लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / मध्य प्रदेश /

Inside Story: आयुष्मान भारत और पोषण आहार घोटाले खुलते तो नप जाते सीनियर अफसर, इसलिए लोकायुक्त डीजी को ही हटवा दिया

Inside Story: आयुष्मान भारत और पोषण आहार घोटाले खुलते तो नप जाते सीनियर अफसर, इसलिए लोकायुक्त डीजी को ही हटवा दिया

महज छह महीने में मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने लोकायुक्त डीजी कैलाश मकवाना को हटा दिया. उनकी गिनती मध्यप्रदेश के सबसे ईमानदार पुलिस अफसरों में है. उनके हटने की पूरी कहानी न्यूज 18 पर एक्सक्लुसिव पढ़िए...

कैलाश मकवाना को लोकायुक्त डीजी पद से हटाने पर सोशल मीडिया पर लोग सरकार को जमकर ट्रोल कर रहे हैं. उनके समर्थन में कई अफसरों ने भी पोस्ट लिखी है. (फाइल फोटो)

कैलाश मकवाना को लोकायुक्त डीजी पद से हटाने पर सोशल मीडिया पर लोग सरकार को जमकर ट्रोल कर रहे हैं. उनके समर्थन में कई अफसरों ने भी पोस्ट लिखी है. (फाइल फोटो)

हाइलाइट्स

आयुष्मान भारत और पोषण आहार योजना में हो रहे भ्रष्टाचार पर कार्रवाई करने के लिए मकवाना ने लिखी थी चिट्‌ठी
इन मामलों की भनक लगते ही बड़े अफसर सक्रिय हुए और लोकायुक्त की सिफारिश पर मकवाना को हटा दिया गया.

भोपाल. दबंग और ईमानदार पुलिस अफसरों में शुमार लोकायुक्त डीजी कैलाश मकवाना को शिवराज सरकार ने महज छह महीने में ही हटा दिया. मप्र के इतिहास में पहली बार आईएएस अफसर रमेश थेटे को रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ने वाले मकवाना को पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन भेजा गया है. न्यूज 18 में एक्सक्लुसिव पढ़िए मकवाना के हटाए जाने की कहानी…

1988 बैच के आईपीएस अधिकारी कैलाश मकवाना ने लोकायुक्त डीजी बनते हुए आईएएस अफसरों के खिलाफ मामले दर्ज करना शुरू कर दिए थे. कुछ वक्त पहले महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा कुपोषित बच्चों को पोषण आहार में बड़ा घोटाला सामने आया. कैग ने यह फर्जीवाड़ा उजागर करते हुए मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस कार्रवाई के निर्देश दिए थे. वहां तो यह मामला दब गया लेकिन मकवाना ने घोटाले की जांच के लिए लोकायुक्त को फाइल भेजी थी. सूत्र बताते हैं कि लोकायुक्त ने इस मामले में कोई कार्रवाई करने के बजाए मप्र सरकार को बताकर मकवाना के स्थानांतरण के लिए तैयार किया. इसी बीच एक और मामले में सरकार के बड़े अफसरों की सांसे अटक गईं. यह मामला आयुष्मान भारत योजना से जुड़ा था. इसमें सरकार के चहेते और बड़े अफसर जांच की जद में आ रहे थे. जैसे ही मकवाना इसकी फाइल भेजी, वैसे ही सरकार ने उनका ट्रांसफर आर्डर थमा दिया.यह भी पढ़ें : शिकायत गुमने का बहाना नहीं बना सकेगी पुलिस, करनी होगी एंट्री

सबसे बड़ी वजह… बड़े अफसर पर एफआईआर का था खतरा
स्वास्थ विभाग में पदस्थ रहीं राज्य प्रशासनिक सेवा की अफसर सपना लोवंशी आयुष्मान भारत योजना की वजह से विवादों में चल रही हैं. उनसे संबंधित एक वीडियो भी इस समय सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इसमें कथित तौर पर खुद को सपना का देवर बताने वाला विमल नौ लाख रुपये एक हॉस्पिटल संचालक से लेता दिखाई दे रहा है. सूत्र बताते हैं कि मकवाना ने यह वीडियो देखकर योजना से जुड़े सभी अफसरों के खिलाफ जांच के लिए फाइल लिख दी थी. इसकी जद में सरकार के सबसे पसंदीदी और सीनियर ऑफिसर भी आ रहे थे. वहीं, सपना के खिलाफ कुछ दिन पहले लोकायुक्त पुलिस को कई गंभीर शिकायतें भी मिली थी. मकवाना ने इस मामले में कार्रवाई के लिए फाइल लोकायुक्त गुप्ता को भेजी थी, लेकिन उन्होंने न सिर्फ इस फाइल को नस्तीबद्ध कर दिया बल्कि सरकार तक फिर यह सूचना पहुंचा दी कि मकवाना किस तरह से सरकार के चहेते अफसरों के खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं.यह भी पढ़ें : भोपाल के पास भी है खजुराहो जैसी बेजोड़ शिल्पकला, पुरातात्विक खोज में मिले 24 मंदिर 

आपके शहर से (भोपाल)

Shajapur news: पुलिस ने लौटाई अभिभावकों की मुस्कान, ढूंढ निकाले लापता 96 बच्चे

खूबसूरत गोंड रानी के पीछे पड़ गया था अफगान सरदार, आबरू बचाने के लिए ली थी जलसमाधि; खजाना बना रहस्‍य

आर्मी जवान के सीने में धड़केगा व्‍यवसायी का दिल, मरकर भी दे गए जीवनदान; इंदौर में एक ही दिन में बने 3 ग्रीन कॉरिडोर

पठान विवाद: इंदौर को 'आग लगाने' की बात कहने वाले के होश आए ठिकाने, कान पकड़कर मांगी माफी

Accident in Seoni : सिवनी में ट्रेन के इंजन ने मारी इंस्पेक्शन ट्राली को टक्कर, दो की मौत, तीन लोग गंभीर घायल

शिवराज का कमलनाथ से तीसरा सवाल : डोली उठ गई पर कन्यादान योजना की राशि नहीं पहुंची

Shivpuri news: बिगड़ती गई आठ दिन के मासूम की सेहत, टोल पर फंसी रही एंबुलेंस

गर्भवती महिला ASI की थाने में हुई गोद भराई, पुलिस स्‍टेशन कैंपस में जश्‍न का माहौल; खुशी से छलछला उठीं आखें

Khandwa News : ओडिशा के मंत्री की तर्ज पर खंडवा में भी हुई थी पूर्व मंत्री की 2006 में हत्या

Education News: राजस्थान में सबसे अधिक विश्वविद्यालय, UP में सबसे अधिक कॉलेज, देखें पूरी रिपोर्ट

बदमाशों को नहीं भगवान का डर, मंदिर में घुसकर महंत के सीने पर तानी बंदूक, दानपेटी से लूटी नगदी


मुख्यमंत्री के भी चहेते अफसर रहे हैं मकवाना
मुख्यमंत्री चौहान भी मकवाना की कार्यप्रणाली को पसंद करते हैं. यही वजह थी कि कई दावेदार होने के बावजूद मुख्यमंत्री ने मकवाना को लोकायुक्त में पदस्थ किया था. वहीं, मकवाना ने लोकायुक्त एसपी रहते हुए आईएएस अफसर रमेश थेटे को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था. मप्र के इतिहास में यह पहला मौका था, जब कोई आईएएस अफसर रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया था. अपने छह महीने के छोटे से कार्यकाल में भी मकवाना ने भ्रष्ट अधिकारियों को हिला कर रख दिया था. उन्होंने आईएएस अफसर तरुण भटनागर, आईएफएस अफसर सत्यानंद समेत कई अधिकारियों के खिलाफ मामले दर्ज किए थे.

लोकायुक्त से नहीं मिल रही थी कार्रवाई की अनुमतियां
लोकायुक्त पुलिस को कोई भी कार्रवाई करने के पहले लोकायुक्त संगठन से अनुमति लेनी होती है. यह अनुमति कब मिलेगी, इसकी कोई समय सीमा भी नहीं है. वहीं, मकवाना ने ऐसे कई गंभीर मामले पकड़ लिए थे जिसमें अधिकारियों के खिलाफ ठोस सबूत और दस्तावेज थे. मकवाना ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई चाहते थे, लेकिल लोकायुक्त अनुमति देने के लिए तैयार नहीं थे. इस वजह से दोनों के बीच पटरी नहीं बैठ रही थी.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Bhopal News Updates, Bjp madhya pradesh, Chief Minister Shivraj Singh Chauhan, IAS, Lokayukta, Madhya pradesh latest news, MP Police

FIRST PUBLISHED : December 04, 2022, 19:36 IST
अधिक पढ़ें