Home / News / madhya-pradesh /

gram panchayat purva angry people to boycott voting in madhya pradesh panchayat chunav know shocking reason mpns

एमपी: रीवा के गांव में पंचायत चुनाव का बहिष्कार, इस बात से नाराज लोग वोट डालने को राजी नहीं

Rewa News: रीवा की पूर्वा ग्राम पंचायत के लोगों ने पंचायत चुनाव के बहिष्कार का फैसला किया है.

Rewa News: रीवा की पूर्वा ग्राम पंचायत के लोगों ने पंचायत चुनाव के बहिष्कार का फैसला किया है.

MP Panchayat Polls: मध्य प्रदेश के रीवा जिले के पूर्वा गांव के लोग खासे नाराज हैं. आज होने जा रहे पंचायत चुनाव का उन्होंने बहिष्कार कर दिया है. वह वोट नहीं डालेंगे. पूर्वा ग्राम पंचायत रायपुर कर्चुलियान जनपद पंचायत में आती है. यहां के लोगों का कहना है कि गांव में सड़क नहीं बन पा रही. बारिश में हालात बद्तर हो जाते हैं. उन्होंने बताया कि बारिश होते ही यहां पूरे इलाके में कीचड़ हो जाती है. इसके लिए अधिकारियों और कई बार लिखित और मौखिक शिकायत की गई है, लेकिन किसी ने सुनवाई नहीं की. इसलिए ग्रामीणों ने इस बार फैसला किया है ‘रोड नहीं तो वोट नहीं’.

रीवा. त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव आते ही ग्रामीण क्षेत्रों में सरगर्मियां तेज हो गई हैं. मध्य प्रदेश के रीवा जिले में पंचायत चुनाव तीन चरणों में कराया जाना था. पहले चरण का चुनाव पूरा होने के बाद अब शुक्रवार को दूसरे चरण का चुनाव है. लेकिन, इस चुनाव के बीच कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों का भारी आक्रोश देखने को मिल रहा है. जनपद पंचायत रायपुर कर्चुलियान की ग्राम पंचायत पूर्वा के ग्रामीणों ने पंचायत चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला किया है. ग्रामीणों का कहना है कि गांव में सड़क तक नहीं बन पा रही है. सुविधाओं के लिए वह कई बार अधिकारियों को लिखित व मौखिक कह चुके हैं, लेकिन अब तक सुनवाई नहीं हुई. ऐसी स्थिति में वह अपने मताधिकार का उपयोग क्यों करें?

ग्राम पंचायत पूर्वा के लोग पिछले कई सालों से मूलभूत सुविधाओं का इंतजार कर रहे हैं. लेकिन, अब तक कुछ नहीं हो सका. विकास से कोसों दूर ग्राम पूर्वा के निवासी अब काफी आक्रोश में दिखाई दे रहे है. इस गांव के लोग पिछले कई सालों से सड़क के लिए तरस रहे हैं. सड़क नहीं होने से उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इसलिए उन्होंने चुनाव का बहिष्कार करने की ठान ली है. ग्रामीणों ने ‘रोड नहीं तो वोट नहीं’ का नारा दिया है. उनकी मानें तो रास्ता न होने से बरसात के दिनों में गांव की हालात बद से बदतर हो जाती है. चारों तरफ कीचड़ ही कीचड़ हो जाता है.  बीमारी व अन्य परेशानी होने पर कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है.


इतने परेशान हैं ग्रामीण
ग्रामीणों ने बताया कि गांव में न ही एंबुलेंस आती है और न ही कोई शासकीय सुविधा. जैसे-तैसे पगडंडी वाले रास्तों से होकर ग्रामीण गांव तक पहुंचते हैं. सड़क नहीं होने से ग्रामीणों के साथ ही बच्चों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. यहां तक कि बरसात के दिनों में बच्चे स्कूल तक नहीं जा पाते, जिससे उनकी पढ़ाई भी बाधित होती है. ग्रामीणों ने इस समस्या को लेकर कई बार प्रशासनिक अधिकारियों से लेकर जनप्रतिनिधियों से लिखित व मौखिक शिकायत की, लेकिन कई साल बीत जाने के बाद भी आज तक कोई सुनवाई नहीं हुई है. इसको लेकर ग्रामीणों में काफी आक्रोश है और नाखुश मतदाताओं ने पंचायत चुनाव का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है.

आपके शहर से (रीवा)

 अखिलेश यादव का ऐलान : समाजवादी पार्टी एमपी विधानसभा चुनाव 2023 पूरे दमखम से लड़ेगी

MP: 'धनकुबेर' ARTO संतोष पाल को पहले लग गई थी छापे की भनक! क्यों हुई कार्रवाई में देरी?

बहू ने ही चुराए 6 लाख के जेवर, बहन और जीजा ने भी दिया साथ; वजह जानकर पुलिस भी हैरान

PHOTOS: भगवान श्रीकृष्ण ने इस आश्रम में सीखी थीं 64 कलाएं, बलराम-सुदामा के साथ की थी पढ़ाई

Shocking : घर में खेलते-खेलते दूसरी मंजिल की बालकनी से नीचे गिरी बच्ची, हालत गंभीर

जानलेवा उफनते नदी-नाले : कैप्टन और पटवारी का शव बरामद, तहसीलदार की तलाश में एनडीआरएफ की टीम उतरी

जन्माष्टमी : भगवान श्रीकृष्ण का ऐसा मंदिर जहां ज्ञान रूपी ग्रंथ की होती है पूजा

गृहमंत्री अमित शाह 22 अगस्त को भोपाल आएंगे, ये है उनका मिनट टू मिनट शेड्यूल

भोपाल एम्स के डॉक्टर्स ने दो दिन के बच्चे के शरीर में बना दी आहार नली, मप्र-छग में पहली बार इतने छोटे बच्चे की जटिल सर्जरी

MP: प्रीतम सिंह लोधी को BJP ने किया पार्टी से निष्कासित, ब्राह्मणों पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी

एक चूक के कारण चर्चा में आ गया शिक्षा विभाग का आदेश, आनन फानन में किया सुधार


Tags:Mp news, Rewa News