Home / News / madhya-pradesh /

shantanu shukla sagar student fought 3 year to increase 1 number in 12th marksheet mp highcourt decision gave 80 percent cgpg

मार्कशीट में 1 नंबर बढ़वाने के लिए लड़ी 3 साल लड़ाई, बोर्ड नहीं माना तो कोर्ट से बढ़वा लिए 28 अंक


Sagar News: मध्य प्रदेश के सागर के 12वीं के छात्र शांतनु शुक्ला ने मार्कशीट में 1 नंबर बढ़वाने तीन साल लड़ी लड़ाई. हाईकोर्ट के फैसले के बाद मिले 80%.

Sagar News: मध्य प्रदेश के सागर के 12वीं के छात्र शांतनु शुक्ला ने मार्कशीट में 1 नंबर बढ़वाने तीन साल लड़ी लड़ाई. हाईकोर्ट के फैसले के बाद मिले 80%.

Sagar Latest News: यह है कहानी मध्य प्रदेश के सागर (Sagar News Today) जिले के परकोटा के रहने वाले शांतनु शुक्ला (Shantanu Shukla) की. जिद और जुनून की बदौलत उन्होंने असंभव को संभव कर दिखाया. उन्होंने 12th की मार्कशीट में 1 नंबर बढ़वाने के लिए शांतनु ने माध्यमिक शिक्षा मंडल (Board of Secondary Education, Madhya Pradesh) से लेकर हाईकोर्ट (mp High Court) तक लड़ाई लड़ी लेकिन हिम्मत नहीं हारी और पूरे 28 अंक बढ़वा लिए. शांतनु ने 40 से ज्यादा पेशियां की और अपनी जेब से पंद्रह हजार रुपये खर्च किए लेकिन हिम्मत नहीं हारी. दरअसल, शांतनु ने 2018 में एमपी बोर्ड 12वीं की परीक्षा में 74.8% अंक से पास की थी. उसे पूरा भरोसा था कि मार्क्स 75 से 80 % के बीच में आएंगे लेकिन एक नंबर कमा आने से वह 75% के पार नहीं जा सका और सीएम की मेधावी योजना का लाभ भी नहीं उठा सका. जब दोबारा उसकी कॉपी चेक होकर आई तो उसे 1 की जगह 28 नंबर मिले. शांतनु के माता-पिता नहीं हैं. 2010 में पिता का देहांत हो गया था. वे चार बहनों के इकलौता भाई हैं.

सागर. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सागर (Sagar) के कक्षा 12वीं के स्टूडेंट शांतनु शुक्ला (Shantanu Shukla) ने अपने 12th की मार्कशीट में एक नंबर बढ़वाने के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल (Board of Secondary Education, Madhya Pradesh) से लेकर हाईकोर्ट (mp High Court) तक लड़ाई लड़ी. 3 साल बाद उसकी मेहनत रंग लाई. जब दोबारा उसकी कॉपी चेक होकर आई तो उसे 1 की जगह 28 नंबर मिले. छात्र ने 40 से ज्यादा पेशियां कीं, केस लड़ने के लिए तीन साल में 15 हजार रुपये खर्च किए. 12वीं की बोर्ड परीक्षा में पहले उसे 74.8% मार्क्स आए थे. जिसके बाद छात्र ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया और एक नंबर की जगह उसे 28 नंबर बढ़ गए.

कक्षा 12वीं की मार्कशीट में एक नंबर बढ़वाने के लिए सागर के स्टूडेंट ने माध्यमिक शिक्षा मंडल से लेकर हाई कोर्ट तीन साल की लड़ाई लड़ी. छात्र ने मार्क्स बढ़वाने को लेकर तीन साल तक  लड़ाई लड़ी और हार नहीं माना. जिसका परिणाम यह निकला कि युवा को एक नंबर की जगह 28 नंबर बढ़कर मिले. छात्र ने तीन साल में करीब 40 से ज्यादा पेशियां की और पंद्रह हजार खर्च किए.


शांतनु ने अपने आत्मविश्वास से जीती जंग

आपके शहर से (सागर)

उज्जैन में हुई थी फिल्म की शूटिंग, अब मुश्किल में फंसी नवाजुद्दीन सिद्दीकी की पत्नी आलिया, जानें पूरा मामला

आकाशीय बिजली ने बरपाया कहर : श्योपुर में 3 और ग्वालियर में 2 युवकों की मौत, 4 झुलसे

School Admission: मध्यप्रदेश में ऑनलाइन लाटरी से होंगे स्कूल एडमिशन, 2 लाख से ज्यादा बच्चों ने किया आवेदन

कड़ी सुरक्षा में इस जेल में बंद हैं ईवीएम : कांग्रेस को डर कहीं कोई छेड़छाड़ न कर दे

नतीजों से पहले ही कांग्रेस के इस हैविवेट नेता ने किया 2 लाख वोट से जीत का दावा, जनता से कहा-शुक्रिया

MP Weather Alert: मध्य प्रदेश में मानसून ने पकड़ी रफ्तार, भोपाल समेत इन 12 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

ग्वालियर-चंबल की राजनीति के दो केंद्र : ज्योतिरादित्य सिंधिया को इस्पात मंत्रालय मिलने के क्या हैं मायने

इंदौर TI सुसाइड केस: चश्मदीद महिला ASI का भाई झुलसा, परिवार ने बताया कैसे हुआ हादसा

Shocking : चुनावी रंजिश में ऐसी हैवानियत कि रोंगटे खड़े हो जाएं, युवक के पैर में छेद कर सरिया डाला फिर...

अमरावती उमेश कोल्हे हत्याकांड में चौंकाने वाला खुलासा, जानें मास्टरमाइंड इरफान का इंदौर कनेक्शन

पत्नी के लिए वोट मांगकर फंस गए बीएमओ साहब, सरकार ने बैठा दी जांच


सागर के परकोटा रहने वाले छात्र शांतनु शुक्ला ने 12 क्लास की पढ़ाई एक्सीलेंस स्कूल की थी. 2018 में एमपी बोर्ड 12वीं की परीक्षा में 74.8% अंक से पास की थी. जिसके बाद शांतनु को अपने आप पर पूरा भरोसा था कि मास्क 75 से 80 % के बीच में आएंगे. लेकिन एक नंबर कमा आने से वह 75 के पार नहीं जा सका और उसे सीएम की मेधावी योजना का लाभ भी नहीं मिल पाया. शांतनु के 28 नंबर पढ़ने से 81% अंक हो जाएंगे. जिससे उसे अब मेधावी छात्र योजना का लाभ मिलेगा. शांतनु अब मुख्यमंत्री मेधावी योजना के लिए फॉर्म भरेंगे. जिससे कि उन्हें लाभ मिलेगा. शांतनु के माता-पिता नहीं हैं. 2010 में पिता का देहांत हो गया था. वे चार बहनों के इकलौता भाई हैं.

ये भी पढ़ें:  कचौरी खाने लोको पायलट ने स्टेशन से पहले रोकता था ट्रेन, रेलवे ने लिया ये बड़ा एक्शन 

शांतनु का कहना है कि कोरोना की वजह से दो सालों तक इस मामले की सुनवाई नहीं हुई.  जब मामले की सुनवाई शुरू हुई तो कोर्ट ने बोर्ड को 6 नोटिस दिए, लेकिन उनकी ओर से कोई पक्ष नहीं रखा गया. उनका कहना है कि रीटोटलिंग के लिए अप्लाई किया तो उसमें 1 नंबर भी नहीं बढ़ा. फिर बोर्ड में अप्लाई कर सब्जेक्ट की कॉपी निकलवाई. प्रश्न के उत्तर पर सही टिक लगे थे, लेकिन इसके नंबर नहीं दिए गए थे. फिर साल 2018 में पिटीशन लगाई. कोर्ट ने सुनवाई करते हुए माध्यमिक शिक्षा मंडल को दोबारा मूल्यांकन करने के आदेश दिए. 21 फरवरी को नई मार्कशीट मिली जिसमें 80.4% अंक मिले हैं.



Tags:Mp news, Sagar news