Israel Embassy Blast: दिल्‍ली बम ब्‍लास्‍ट का ईरानी इनेक्‍शन! राजधानी में रह रहे ईरानियों से पूछताछ कर रही स्‍पेशल सेल

IED Blast near Israeli Embassy: पुलिस ने बताया कि इजारयल के दूतावास के नाम से लिखा एक नोट भी घटनास्थल पर पाया गया है. सूत्रों के मुताबिक इस नोट में धमकी दी गई है और कहा गया है कि यह ट्रेलर है.

Israel Embassy Blast: दिल्‍ली बम ब्‍लास्‍ट का ईरानी इनेक्‍शन! राजधानी में रह रहे ईरानियों से पूछताछ कर रही स्‍पेशल सेल
इजरायली दूतावास के बाहर ब्‍लास्‍ट उस वक्‍त किया गया था जब शुक्रवार को बीटिंग रिट्रीट का अयोजन हो रहा था.

नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली में इजरायली दूतावास (Israeli Embassy) के पास हुए धमाके (IED Blast) में दिल्ली पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों की जांच जारी है. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल विस्फोट के सिलसिले में राष्ट्रीय राजधानी में रह रहे कुछ ईरानियों से पूछताछ कर रही है. दिल्ली पुलिस के सूत्रों का कहना है कि जिन विदेशी नागरिकों से पूछताछ की जा रही है, उनमें वे भी शामिल हैं, जिनके वीजा समाप्त हो चुके हैं.

बता दें कि दूतावास के बाहर से जहां ब्लास्ट हुआ था वहां से पुलिस को गुलाबी रंग का एक दुपट्टा मिला है. दुपट्टे का क्या रहस्य है, इसका पता लगाया जा रहा है. ये वो गुलाबी दुपट्टा है जो ब्लास्ट वाली जगह पर आधा जला हुआ मिला है. लेकिन इसके रहस्य से पर्दा उठना अभी बाकी है.

पुलिस को मिला घटनास्थल पर एक नोट

पुलिस ने बताया कि इजारयल के दूतावास के नाम से लिखा एक नोट भी घटनास्थल पर पाया गया है. सूत्रों के मुताबिक इस नोट में धमकी दी गई है और कहा गया है कि यह ट्रेलर है. सूत्रों के अनुसार विस्फोट का लिंक ईरान से जुड़ रहा है. इजरायल पहले ही इसे आतंकवादी हमला करार दे चुका है. भारत सरकार भी इस मामले में गंभीर नज़र आ रही है.

ये भी पढ़ें: दिल्ली: धमाके के समय इलाके में काम कर रहे थे 45000 मोबाइल फोन, पुलिस को मिला डेटा

विस्फोट में कारों को हुआ नुकसान

उल्लेखनीय है कि दिल्ली के लुटियंस इलाके में औरंगजेब रोड पर स्थित इजराइली दूतावास के बाहर शुक्रवार की शाम मामूली आईईडी विस्फोट हुआ था. हालांकि धमाके में कोई हताहत नहीं हुआ. तीनों कारों के शीशे जरूर फूटे. अति-सुरक्षित इलाके में यह धमाका उस समय हुआ जब यहां से महज 2 किलोमीटर दूर गणतंत्र दिवस समारोहों के सपमान के तौर पर होने वाला 'बीटिंग रीट्रिट' कार्यक्रम चल रहा था, जिसमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वैकेंया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मौजूद थे.