन में एक संतोष है कि हमारा समाज टूटेगा नहीं. हम मिलकर साथ चलेंगे और इस दिशा में सरकार पूरी गंभीरता से कदम उठाएगी.

आपके शहर से (ग्वालियर)

एमपी: आपके काम की खबर, अगर यूपी जा रहे हैं तो रात में इस पुल से न जाएं, ये है वजह

रणजी ट्रॉफी के फाइनल में शानदार प्रदर्शन करने वाले बल्लेबाज यश दुबे का इस जिले से है खास नाता

रणजी ट्रॉफी फाइनल: 88 साल में पहली बार एमपी टीम ने किया चमत्कार, सीएम ने दी बधाई

एमपी पंचायत चुनाव: प्रत्याशियों की गैरहाजिरी में हुई मतगणना, इस पोलिंग बूथ पर मचा बवाल

एमपी पंचायत चुनाव: रात में खाना खाकर सोई, सुबह नहीं उठी इस गांव की नई सरपंच; पसरा मातम

महाराष्ट्र सियासी उठापटक का एमपी कनेक्शन! नामी नेता गोपनीय तरीके से पहुंचे इंदौर, उठ रहे सवाल

एमपी: बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने बोला हमला, कहा- कांग्रेस में अंग्रेजों के जीन्स, इनका खात्मा जरूरी

गर्लफ्रेंड से मिलने पहुंचा प्रेमी, वो निकली बहन, दोनों थे रिश्ते थे अनजान; परिजनों ने पेड़ से बांधा और फिर...

प्रशासन निष्पक्ष तरीके से कराए पंचायत चुनाव, याद रहे 15 महीने बाद बनेगी हमारी सरकार: कमलनाथ

पत्नी की पिटाई देख पुलिस के भी उड़े होश, इस वजह से जल्लाद बन बैठा पति; मौके से हुआ फरार

पाकिस्तानी बॉयफ्रेंड के प्यार में पागल हुई लड़की, यहां से क्रॉस कर रही थी बॉर्डर, लेकिन...


हिंसा में गई थी 7 लोगों जान

आपको बता दें कि 2 अप्रैल 2018 को एट्रोसिटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ आंदोलन हुआ था. भारत बंद के दौरान दो पक्षों के बीच विवाद के बाद जमकर हिंसा हुई थी. उसमें पूरे ग्वालियर चंबल अंचल में हिंसा के दौरान 7 लोगों की मौत हुई थी. 200 से ज्यादा लोग घायल हुए थे. हिंसा के बाद ग्वालियर चंबल कई दिनों तक कर्फ्यू की चपेट में रहा. इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई थीं. ग्वालियर, भिंड, मुरैना में दर्जनों एफआईआर दर्ज हुई थीं.

Tags:Gwalior news, Mp news, Shivraj singh chouhan