भाषा चुनें :

हिंदी

एके-47 तस्करी मामला : सीनियर स्टोर मैनेजर का दफ्तर सील

एके-47 तस्करी मामले में जबलपुर पुलिस ने सीओडी स्थित सीनियर स्टोर मैनेजर सुरेश ठाकुर का दफ्तर सील कर दिया है.

News18Hindi |

मध्‍यप्रदेश के जबलपुर स्थित सेंट्रल ऑर्डनेंस डिपो (सीओडी) से एके-47 तस्करी मामले में जबलपुर पुलिस ने सीओडी स्थित सीनियर स्टोर मैनेजर सुरेश ठाकुर का दफ्तर सील कर दिया है. सोमवार देर शाम तक सीओडी फैक्टरी में पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने पूरे दस्तावेजों को खंगाला था और एक डायरी भी जब्‍त की है, जिसमें इस तस्करी से जुड़ी अहम जानकारियां पुलिस के हाथ लग गई हैं.


यह भी पढ़ें : जबलपुर आर्म्स डिपो से बिहार में AK-47 की स्मगलिंग, मुंगेर पुलिस का खुलासा


दफ्तर से मिली इस डयरी में एके-47 समेत अन्य उपकरणों की सप्लाई और लेन-देन का ब्यौरा जबलपुर पुलिस को मिला है. खास बात ये है कि पूरी तस्करी का खेल कोडवर्ड में खेला जाता था. इसे हल करने के लिए जबलपुर पुलिस ने मिलिट्री इंटेलीजेंस की मदद ली है.


यह भी पढ़ें : सुरक्षा संस्थान से AK 47 की तस्करी में शामिल थी जबलपुर की ये महिला


सीओडी के सीएसएसडी सेक्‍शन में पदस्थ्‍ा सीनियर स्टोर मैनेजर सुरेश ठाकुर और एक्स आर्मोरर पुरुषोत्तमलाल रजक से जांच में में 70 से अधिक एके-47 की सप्लाई की जानकारी हाथ लगी है. वही बिहार के मुंगेर में पकड़े गए एक्स आर्मोरर नियाजुल हसन के कनेक्‍श की भी जांच की जा रही है.


यह भी पढ़ें : सुरक्षा संस्थान जबलपुर से मुंगेर तक ऐसे होती थी AK 47 की तस्करी


न्यूज़ 18 से खास बातचीत में जबलपुर एसपी अमित सिंह ने बताया कि न केवल जबलपुर बल्कि देश के अन्य सुरक्षा संस्थानों में भी तस्करी के तार हो सकते हैं, जिसकी जांच के लिए जबलपुर पुलिस काम कर रही है.


यह भी पढ़ें : आतंकवादियों से जुड़े हो सकते हैं एके-47 के अंतरराज्यीय तस्करों के तार


उन्‍होंंने कहा कि चूंकि जबलपुर में पकड़े गए एक्स आर्मोरर पुरुषोत्तमलाल रजक और बिहार में पकड़े गए एक्स आर्मोरर नियाजुल हसन अलग-अलग सुरक्षा संस्थानों में पदस्थ रहे हैं, ऐसे में एक से अधिक सुरक्षा संस्थानों का तस्करी मे कनेक्‍शन मिल रहा है. वही मिलिट्री इंटेलीजेंस, एटीएस भी पूरे मामले में जांच कर रही है.