राफेल डील पर एयरफोर्स चीफ ने किया सरकार का समर्थन, कहा- भारत के सामने है गंभीर खतरा

वायुसेना प्रमुख एयरचीफ मार्शल बिरेंदर सिंह धनोआ ने कहा कि चीन लगातार अपनी वायुसेना को मज़बूत कर रहा है. हमारे विरोधियों के विचार रातों-रात बदल सकते हैं, इसलिए हमें भी अपने विरोधियों जितनी ताकत जुटानी होगी.

news18 hindi , News18.com
वायुसेना प्रमुख एयरचीफ मार्शल बिरेंदर सिंह धनोआ ने विवादित राफेल डील के मुद्दे पर सरकार का समर्थन करते हुए कहा कि यह कदम एयर फोर्स के लड़ाकू विमानों के घटते बेड़े को बढ़ाने के लिए किया गया है. धनोआ ने 'आईएएफ फोर्स स्ट्रक्चर 2035' सेमिनार में अपने संबोधन के दौरान कहा कि राफेल फायटर जेट और एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम को उपलब्ध करा कर भारतीय वायुसेना को और भी मज़बूती प्रदान की है.ये भी पढ़ेंः चीन का हाइपरसॉनिक एयरक्राफ्ट, भारत के लिए कितना खतरनाक?धनोआ ने कहा कि जिस तरह का खतरा भारत के सामने है, वैसा किसी और देश के सामने नहीं है. हमारे पड़ोसी देश हाथ पर हाथ रखकर बैठे हुए नहीं हैं. चीन लगातार अपनी वायुसेना को मज़बूत कर रहा है. हमारे विरोधियों के विचार रातों-रात बदल सकते हैं, इसलिए हमें भी अपने विरोधियों जितनी ताकत जुटानी होगी.एयफोर्स चीफ का बयान ऐसा समय आया है, जब सरकार के ऊपर आरोप लग रहे थे कि राफेल डील में वह खुद को बचाने के सैन्य अधिकारियों का इस्तेमाल कर रही है. मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी और प्रशांत भूषण ने एक प्रेस कांफ्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि इस मामले में पीएम मोदी व्यक्तिगत रूप से दोषी हैं.ये भी पढ़ेंः भारतीय वायुसेना ने हल्के लड़ाकू विमान तेजस में हवा में ही ईंधन भरावायुसेना के उपप्रमुख एयरमार्शल एसबी देव ने भी इस डील का समर्थन किया था. उन्होंने कहा था कि यह बहुत ही बेहतरीन एयरक्राफ्ट है और जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं उनको इसे खरीदने के पूरे नियमों के बारे में पहले जानना चाहिए.पीएम मोदी ने 10 अप्रैल 2015 में अपनी फ्रांस यात्रा के दौरान दोनों सरकारों के बीच 58 हज़ार करोड़ रुपये में 36 राफेल विमान खरीदने का सौदा किया था.

Trending Now